Home /News /business /

बिग बुल की सुनने वालों, Big Bear की भी सुनो- 80-90% टूट सकते हैं आपके चहेते शेयर

बिग बुल की सुनने वालों, Big Bear की भी सुनो- 80-90% टूट सकते हैं आपके चहेते शेयर

शंकर शर्मा ने कहा कि 2022 के अंत तक अगर न्यू एज टेक कंपनियों के शेयर 80-90 फीसदी तक टूट जाएं तो हैरान नहीं होना चाहिए.

शंकर शर्मा ने कहा कि 2022 के अंत तक अगर न्यू एज टेक कंपनियों के शेयर 80-90 फीसदी तक टूट जाएं तो हैरान नहीं होना चाहिए.

नई लिस्ट हुई कंपनियों, खासकर जोमैटो, पेटीएम, पीबी फिनटेक, कारट्रेड, न्याका, फिनो पेमेंट बैंक के शेयर काफी ज्यादा टूट चुके हैं. मंदी के बड़े खिलाड़ी शंकर शर्मा को लगता है कि न्यू एज टेक कंपनियों के शेयर 80-90 प्रतिशत तक टूट सकते हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. भारतीय शेयर बाजार (Indian Stock Market) में पिछले 5 दिनों से हुई गिरावट डराने वाली है. नई लिस्टेड कंपनियों खासकर जोमैटो, पेटीएम, पीबी फिनटेक, कारट्रेड, न्याका, फिनो पेमेंट बैंक के शेयर तो काफी ज्यादा टूट चुके हैं. बाजार का एक एक्सपर्ट ऐसा भी है, जिसे लगता है कि इन कंपनियों में ये गिरावट तो कुछ भी नहीं. ये अभी और ज्यादा गिर सकते हैं. जी हां, इस एक्सपर्ट का नाम है शंकर शर्मा. उन्हें लगता है कि इन शेयरों में अभी भी गिरावट की काफी गुंजाइश है. शंकर शर्मा को मंदी की शानदार कॉल्स के लिए जाना जाता है.

CNBC TV-18 को दिए इंटरव्यू में शंकर शर्मा ने कहा कि 2022 के अंत तक अगर न्यू एज टेक कंपनियों (New Age Tech Companies) के शेयर 80-90 फीसदी तक टूट जाएं तो हैरान नहीं होना चाहिए. शर्मा ने कहा कि मार्केट नॉर्मलाइजेशन की ओर जाता दिख रहा है जो “कुछ ज्यादा ही बढ़ चुका था.” शर्मा ने कहा, यह बढ़त अनलिस्टेड स्पेस से शुरू हुई, जो वास्तव में वेंचर कैपिटल फंडेड कंपनियां थीं जिन्होंने पिछले छह महीनों में लिस्टिंग के जरिए स्टॉक मार्केट में एंट्री की है.

ये भी पढ़ें – आज गिरावट की आंधी में भी डटे रहे ये शेयर, दिया 20 फीसदी तक का शानदार रिटर्न

इन कंपनियों का वेल्यूएशन बहुत ज्यादा

शंकर शर्मा ने कहा, “उनमें से लगभग सभी में वेल्यूएशन की मेरिट बिल्कुल भी नहीं है. उनके बिजनेस मॉडल कमोडिटाइज यानी कमोडिटी बनाने से जुड़े हैं, उनमें से किसी भी कंपनी में कोई विशेषता नहीं है कि उन्हें इतना क्रेजी वेल्यूएशन मिले. वह पहले ही 20-50 फीसदी गिर चुके हैं और अभी 50 फीसदी और गिर सकते हैं. ये अभी भी सस्ते नहीं हैं.”

उन्होंने कहा कि कीमतों में बढ़ोतरी के चलते मार्केट के कई सेगमेंट ओवरवेल्यूड जोन में चले गए हैं. हालांकि, उन्होंने माना कि दूसरे इमर्जिंग मार्केट्स की तुलना में भारत बेहतर स्थान है और 2022 में अच्छा प्रदर्शन कर सकता है. भारत में डॉमेस्टिक इक्विटी के मामले में एक सॉलिड बफर है.

ये भी पढ़ें – Stock Market क्रैश: निवेशकों के डूबे 17.5 लाख करोड़ रुपये, ये हैं इसके कारण

इन दो सेक्टर्स में हैं सस्ते शेयर

फॉरेन फंडों ने जनवरी में अभी तक 8,000 करोड़ रुपये की बिकवाली की है, लेकिन ब्रोकर कहते हैं कि इंडिविजुअल इनवेस्टर्स, विशेषकर अमीर इनवेस्टर्स की तरफ से दिलचस्पी अभी भी मजबूत है. सिस्टमैटिक इनवेस्टमेंट प्लांस (एसआईपी) के जरिए म्यूचुअल फंड स्कीम्स में 10,000 करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश हो रहा है, जिससे फंड मैनेजर्स की समस्याएं बढ़ रही हैं. शर्मा ने कहा कि केमिकल और फार्मा सेक्टर में ऐसे कई स्टॉक हैं जो अभी भी सस्ते हैं.

Tags: Share market, Stock market

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर