होम /न्यूज /व्यवसाय /Aadhar Update: अब आधार से जुड़ा पेमेंट सिस्टम हुआ और सेफ, इस नए फीचर से फेक फिंगरप्रिंट से नहीं निकलेगा पैसा

Aadhar Update: अब आधार से जुड़ा पेमेंट सिस्टम हुआ और सेफ, इस नए फीचर से फेक फिंगरप्रिंट से नहीं निकलेगा पैसा

ग्राहक अपने आधार से जुड़े बैंक अकाउंट में लेनदेन के लिए फिंगरप्रिंटका इस्‍तेमाल कर सकता है.

ग्राहक अपने आधार से जुड़े बैंक अकाउंट में लेनदेन के लिए फिंगरप्रिंटका इस्‍तेमाल कर सकता है.

आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम (AEPS) एक बैंक आधारित मॉडल है. इसमें आधार आधारित बायोमीट्रिक ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल करके पैस ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

बायोमीट्रिक ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल करके पैसे का लेनदेन किया जाता है.
यह काम पोओएस मशीन के जरिए होता है.
देश में लगभग 50 लाख आधार इनेबल्‍ड PoS मशीनें हैं.

नई दिल्‍ली. आधार इनेबेल्‍ड पेमेंट सिस्‍टम (AEPS) से अब धोखाधड़ी से किसी भी तरह का लेनदेन नहीं किया जा सकेगा. भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने एईपीएस में एक नया सिक्योरिटी फीचर जोड़ दिया है. फिंगरप्रिंट ‘लाइवलीनेस’ (Fingerprint liveliness) नामक यह नया फीचर AEPS के जरिए पैसा निकालने के लिए फेक फिंगरप्रिंट्स को रोकने में मददगार है. यूआईडीएआई ने नया फीचर सिलिकॉन पेड पर बनाए गए फिंगर प्रिंट का प्रयोग कर वित्‍तीय धोखाधड़ी की खबरें आने के बाद लॉन्‍च किया है.

आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम एक बैंक आधारित मॉडल है. इसमें आधार आधारित बायोमीट्रिक ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल करके पैसे का लेनदेन किया जाता है. इसमें बैंक ग्राहक अपने आधार से जुड़े बैंक अकाउंट पर बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेंस के जरिए कैश डिपॉजिट, कैश निकालना, इंट्राबैंक और इंटर बैंक कैश ट्रांसफर तथा  बैलेंस इन्क्वॉयरी जैसे काम कर सकता है.

ये भी पढ़ें-  EPFO: पीएफ अकाउंट नंबर भी अपने में समेटे हैं कई काम की जानकारियां, आप भी जानिए इनके बारे में

फिंगरप्रिंट की सटीक पहचान 
cnbctv18.com  की एक रिपोर्ट के अनुसार, इकोनॉमिक टाइम्स ने एक ऑफिशियल के हवाले से बताया कि इस नए सिक्योरिटी फीचर को सॉफ्टवेयर अपग्रेड के जरिए एईपीएस पॉइंट ऑफ सेल  मशीनों में डाला गया है. इससे PoS को यह पता चल जाएगा कि इस्तेमाल किया जा रहा फिंगरप्रिंट किसी जीवित व्यक्ति का है या नहीं.  जब से AEPS इनेबल्ड हुआ है, तब से अब तक 1,507 करोड़ से ज्यादा का बैंकिंग लेनदेन हुआ है. इनमें से इस सिस्‍टम के माध्‍यम से 7.54 लाख धोखाधड़ी वाले लेनदेन हुए हैं. देश भर में AEPS के दुरुपयोग की कई रिपोर्टों के बाद नए सिक्योरिटी फीचर को को ऐड किया गया है.

ये भी पढ़ें- 5 ऐसे क्रेडिट कार्ड, जो आपको दिलाएंगे अच्छी-खासी छूट, फटाफट चेक करें

अवैध लेनदेन पर लगेगी लगाम
ईजीपे के फाउंडर और सीईओ  शम्स तबरेज ने कहा कि नए सिक्योरिटी फीचर से धोखाधड़ी वाले फिंगरप्रिंट और अवैध लेनदेन को ट्रैक करने में मदद मिलेगी. यह बेहतर ऑथेंटिकेशन और सिक्योरिटी सुनिश्चित करेगा. हाल के दिनों में जालसाजी और धोखाधड़ी की कई घटनाएं हुई हैं.  तबरेज के अनुसार वर्तमान में, सरकार के पास देश में लगभग 50 लाख आधार इनेबल्‍ड  PoS मशीनें हैं.

इस तरह हो रही है धोखाधड़ी
पिछले कुछ समय से किसी ओर के फिंगरप्रिंट का प्रयोग कर आधार इनेबल्‍ड पेमेंट सिस्‍टम से फाइनेंशियल ट्रांजेक्‍शन की खबरें सामने आई थीं. जांच में पता चला था कि जालसाजों ने लोगों के फिंगरप्रिंट्स सरकारी वेबसाइट पर अपलोड किए लैंड रिकॉर्ड्स से कॉपी किए थे. इनको फिर सिलिकॉन पेड पर उकेरकर, लोगों के बैंक खातों में सेंध लगाई गई.

Tags: Aadhar, Business news in hindi, Online banking, Uidai

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें