बड़ी खबर! दिल्ली से कटरा के बीच चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस में इस वजह से होगी देरी!

सोमवार को वंदे भारत एक्सप्रेस के ट्रायल के दौरान कई जगहों पर खामियों का अनुभव किया गया है. ज़रूरत के मुताबिक सुधार और कमिश्नर रेलवे सेफ्टी की मंजूरी के बाद ही रूट पर वन्दे भारत एक्सप्रेस का नियमित सफर शुरू होगा.

Chandan Kumar | News18India
Updated: July 24, 2019, 3:08 PM IST
बड़ी खबर! दिल्ली से कटरा के बीच चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस में इस वजह से होगी देरी!
नई दिल्ली कटरा वंदे भारत एक्सप्रेस पर लगा ब्रेक
Chandan Kumar | News18India
Updated: July 24, 2019, 3:08 PM IST
नई दिल्ली से कटरा के बीच भारतीय रेल की दूसरी वन्दे भारत एक्सप्रेस ट्रेन ट्रायल पूरा हो चुका है. रेलवे की योजना इस ट्रेन को नई दिल्ली से कटरा के बीच ही चलाने की है. लेकिन इसके नियमित सफर के लिए मुसाफिरों को थोड़ा इंतज़ार करना पड़ सकता है. ट्रायल के विस्तृत रिपोर्ट की जांच के बाद ही यह तय होगा कि ट्रेन को इस रूट पर शुरू करने में कितना वक्त लगेगा.

सूत्रों के मुताबिक नई दिल्ली-कटरा सेक्शन पर ट्रेनों की अधिकतम स्पीड 110 किलोमीटर प्रति घंटे है. जबकि वन्दे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के लिए ट्रैक को कम से कम 130 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड के मुताबिक होना चाहिए. इसके लिए इस रूट पर कई जगहों पर ट्रैक के ग्रेडिएंट (ढलान), कर्व (मोड़), क्रास ओवर्स (जहां चलती हुई ट्रेन की पटरी बदली जाती है) और क्रासिंग्स (फाटकों) इत्यादि पर ज़रूरत के मुताबिक सुधार या बदलाव करना पड़ सकता है.

कमिश्नर रेलवे सेफ्टी की मौजूदगी में होगा ट्रायल
कमिश्नर रेलवे सेफ्टी की मौजूदगी में होगा ट्रायल


रेलवे सबसे पहले रूट पर ज़रूरी काम पूरा करेगा. उसके बाद फिर से इस रूट पर 130 किलोमीटर की अधिकतम स्पीड पर कमिश्नर रेलवे सेफ्टी की मौजूदगी में ट्रायल किया जाएगा. कमिश्नर रेलवे सेफ्टी की मंजूरी के बाद ही रूट पर वन्दे भारत एक्सप्रेस का नियमित सफर शुरू होगा.

ट्रायल रन में थी खामियां
सोमवार को वंदे भारत एक्सप्रेस के दूसरे रेक ने नईदिल्ली से कटरा के बीच 655 किलोमीटर की दूरी को ट्रायल के दौरान क़रीब 8 घंटे में पूरा किया है. लेकिन सूत्रों से मुताबिक ट्रायल के दौरान कई जगहों पर खामियों का अनुभव किया गया है.

ट्रेन का ट्रायल क़रीब 110 किलोमीटर की अधिकतम स्पीड में हुआ है. भारत की पहली वन्दे भारत एक्सप्रेस ट्रेन नई दिल्ली से वाराणसी के बीच चल रही है. हालांकि इसका दूसरा रेक तकनीक के लिहाज़ से और भी बेहतर है और इसमें कई पुरानी खामियों को दूर किया गया है.
Loading...

ये भी पढ़ें - कितनी असुरक्षित हैं भारत की सड़कें: हर घंटे 53 एक्सीडेंट, सालाना करीब डेढ़ लाख मौतें

ये भी पढ़ें - केरल हाईकोर्ट के जज बोले- ब्राह्मणों को जातिगत आरक्षण के खिलाफ आंदोलन करना चाहिए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 24, 2019, 2:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...