Home /News /business /

'न्यू एज की टेक्नोलॉजी कंपनियों का दर्द तो अभी शुरू हुआ है', इनके शेयरों में पैसा लगाने वाले जान लें ये जरूरी बातें

'न्यू एज की टेक्नोलॉजी कंपनियों का दर्द तो अभी शुरू हुआ है', इनके शेयरों में पैसा लगाने वाले जान लें ये जरूरी बातें

हर महीने खुले औसतन 4 लाख नए डीमैट अकाउंट्स

हर महीने खुले औसतन 4 लाख नए डीमैट अकाउंट्स

भारतीय शेयर बाजार में इस साल रिकॉर्ड संख्या में न्यू एज टेक्नोलॉजी स्टॉक्स लिस्ट हुए. इन कंपनियों के वैल्यूएशन, बिजनेस मॉडल और इनकी वर्तमान कारोबारी और मुनाफे की स्थिति को लेकर सोशल मीडिया और अन्य दूसरे प्लेटफॉर्म पर तमाम तरह की आशंकाएं व्यक्त की गईं. इसके बावजूद नए रिटेल निवेशकों ने इन कंपनियों में जोरदार रूचि दिखाई. आइए समझते हैं इन कंपनियों का भविष्य में प्रदर्शन कैसा रह सकता है.

अधिक पढ़ें ...

मुंबई .  पिछले हफ्ते पेटीएम के शेयरों की गिरावट खूब चर्चा में रही. Paytm share price गूगल (Google) के टॉप सर्च में रहा. बीचे हफ्ते पेटीएम की ऑपरेटर वन 97 कम्युनिकेशन के शेयर अपने इश्यू प्राइस से 50 फीसदी से ज्यादा गिर चुके हैं. इसी के साथ एक बार फिर न्यू एज की टेक्नोलॉजी आधारित कंपनियों के शेयर भाव औऱ भविष्य को लेकर बहस जारी है. इनके वैल्यूएशन और फ्यूचर को लेकर तमाम अनुमान और आशंकाएं व्यक्त की जा रही हैं.

साल 2021 में न्यूज एज यानी एन युग की टेक्नोलॉजी कंपनियां ने धड़ाधड़ शेयर बाजार की तरफ रूख किया. भारतीय शेयर बाजार में इस साल रिकॉर्ड संख्या में न्यू एज टेक्नोलॉजी स्टॉक्स लिस्ट हुए. घाटे में चल रही नए युग की टेक कंपनियों ने आकर्षक ग्रोथ की संभावनाओं के आधार पर महंगे प्राइस टैग के साथ आईपीओ बाजार का दरवाजा खटखटाया.

नए रिटेल निवेशकों ने दिखाई रूचि
इन कंपनियों के वैल्यूएशन, बिजनेस मॉडल और इनकी वर्तमान कारोबारी और मुनाफे की स्थिति को लेकर सोशल मीडिया और अन्य दूसरे प्लेटफॉर्म पर तमाम तरह की आशंकाएं व्यक्त की गईं. इसके बावजूद नए रिटेल निवेशकों ने इन कंपनियों में जोरदार रूचि दिखाई. नए निवेशकों में इनके क्रेज का आलम यह था कि इन कंपनियों के आईपीओ कई गुना भर गए. पेटीएम को छोड़कर इनमें से अधिकांश न्यू एज टेक कंपनियां बाजार में भारी प्रीमियम के साथ लिस्ट हुईं.

हाई वैल्यूएशन मुद्दा 
Zomato, Paytm, CarTrade Tech जैसी कंपनियों के भविष्य को लेकर तमाम बाजार दिग्गज बहुत उत्साहित नहीं है. जानकारों का कहना है कि अब भारी लिक्विडिटी और निम्न ब्याज दरों का दौर खत्म होने के कगार पर है. बढ़ती महंगाई को देखते हुए फिर से ब्याज दरों में बढ़तोरी के संकेत आ रहे हैं. जिसके चलते नियर टर्म में हाई वैल्यूएशन वाले टेक्नोलॉजी स्टॉक के जल्दी मुनाफे में लौटने की संभावना नहीं दिख रही है.

यह भी पढ़ें- कंपनियों के तिमाही नतीजे और कोरोना की चाल तय करेंगे शेयर बाजारों की दिशा, जानिए डिटेल

महंगे वैल्यूएशन वाले स्टॉक से निकल रहे अमेरिकी 
अमेरिका में तमाम टेक्नोलॉजी स्टॉक इस समय गिरावट के दौर से गुजर रहे हैं. अमेरिकी बाजारों में निवेशक महंगे वैल्यूएशन वाले स्टॉक से निकलकर सस्ते और क्वालिटी स्टॉक पर फोकस कर रहे हैं. उम्मीद है कि अब पूरी दुनिया में सेंट्रल बैंक, धीरे-धीरे ब्याज दरों में बढ़ोतरी की तरफ लौटते दिखेंगे. ऐसे में बाजार में लिक्विडिटी कम होती दिखेगी. जिसका असर इन महंगे वैल्यूएशन वाले न्यू एज टेक स्टॉक्स पर सबसे पहले पड़ेगा.

घरेलू बाजार पर नजर डालें तो One97 Communications, CarTrade, PB Fintech और Fino Payments Bank ने बाजार में धमाकेदार एंट्री की थी. लेकिन वर्तमान में ये अपने आईपीओ प्राइस से 9 से 50 फीसदी नीचे नजर आ रहे हैं. इसी तरह Zomato और Nykaa की पैरेंट कंपनी FSN E-commerce अपने लिस्टिंग प्राइस से 21 फीसदी नीचे नजर आ रहे हैं.

यह भी पढ़ें- लोगों ने महज 365 दिन में स्मार्टफोन पर खर्च कर दिए 43 करोड़ साल, डेटिंग एप पर फूंके 300 अरब रुपए, जानिए कैसे?

ग्रोथ की संभावनाओं पर असर
इस हालात में लिस्टिंग की तैयारी में लगे तमाम न्यू एज स्टार्ट अप कंपनियों ने अपने आईपीओ प्राइस में कटौती की है. मोबीक्विक के आईपीओ को तो अनाधिकृत मार्केट में शेयर प्राइस में 50 फीसदी तक की गिरावट की वजह से टाल दिया गया है.

बाजार जानकारों का कहना है कि ब्याज दरों में एक हल्की बढ़ोतरी भी इस तरह की कंपनियों के भविष्य की ग्रोथ की संभावनाओं पर भारी असर दिखा सकती है. इसका असर उन कंपनियों पर ज्यादा पड़ेगा जिनका वैल्यूएशन कम ब्याज दरों के दौर में काफी महंगा हो गया था और जिनको कोविड-19 महामारी के दौरान बाजार में आई भारी लिक्विडिटी का फायदा मिल रहा था.

क्या कह रहे जानकार 
Adroit Financial Services के अमित कुमार गुप्ता (Amit Kumar Gupta) का कहना है कि नई एज की टेक्नोलॉजी आधारित कंपनियों का दर्द तो अभी शुरू ही हुआ है. इस साल इन कंपनियों के कारोबार में 50-60 फीसदी की गिरावट देखने को मिल सकती है. नए जोश में इन नई टेक्नोलॉजी आधारित कंपनियों में निवेश करने वाले बाजार में नए-नए आए खुदरा निवेशकों की इसकी सबसे ज्यादा मार पड़ने की संभावना है.

कुछ खुदरा निवेशकों के पोर्टफोलियो में तो इस तरह की नई कंपनियों में किया गया निवेश 20-40 फीसदी तक है. जिसको देखते हुए इन निवेशकों के जोखिम का अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है. हालांकि अमित कुमार गुप्ता का ये भी कहना है कि इस भीड़ में कुछ टेक स्टॉक ऐसे भी हैं जिनका कारोबारी मॉडल काफी अच्छा है और भविष्य में इनके कारोबार में अच्छी ग्रोथ की उम्मीद है. ऐसे में निवेशकों को सलाह होगी कि वो इन स्टॉक के अच्छे वैल्यूएशन पर आने के लिए वित्त वर्ष 2022 की दूसरी छमाही तक इंतजार करें. फिर इसके बाद इनमें निवेश करें.

Tags: Business, Car, Paytm, Share market, Stock Markets, Technology, Zomato

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर