• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • NPS को लेकर बदला नियम, रोज 166 रुपये निवेश कर पा सकते हैं 60 हजार मंथली पेंशन

NPS को लेकर बदला नियम, रोज 166 रुपये निवेश कर पा सकते हैं 60 हजार मंथली पेंशन

नेशलन पेंशन सिस्टम में निवेश का तरीका बदला

नेशलन पेंशन सिस्टम में निवेश का तरीका बदला

PFRDA नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) सब्सक्राइबर्स के लिए डायरेक्ट रेमिटेंस (D-Remit) नामक भुगतान का नया तरीका शुरू कर रहा है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (PFRDA) ने नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) सब्सक्राइबर्स के लिए डायरेक्ट रेमिटेंस (D-Remit) नामक भुगतान का नया तरीका शुरू कर रहा है. NPS कंट्रीब्यूशंस के नए मोड से एनपीएस सब्सक्राइबर नेट बैंकिंग के जरिए सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट स्थापित कर सकेंगे जिससे NPS में पीरियॉडिकल और रेगुलर कंट्रीब्यूशन किया जा सके. कोई भी व्यक्ति सीधे किसी के बैंक खाते की नेट बैंकिंग सुविधा से एनपीएस में निवेश कर सकता है. D-Remit मोड में एनपीएस कंट्रीब्यूशन ऑनलाइन भुगतान नि:शुल्क है क्योंकि लेनदेन में कोई शुल्क नहीं है.


    सर्कुलर के मुताबिक, D-Remit विकल्प से न केवल फंड डिपॉजिट करने की प्रक्रिया आसान होगी बल्कि सब्सक्राइबर्स को कट-ऑफ टाइम से पहले कंट्रीब्यूशन जमा करने की तारीख के नेट एसे वैल्यू (NAV) उपलब्ध करा दी जाएगी. इससे सब्सक्राइबर्स को उनके निवेश का बेहतर रिटर्न मिलेगा.

    बदला ये नियम
    फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुतबाकि, किसी भी कार्य दिवस पर T-Day के सुबह 9.30 बजे तक मिलने वाले फंड को उसी दिन निवेश माना जाएगा. T-Day पर सुबह 9.30 बजे के बाद प्राप्त अंशदान का निवेश अगले कार्य दिवस यानी T+ 1 दिन में किया जाएगा. वर्तमान में, ई-एनपीएस (e-NPS) या POPs के जरिए एनपीएस में योगदान T+ 2 दिनों में निवेश किया जाता है.

    ये है प्रोसेस
    कंट्रीब्यूशन का D-Remit मोड सरकारी, गैर-सरकारी और सभी सिटीजन्स मॉडल के तहत ग्राहकों के लिए उपलब्ध होगा. D-Remit मोड के माध्यम से योगदान करने के लिए खाते में लॉगइन करके पर्मानेंट रेमिटेंस अकाउंट नंबर ( PRAN) से जुड़ी एक वर्चुअल आईडी बनानी होगी. इसके बाद सब्सक्राइबर को अपने नेट बैंकिंग अकाउंट में लाभार्थी के तौर पर IFSC डिटेल्स के साथ वर्चुअल आईडी जोड़नी होगी. अंत में, सब्सक्राइबर्स आवश्यकता पड़ने पर एनपीएस खाते में फंड रिमिटिंग शुरू कर सकता है.

    इसके अलावा, कोई भी व्यक्ति म्यूचुअल फंड में एसआईपी के समान समय-समय पर और नियमित आधार पर एनपीएस में व्यवस्थित रूप से निवेश करते रहने के लिए नेट बैंकिंग में ऑटो-डेबिट स्थापित कर सकता है. वर्तमान में, किसी को नोडल कार्यालयों, POPs, e-NPS या NPS मोबाइल ऐप के माध्यम से निवेश करना होता है लेकिन अब सीधे नेट बैंकिंग से निवेश किया जा सकता है.

    कौन जुड़ सकता है NPS से?
    NPS में 18 से 60 साल की उम्र के बीच का कोई भी वेतनभोगी जुड़ सकता है. NPS में दो तरह के अकाउंट होते हैं Tier-I और Tier-II. Tier-I एक रिटायरमेंट अकाउंट होता है, जिसे हर सरकारी कर्मचारी के लिए खुलवाना अनिवार्य है. वहीं Tier-II एक वॉलेंटरी अकाउंट होता है, जिसमें कोई भी वेतनभोगी अपनी तरफ से इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकता है और कभी भी पैसे निकाल सकता है.

    कैसे मिलेगी 60 हजार की मंथली पेंशन?
    अगर योजना में आप 25 की उम्र से जुड़ते हैं तो 60 की उम्र तक यानी 35 साल तक आपको हर महीने 5000 रुपये स्कीम के तहत जमा करना होगा. आपके द्वारा किया गया कुल निवेश 21 लाख रुपए होगा. NPS में कुल निवेश पर अगर अनुमानित रिटर्न 8 फीसदी मान लें तो तो कुल कॉर्पस 1.15 करोड़ रुपये होगा. इसमें से 80 फीसदी रकम से एन्युटी खरीदते हैं तो वह वैल्यू करीब 93 लाख रुपए होगी. लम्प सम वैल्यू भी 23 लाख रुपये के करीब होगी. एन्युटी रेट 8 फीसदी हो तो 60 की उम्र के बाद हर महीने 61 हजार रुपये के करीब पेंशन बनेगी. साथ ही अलग से 23 लाख रुपये का फंड भी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज