Home /News /business /

new labour codes gratuity in new labour code who can eligible for gratuity how can calculate gratuity rrmb

New Labour Codes : क्‍या 1 साल जॉब करने पर भी मिलेगी ग्रेच्‍युटी? नया नियम लागू होने पर कितना होगा फायदा

सरकार ग्रेच्‍यूटी के नियमों में कर सकती है बदलाव

सरकार ग्रेच्‍यूटी के नियमों में कर सकती है बदलाव

नए लेबर कोड्स (New Labour Codes) में कर्मचारियों को मिलने वाली ग्रेच्‍युटी (Gratuity) को लेकर बड़ा बदलाव होने की चर्चा जोरों से चल रही है. कहा जा रहा है कि सरकार ग्रेच्‍युटी पाने के लिए नौकरी की बाध्‍यता को पांच साल से घटाकर एक साल कर सकती है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. देश में श्रम सुधार (Labor Reform) के लिए केंद्र सरकार जल्‍द ही चार नए लेबर कोड (New Labour Codes) लागू कर सकती है. इन कोड्स के लागू होने के बाद कर्मचारियों की सैलरी, अवकाश, पीएफ और ग्रेच्‍युटी (Gratuity) सहित कई चीजों में बदलाव हो जाएगा. ऐसा माना जा रहा है कि सरकार ग्रेच्‍युटी के लिए किसी संस्‍थान में 5 साल लगातार नौकरी करने की बाध्‍यता को हटाकर एक साल कर सकती है. हालांकि, अभी सरकार की ओर से इस पर कोई घोषणा नहीं की गई है.

बाजार के जानकारों का कहना है कि अगर ऐसा होता है तो कोई भी कर्मचारी किसी जगह एक साल नौकरी करता है तो वह ग्रेच्‍युटी का हकदार हो जाएगा. अगर सरकार ग्रेच्‍युटी के नियमों में बदलाव कर देती है तो इससे करोड़ों कर्मचारियों को फायदा होगा. ग्रेच्‍युटी किसी कर्मचारी को कंपनी की ओर से मिलने वाला रिवॉर्ड होता है. अगर कर्मचारी नौकरी की कुछ शर्तों को पूरा करता है तो ग्रेच्‍युटी का भुगतान किया जाता है. ग्रेच्युटी का छोटा हिस्सा कर्मचारी की सैलरी से कटता है, लेकिन बड़ा हिस्सा कंपनी देती है.

ये भी पढ़ें- 1 जुलाई से कौन-कौन से नए नियमों के कारण आपकी जेब पर पड़ेगा असर? डिटेल में जानिए

किसे मिलती है ग्रेच्‍युटी
पेमेंट ऑफ ग्रेच्‍युटी एक्‍ट, 1972 के तहत इसका लाभ उस संस्‍थान के हर कर्मचारी को मिलता है जहां 10 से ज्‍यादा कर्मचारी काम करते हैं. साथ ही यह लाभ उस कर्मचारी को मिलता है जो संस्‍थान में लगातार पांच साल तक काम करता है. अगर कर्मचारी नौकरी बदलता है, रिटायर हो जाता है या किसी कारणवश नौकरी छोड़ देता है, लेकिन वह ग्रेच्‍यूटी के नियमों को पूरा करता है तो उसे लाभ मिलता है.

अभी क्‍या है ग्रेच्‍युटी का गणित 
एक कर्मचारी को कितनी ग्रेच्‍युटी मिलेगी उसका एक फार्मूला है. यहां महीने में 26 दिन ही गिने जाते हैं क्योंकि माना जाता है कि 4 दिन छुट्टी होती है. वहीं एक साल में 15 दिन के आधार पर ग्रेच्युटी का कैलकुलेशन होता है.

कुल ग्रेच्युटी की रकम = (अंतिम सैलरी) x (15/26) x (कंपनी में लगाए गए साल).

अगर किसी कर्मचारी ने 20 साल एक ही कंपनी में काम किया और उस कर्मचारी की अंतिम सैलरी 75000 रुपये (बेसिक सैलरी और महंगाई भत्ता मिलाकर) है. तो इस तरह गणना की जाएगी.

कुल ग्रेच्युटी की रकम = (75000) x (15/26) x (20)= 865385 रुपये. इस तरह कर्मचारी को ग्रेच्युटी के रूप में 8,65,385 रुपये मिलेंगे.

ये भी पढ़ें- होटल स्टे, अस्पताल के खर्च से लेकर घर के बर्तन तक हो सकते महंगे! समिति ने की जीएसटी दर बढ़ाने की सिफारिश

ऐसे गिने जाते हैं साल
नौकरी की 5 साल की अवधि की गणना में इसका ख्याल रखा जाता है कि यदि किसी ने 240 दिनों से अधिक लगातार काम किया हो, तो उसे 1 वर्ष की पूरी सेवा माना जाएगा. इसीलिए यदि कोई कर्मचारी 5 साल की नौकरी पूरी होने से पहले जॉब छोड़ देता है, लेकिन उसने वहां 4 साल और 240 दिन से अधिक लगातार काम किया है, तो वह ग्रेच्युटी का हकदार होगा और उसकी सेवा अवधि को 5 साल माना जाएगा. इसी प्रकार, ऐसे संसथान जहां कर्मचारी सप्ताह में 6 दिन से कम काम करते हैं, वहां 4 साल और 190 से अधिक की सेवा से कर्मचारी ग्रेच्युटी का हकदार बन जाता है.

Tags: Gratuity, Labour Law, Personal finance

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर