• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • क्रिप्टो ट्रेडिंग करने वालों को लग सकता है बड़ा झटका, नए कानून की तैयारी में सरकार

क्रिप्टो ट्रेडिंग करने वालों को लग सकता है बड़ा झटका, नए कानून की तैयारी में सरकार

क्रिप्टोकरंसी को बैन करने की तैयारी में सरकार

क्रिप्टोकरंसी को बैन करने की तैयारी में सरकार

Cryptocurrency: कोविड-19 संकट के बीच अन्य परंपरागत निवेश विकल्पों में जोखिम की वजह से क्रिप्टो ट्रेडिंंग में इजाफा देखने को मिल रही है. अब केंद्र सरकार क्रिप्टोकरंसी पर प्रतिबंध लगाने के लिए नये कानून का खाका तैयार कर रही है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. केंद्र सरकार भारत में क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध (Ban on Cryptocurrency) लगाने के लिये नया कानून लाने की तैयारी में है. सरकार यह कदम सुप्रीम कोर्ट के 4 मार्च को आए आदेश को देखते हुए उठा रही है. सुप्रीम कोर्ट के 4 मार्च के आदेश में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के 2018 के सर्कुलर में जारी उस निर्देश को खारिज कर दिया गया था जिसमें आरबीआई ने बैंकों और वित्तीय संस्थाओं पर क्रिप्टोकरेंसी का कारोबार करने या उससे संबंधित सेवाएं देने से प्रतिबंध लगा दिया था.

    RBI ने अप्रैल 2018 में बैंकिंग सेक्टर को क्रिप्टोकरेंसी सौदे में उनकी गतिविधियों को रोकने के लिए 3 महीने की नोटिस दी थी. आरबीआई के इस फैसले से भारत में हजारों क्रिप्टो ट्रेडर्स को झटका लगा था.

    ड्राफ्ट पर विचार-विमर्श कर रही है सरकार
    इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट में एक सरकारी अधिकारी का हवाला देते हुए कहा गया है कि देश में क्रिप्टोकरेंसी कारोबार पर बैन लगाने के संबंध में विभिन्न मंत्रालयों के बीच विचार-विमर्श के लिए सरकार ने एक ड्राफ्ट कैबिनेट नोट जारी किया है.

    यह भी पढ़ें: PM धन लक्ष्मी योजना में महिलाओं को बिना ब्याज मिला 5 लाख का लोन? जाने सच्चाई

    क्रिप्टो ट्रेडर्स को लग सकता है झटका
    इस मुद्दे की जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि अगर सरकार द्वारा जारी किया गया यह कैबिनेट नोट जुलाई 2019 के ड्राफ्ट प्रपोजल की तरह ही है तो इस कदम से निवेशकों, एक्सचेजों और क्रिप्टोकरेंसी कारोबार से जुड़े दूसरे पक्षों को गंभीर झटका लगेगा.

    10 साल जेल के प्रावधान की सिफारिश
    बता दें कि जुलाई 2019 में भी क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक प्रस्ताव रखा गया था. 2019 के इस प्रस्ताव में भारत में क्रिप्टोकरेंसी के अलग-अलग प्रारुपों को बैन करने की सिफारिश की गई थी. इस प्रस्ताव में देश में क्रिप्टोकरेंसी के कारोबार में संलग्न पाए जाने पर 10 साल की जेल अथवा अधिकतम 25 करोड़ रुपये के जुर्माने के प्रावधान की भी सिफारिश की गई थी.

    पिछले कुछ महीनों में बढ़ा क्रिप्टो ट्रेडिंग
    क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल अथवा वर्चुअल करेंसी होती है जिसमें उनकी यूनिट के जनरेशन और फंड के ट्रांसफर के लिए इनक्रिप्शन तकनीक का उपयोग किया जाता है. इनको नियंत्रित करने वाले लोग देश के सेंट्रल बैंक से अलग स्वतंत्र रुप से काम करते हैं. कोरोना महामारी के चलते दूसरे परंपरागत निवेश विकल्पों में आई कमजोरी को देखते हुए पिछले कुछ महीनों के दौरान क्रिप्टो ट्रेडिंग का कारोबार तेजी से बढ़ा है.

    यह भी पढ़ें:  नौकरीपेशा के लिए जरूरी खबर- घर बैठे ऐसे पता करें अपना UAN नंबर, जानिए सबकुछ

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज