कोरोना संकट के बीच जुलाई से अब तक 1 करोड़ लोगों को मिला रोजगार, 4 महीने में 11 लाख MSMEs का हुआ रजिस्‍ट्रेशन

कोरोना संकट के बीच उद्यम रजिस्‍ट्रेशन के जरिये लाखों नए उद्योगों का पंजीकरण कराया गया.
कोरोना संकट के बीच उद्यम रजिस्‍ट्रेशन के जरिये लाखों नए उद्योगों का पंजीकरण कराया गया.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, उद्यम रजिस्‍ट्रेशन (Udyam Registration) के जरिये जुलाई-अक्‍टूबर 2020 के दौरान सबसे ज्‍यादा उत्‍तर प्रदेश (UP), गुजरात (Gujarat), महाराष्‍ट्र (Maharashtra) और तमिलनाडु (Tamil Nadu) में एमएसएमई के पंजीकरण (MSMEs Registrations) कराए गए. इस दौरान 1.73 लाख महिलाओं ने नए उद्यम शुरू किए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2020, 8:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) के बीच ठप हुई कारोबारी गतिविधियों (Business Activities) के कारण लाखों युवाओं की नौकरी छिन (Layoffs) गई थी तो करोड़ों का रोजगार (Employment) पूरी तरह से खत्‍म हो गया था. इसके बाद केंद्र सरकार (Central Government) ने लॉकडाउन में जैसे-जैसे ढील दी, देश में आर्थिक गतिविधियां सामान्‍य स्थिति में लौटने लगीं. अब रोजगार के नए मौकों को लेकर भी अच्‍छे संकेत मिलने लगे हैं. सरकार (Central Government) की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई-अक्‍टूबर 2020 के दौरान देशभर में 1 करोड़ से ज्‍यादा लोगों को रोजगार मिला.

मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर के 3.72 लाख उद्योगों का हुआ पंजीकरण
आंकड़ों के मुताबिक, उद्यम रजिस्ट्रेशन (Udyam Registration) पर जुलाई से अक्‍टूबर 2020 के 4 महीनों के दौरान देशभर में 11 लाख से ज्‍यादा माइक्रो, स्‍मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (MSMEs) ने पंजीकरण किया है. यह ऑनलाइन सिस्टम जुलाई 2020 में ही लांच किया गया था. केंद्र सरकार के मुताबिक, इसमें से 3.72 लाख एंटरप्राइजेज ने मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्टर (Manufacturing Sector) के तहत रजिस्ट्रेशन कराया है. वहीं, 6.31 लाख एंटरप्राइजेज ने सर्विस सेक्टर (Service Sector) के तहत रजिस्ट्रेशन कराया है. इन्‍हीं एंटरप्राइजेज के जरिये 1 करोड़ से ज्‍यादा लोगों को रोजगार मिला है.

ये भी पढ़ें- Good News: कारोबारी गतिविधियों में सुधार के साथ कंपनियां वापस ले रहीं वेतन कटौती, अब इन कंपनियों ने दिया बोनस
1.73 लाख महिलाओं ने कराया नए उद्योगों के लिए रजिस्‍ट्रेशन


केंद्र के मुताबिक, 4 महीने के भीतर रजिस्ट्रेशन कराने वाले एमएसएमई में सबसे ज्‍यादा मीडियम एंटरप्राइजेज हैं. वहीं, 93.17 फीसदी माइक्रो एंटरप्राइजेज, 5.62 फीसदी स्माल एंटरप्राइजेज और मीडियम एंटरप्राइजेज 1.21 फीसदी हैं. उद्यम रजिस्ट्रेशन कराने वालों में 7.98 लाख पुरुष हैं, जबकि 1.73 लाख महिलाओं (Women Entrepreneurs) ने नए उद्योगों के लिए पंजीकरण कराया है. इसके अलावा 11,188 दिव्यांगों ने भी पंजीकरण कराया है. बता दें कि उद्यम रजिस्ट्रेशन पर बिना पैन (PAM) या जीएसटी (GST) के 31 मार्च 2021 तक रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज