• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • देश के बड़े शहरों में फ्लैट्स की सर्किल रेट से 75 फीसदी तक ज्‍यादा कीमत वसूल रहे बिल्‍डर्स

देश के बड़े शहरों में फ्लैट्स की सर्किल रेट से 75 फीसदी तक ज्‍यादा कीमत वसूल रहे बिल्‍डर्स

एक रिसर्च में साफ हुआ है कि देश के बड़े शहरों में डेवलपर्स ग्राहकों से तय सर्किल रेट से ज्‍यादा पैसे वसूल रहे हैं.

एक रिसर्च में साफ हुआ है कि देश के बड़े शहरों में डेवलपर्स ग्राहकों से तय सर्किल रेट से ज्‍यादा पैसे वसूल रहे हैं.

अचल संपत्ति सलाहकार अनारॉक (Anarock) के रिसर्च डाटा के मुताबिक, देश के बड़े शहरों में ग्राहकों से फ्लैट्स (Flats) की औसत बाजार कीमत (Market Price) सर्किल रेट से 6-75 फीसदी तक ज्‍यादा चल रही है. सर्कल रेट (Circle Rate) राज्य सरकार तय करती है, जिससे कम कीमत पर किसी संपत्ति (Property) का रजिस्‍ट्रेशन नहीं कराया जा सकता है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली (Delhi) से सटे नोएडा (NOIDA), गुरुग्राम (Gurugram) समेत देश के तमाम बड़े शहरों में फ्लैट्स व मकानों की कीमत सर्किल रेट (Circle Rate) से ज्‍यादा वसूली जा रही है. ये सर्किल रेट राज्‍य सरकारों (State Governments) की ओर से तय की जाती है. इससे कम कीमत पर किसी संपत्ति का रजिस्‍ट्रेशन नहीं कराया जा सकता है. संपत्ति की खरीद पर स्‍टांप शुल्‍क (Stamp Duty) का भुगतान भी तय सर्किल रेट के हिसाब से ही किया जाता है. एक रिसर्च के मुताबिक, बिल्‍डर्स ग्राहकों से अलग-अलग शहरों में सर्किल रेट से 75 फीसदी तक ज्‍यादा पैसे वसूल रहे हैं.

    अचल संपत्ति सलाहकार अनारॉक (Anarock) का रिसर्च डाटा ऐसे समय में आया है, जब कुछ केंद्रीय मंत्रियों और कॉरपोरेट्स ने बैंक कर्ज के नीचे दबे डेवलपर्स को सुझाव दिया है कि कीमतें कम करके खाली पड़े फ्लैट्स या मकानों को बेच दें. अनारॉक ने कहा कि पिछले पांच साल में भारतीय आवास क्षेत्र में एक अहम बदलाव आया है. बड़े शहरों के प्राइमरी सेगमेंट के नए डाटा के मुताबिक सर्किल रेट और वास्तविक बाजार कीमतों (Market) के बीच अंतर घटता हुआ दिख रहा है.

    ये भी पढ़ें-किसानों के लिए बड़ी खबर! अब इस स्कीम के लिए सरकार ने दिए 6,866 करोड़ रुपये

    2015 के मुकाबले कुछ इलाकों में कीमतों का अंतर घटा
    कंसल्‍टेंसी फर्म के मुताबिक, 2015 में मुंबई, पुणे, गुरुग्राम के कुछ इलाकों में सर्किल रेट और वास्तविक बाजार कीमतों के बीच 100 फीसद से ज्‍यादा अंतर होता था. अब इनमें से कुछ इलाकों में इन दोनों दरों में केवल 6 फीसद का अंतर है. मुंबई कि लोअर परेल में सर्किल रेट 32,609 रुपये प्रति वर्ग फुट है, जबकि औसत बाजार मूल्य 34,660 प्रति वर्ग फुट यानी 6 फीसद ज्‍यादा है. वहीं, जोगेश्वरी ईस्ट में बिल्‍डर्स खरीदारों से 17,279 रुपये प्रति वर्ग फुट वसूल रहे हैं, जबकि सर्किल रेट 15,143 रुपये प्रति वर्ग फुट है. दादर में बिल्‍डर्स सर्किल रेट 13,624 रुपये के बजाय 32,600 रुपये प्रति वर्ग फुट वसूल रहे है.

    नोएडा और गुरुग्राम में भी ज्‍यादा पैसे वसूल रहे बिल्‍डर
    उत्‍तर प्रदेश के नोएडा में एक्‍सप्रेस-वे पर संंपत्ति का सर्किल रेट 4,366 रुपये प्रति वर्ग फुट है, जबकि बिल्‍डर्स इसके 5,075 रुपये वसूल रहे हैं. सेंट्रल नोएडा में औसत बाजार कीमत 4,920 रुपये प्रति वर्ग फुट है, जबकि सर्किल रेट 3,685 रुपये है. सेक्‍टर-150 में फ्लैट्स का सर्किल रेट 3,716 रुपये प्रति वर्ग फुट है, जबकि बिल्‍डर्स 5,100 रुपये तक वसूल रहे हैं. गुरुग्राम में द्वारका एक्‍सप्रेस-वे पर सर्किल रेट 4,133 रुपये प्रति वर्ग फुट है, जबकि यहां का औसत बाजार मूल्‍य 5,340 रुपये प्रति वर्ग फुट है.

    ये भी पढ़ें- चीन के साथ सीमा पर तनाव बढ़ने से कमजोर हुआ भारतीय रुपया, आम आदमी पर होगा ये असर

    सोहना में 35 फीसदी ज्‍यादा तो पुणे में है मामूली अंतर
    बेंगलुरु में राजाजी नगर में संंपत्ति का बाजार भाव 13,300 रुपये प्रति वर्ग फुट है, बजकि सर्किल रेट 9,012 रुपये है. वहीं, इंद्रानगर में सर्किल रेट 10,312 रुपये के मुकाबले बाजार भाव 11,500 रुपये प्रति वर्ग फुट है. सोहना में आवासीय संपत्ति की कीमत सर्किल रेट से 35 फीसदी ज्‍यादा तक वसूली जा रही है. सोहना में सर्किल रेट 4,969 रुपये प्रति वर्ग फुट है, जबकि बिल्‍डर्स 6,710 रुपये ले रहे हैं. पुणे के बालेवाड़ी में औसत बाजार भाव 6,725 है, जबकि सर्किल रेट 6,359 रुपये है. पुणे के अलग-अलग इलाकों की आवासीय संपत्तियों के सर्किल और वास्‍तविक भाव में मामूली अंतर है.

    ये भी पढ़ें- PM-Kisan: मोदी सरकार ने 2000 रुपये देने से पहले किसानों को भेजा ये SMS

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज