Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    बड़ी योजना: पानी के रास्ते अब आसानी करे सकेंगे सफर, सस्ता होगा किराया, जल्द सरकार देगी मंजूरी

    New Inland Vessels Bill के पास हो जाने से पानी के रास्ते माल ढुलाई और सफर सस्ता हो जाएगा. (फाइल फोटो)
    New Inland Vessels Bill के पास हो जाने से पानी के रास्ते माल ढुलाई और सफर सस्ता हो जाएगा. (फाइल फोटो)

    New Inland Vessels Bill के जरिए सरकार माल ढुलाई वाले शिप की रजिस्ट्रेशन (Ship registration) की प्रक्रिया को आसान बनाएगी .

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 23, 2020, 9:42 AM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. देश में पानी के रास्ते आवागमन को बढ़ावा देना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है. इस योजना को साकार करने के लिए सरकार जल्द ही New Inland Vessels Bill पास करने वाली है. इस बिल के पास हो जाने से पानी के रास्ते माल ढुलाई और यात्रा दोनों ही सस्ते हो जाएंगे. सीएनबीसी आवाज की रिपोर्ट के अनुसार यह बिल मंजूरी के लिए कैबिनेट के पास भेज दिया गया है. इस बिल के पास हो जाने से पानी के जरिए माल ढुलाई तो सस्ती होगी ही साथ में सफर भी सस्ता और सुगम होगा.इस बिल के जरिए सरकार माल ढुलाई वाले जहाजों की रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को आसान बनाएगी और इंसेंटिव देगी ताकी ऐसे पानी वाले जहाज ज्यादा से ज्यादा चल सकें.

    आपको बता दें New Inland Vessels Bill को शिपिंग मंत्रालय ने मंजूरी दे दी है और यह फिलहाल कैबिनेट की अंतिम मंजूरी के लिए भेजा गया है. कैबिनेट से मंजूरी मिलने के बाद सरकार इस बिल को संसद में पारित कराएगी.


    शिप की नीलामी की शर्त की आसान- सरकार ने पानी के रास्ते माल ढुलाई और सफर को बेहतर बनाने के लिए शिप की नीलामी और निर्माण की प्रक्रिया को आसान बनाया है. इसके जरिए अब देश में ही आसानी से शिप का निर्माण किया जा सकेंगा और इससे घरेलू शिप की पानी के रास्तों पर बढ़ोत्तरी होगी.



    यह भी पढ़ें: ये है देश की सबसे बेहतरीन सरकारी कंपनी, Forbes ने जारी की लिस्ट, बताया क्यों है ये बेस्ट

    सागरमाला प्रोजेक्ट भी इसी का हिस्सा-देश में पानी के रास्ते कार्गों और सफर को बेहतर बनाने के लिए 2017 में सागरमाला प्रोजेक्ट की शुरुआत की गई थी. इस परियोजना में देश की सभी नदियों को आपस में जोड़ा जा रहा है और इन्हीं के रास्ते कार्गों शिप का अवागम की योजना है. वहीं इस परियोजना में मेक इन इंडिया के तहत बंदरगाहों का भी विकास किया जा रहा हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज