Home /News /business /

अब टैक्स फाइल करने में नहीं होगी कोई झंझट, बिना CA या टैक्स एक्सपर्ट के ही बन जाएगा काम

अब टैक्स फाइल करने में नहीं होगी कोई झंझट, बिना CA या टैक्स एक्सपर्ट के ही बन जाएगा काम

टैक्स रिटर्न फाइल करने में CA का झंझट खत्म

टैक्स रिटर्न फाइल करने में CA का झंझट खत्म

टैक्सपेयर्स (Taxpayers) के पास इस बात का विकल्प होगा वो पुराने या नए टैक्स सिस्टम (New Income Tax Slab Rate) में से किसी एक को चुन सकें. अप्रैल से ये सुविधा इनकम टैक्स रिटर्न के ई-फाइलिंग पोर्टल पर दोनो विकल्प उपलब्ध होगा.

    नई दिल्ली. नए टैक्स स्लैब (New Tax Slab Rate) के तहत न​ सिर्फ आम सैलरीड क्लास को पहले से कम टैक्स देना पड़ेगा, ​बल्कि उन्हें इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) दाखिल करने के लिए कई तरह के झंझट से छुटकारा भी मिल सकेगा. नए टैक्स सिस्टम के तहत, अब टैक्स रिटर्न दाखिल करते वक्त किसी चार्टर्ड अकाउंटेंड (CA) या अन्य प्रोफेशनल्स की जरूरत नहीं पड़ेगी. अगले साल सैलरीड क्लास को इनकम टैक्स रिटर्न दा​खिल करने में आसानी हो सकेगी. दरअसल, वर्तमान में टैक्स रिटर्न फाइल करते वक्त कई तरह के डिडक्शन और एग्जेम्पशन का झंझट होता है, ऐसा ​में कई लोगों के लिए बिना टैक्स एक्सपर्ट या क्वालिफाइड सीए के​ यह काम करना आसान नहीं होता है.

    टैक्स छूट के गणित से मिलेगा छुटकारा
    नए टैक्स स्लैब के बारे में ऐलान करते वक्त वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने कहा था कि यह टैक्सपेयर्स के लिए वै​कल्पिक होगा. अगर कोई मौजूदा टैक्स व्यवस्था को अपनाना चाहता है तो उसपर कोई दबाव नहीं होगा. वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार चाहती है कि टैक्स अनुपालन (Tax Compliance) बढ़े और इसके लिए जरूरी है कि टैक्सपेयर्स पर किसी तरह का बोझ न हो. नए टैक्स सिस्टम पहले की तुलना न सिर्फ आसानी है, बल्कि PPF, इंश्योरेंस पॉलिसी जैसे किसी निवेश के तहत छूट की भी जरूरत नहीं होगी.





    यह भी पढ़ें: 1 अप्रैल से बदल जाएगा 2 बैंकों का नाम और PNB का लोगो, ग्राहकों पर होगा ये असर

    अप्रैल से टैक्सपेयर्स को मिलेगा ITR विकल्प
    ऐसे में अब नए टैक्स सिस्टम के तहत ITR फाइल करना इसलिए आसान होगा क्योंकि टैक्स छूट की गणित के चक्कर में नहीं पड़ना होगा. वित्त मंत्री ने यह भी ऐलान किया था कि अगर कोई नए टैक्स सिस्टम के तहत टैक्स दाखिल करना चाहता है तो इसके लिए उन्हें पहले से ही भरा हुआ ITR फॉर्म दिया जाएगा. राजस्व सचिव अजय भूषण पांडेय ने भी यह साफ किया है कि आगामी अप्रैल से जब वित्त वर्ष 2019-20 के लिए टैक्स रिटर्न दाखिल करना होगा तब टैक्सपेयर्स के लिए दोनों टैक्स सिस्टम में किसी को एक को चुनने का विकल्प मिलेगा.





    अगर कोई नए टैक्स सिस्टम के तहत इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करना चाहता है तो इसके लिए उन्हें इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के ई-फाइलिंग पोर्टल (e-Filing Portal) पर जाना होगा. यहां उन्हें पहले से ही भरा हुआ फॉर्म मिलेगा, जिसे भरना बेहद आसान होगा. अगर कोई पुराने टैक्स सिस्टम के तहत टैक्स रिटर्न फाइल​ करना चाहता है तो उन्हें पुरान फॉर्म ही उपलब्ध होगा, जिसमें उनके टैक्स संबंधी कोई जानकारी पहले से नहीं भरी गई होगी.

    बता दें इनकम टैक्स विभाग ने सालाना 50 लाख रुपये की कमाई करने वाले सैलरीड लोगों के लिए ITR-1 (Sahaj) को जारी कर दिया है. इसी प्रकार अन्य श्रेणियों के लिए भी टैक्स रिटर्न फॉर्म जारी कर दिया गया है.

    यह भी पढ़ें:  RBI का नया ऐलान! अब आपको बदलवानी होगी चेक बुक, ये है आखिरी तारीख

    Tags: Business news in hindi, Income tax exemption, Income tax implications, Income tax india, Income tax return

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर