मुश्किल में है Nescafe Coffee! अगली बार कॉफी पीना पड़ सकता है भारी, जानें वजह

Nescafe coffee

Nescafe coffee

अगर आप कॉफी पीने के शौकीन हैं वो भी Nescafe कॉफी तो आपके लिए बेहद जरूरी खबर है. अगली बार अगर आप कॉफी पीने जाएं तो हो सकता है आपको काॅफी ना मिलें. क्योंकि दुनियाभर में कॉफी की सप्लाई पर पर संकट आ गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 5:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आप कॉफी पीने के शौकीन हैं वो भी Nescafe कॉफी तो आपके लिए बेहद जरूरी खबर है. अगली बार अगर आप कॉफी पीने जाएं तो हो सकता है आपको काॅफी ना मिलें. या फिर आपको अधिक पैसे चुकाने पड़े. वजह है- दिल्ली से 4300 किलोमीटर दूर मिस्र की स्वेज नहर (Suez canel). जहां पिछले कुछ दिनों  से एक विशालकाय शिप फंसा हुआ है. कार्गो जहाज के फंसने से लाल सागर और भूमध्य सागर में ट्रैफिक जाम लग गया है. कई देशों में पेट्रोलियम पदार्थों की डिलवरी में देरी हो रही है. ट्रैफिक जाम में कम से कम 10 क्रूड ट्रैकर फंसे हैं, जिनमें 13 मिलियन बैरल कच्चा तेल लदा है. इसमें भारी संख्या में Nescafe कॉफी में उपयोग किए जाने वाले टाइपो कॉफी के कंटेनर भी शामिल हैं. इससे दुनियाभर में कॉफी की सप्लाई पर पर संकट आ गया है. सप्लाई में कमी के चलते आप तक शायद काॅफी देरी से पहुंचे. एवर गिव को फिर से फ्लोट करने और समुद्र में चलने वाले वाहक के लिए मार्ग की अनुमति देने के लिए कई सप्ताह भी लग सकते हैं. कार्गो फंसने के बाद से कच्चे तेल की कीमतों में उछाल आया है.ऐसे में काॅफी की सप्लाई ठप और मांग बढ़ने से दाम बढ़ने की संभावना है.

10 बिलियन डॉलर का माल प्रभावित

इस वजह से करीबन 10 बिलियन डॉलर माल प्रभावित हुआ है. इसमें भारी संख्या में Nescafe कॉफी में उपयोग किए जाने वाले टाइपो कॉफी के कंटेनर भी शामिल हैं. यूरोप स्वेज के माध्यम से आयात करने के रूप में सबसे अधिक प्रभावित होता है, लेकिन इसका असर वैश्विक स्तर पर महसूस किया जाएगा क्योंकि शिपिंग में देरी खाद्य कंटेनरों की कमी को बढ़ाती है जो खाद्य बाजारों को बढ़ाते हैं. बता दें कि जलमार्ग के अवरुद्ध होने से महामारी से जुड़ी ई-कॉमर्स पहले से ही वैश्विक आपूर्ति चेन की समस्या से जुझ रही थीं अब और झटका लग रहा है.

ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भावुक हुए रतन टाटा, लिखी दिल की बात और कहा- हारने या जीतने का मुद्दा नहीं बल्कि...
यूरोप में ग्राहकों को आपूर्ति के लिए हाहाकार

यूरोप में अपने ग्राहकों को आपूर्ति करने के लिए कारोबारियों में हाहाकार है. जेएल कॉफीकंसल्टिंग के संस्थापक जे लुहमन ने कहा कि हमदुनिया के सबसे बड़े कॉफी रोस्टरों में से एक हैं. हम भाग्यशाली हैं कि हमारे पास सप्लाई के लिए कुछ माल हैं वरना लगभग सब नुकसान ही हो गया है. वैश्विक व्यापार का लगभग 12% स्वेज के माध्यम से जाता है. बता दें कि नौवहन कंटेनरों की कमी के कारण महाद्वीप के कॉफ़ी रोस्टर जो कि पहले से ही दुनिया के सबसे बड़े रीफ़ेक्टर निर्माता वियतनाम से कॉफी प्राप्त करने के लिए संघर्ष कर रहे थे. अब जब उसमें सुधार हो ही रहा था कि अब येरुकावट व्यापारियों के लिए सिरदर्द बन गया है. स्विस कॉफी व्यापारी सुकाफीना एसए में रसद के प्रमुख राफेल हेमरलिन ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि उनके पास बफर स्टॉक है. वैश्विक स्तर पर काॅफी की कमी होगी. कॉफी का कारोबार करने वाले हैंस हेंड्रिक्सन ने कहा कि जब ट्रैफिक साफ हो जाएगा तो वे एंटवर्प और रोटरडम जैसे बंदरगाहों पर वापस आ जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज