NHAI के इस कदम से फास्टैग की हुई रिकॉर्ड तोड़ बिक्री, दो दिनों में बिक गए 2.5 लाख FASTag

NHAI on Course to Achieve 100 Percent Cashless Toll Collection Through FASTag

NHAI on Course to Achieve 100 Percent Cashless Toll Collection Through FASTag

राष्ट्रीय राजमार्गों के टोल नाकों में बिना रुके वाहनों के आवागमन को सुनिश्चित करने के लिए एनएचएआई (NHAI)ने फास्टैग सिस्टम को लागू किया था.फास्टैग लागू करने की डेड लाइन 15/16आधी रात को समाप्त हो गयी है. यानी अब बिना फास्टैग के मालवाहक या यात्री 4 पहिया वाहन NHAI के टोल से गुजरने पर दो गुना टोल टैक्स देना पड़ रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 18, 2021, 4:44 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजमार्गों के टोल नाकों में बिना रुके वाहनों के आवागमन को सुनिश्चित करने के लिए एनएचएआई (NHAI)ने फास्टैग सिस्टम को लागू किया था.फास्टैग लागू करने की डेड लाइन 15/16आधी रात को समाप्त हो गयी है. यानी अब बिना फास्टैग के मालवाहक या यात्री 4 पहिया वाहन NHAI के टोल से गुजरने पर दो गुना टोल टैक्स देना पड़ रहा है. जुर्माना से बचने और निर्बाध रूप से टोल नाके से गुजरने के उद्देश्य से लोग तेजी से अपने वाहनों में फास्टैग लगवा रहे है. पिछले दो दिनों में ही रिकॉर्ड 2.5 लाख फास्टैग बेचे जा चुके है.

1 मार्च 2021 तक फ्री फास्टैग कैंपेन

वाहन चालकों या मालिकों द्वारा अधिक से अधिक फास्टैग के प्रचलन को बढ़ाने के लिए NHAI मुफ्त में फास्टैग उपलब्ध कराया जाएगा. राज्य के टोल प्लाजा सहित देश के 770 टोल प्लाजा में मुफ्त में फास्टैग उपलब्ध कराएगी. गौरतलब है कि फिलहाल फास्टैग कोस्ट 100 रुपये है. मौजूदा समय मे फास्टैग का पेनेट्रेशन 87 फीसदी तक पहुंच गया है. पिछले 2 दिनों में ही 7 फीसदी तक बढ़ा दायरा. 100 से अधिक टोल प्लाजा में 90 फीसदी फास्टैग पेनेट्रेशन हासिल करने में सफलता मिली.

यह भी पढ़ें- नीलाम होगी Apple के सह-संस्थापक स्टीव जॉब्स की पहली जॉब एप्लीकेशन, पढ़ें इसमें क्या लिखा है
फास्टैग के जरिये रोजाना 95 करोड़ रुपये का हो रहा है टोल कलेक्शन

फास्टैग सिस्टम की लोकप्रियता और प्रचलन लगातार बढ़ रहा है. आंकड़ो पर गौर करे तो रोजाना 60 लाख फास्टैग ट्रांजेक्शन किया जा रहा है. यही नहीं फास्टैग के जरिये टोल प्लाजा में रोजाना 95 करोड़ रुपये का टोल कलेक्शन किया जा रहा है. गौरतलब है कि 15/16 फरवरी के मध्य रात्रि के बाद से वाहनों में फास्टैग लगाना अनिवार्य किया गया है. NHAI/IHMCL और कई बैंक 40 हज़ार से अधिक स्थानों और प्लेटफॉर्मो में फास्टैग बेचने की सुविधा दिए है.

यह भी पढ़ें- VIDEO: जल्द कर सकेंगे Seaplane की सवारी, स्पाइस शटल ने शेयर किया वीडियो



फास्टैग उपयोगकर्ताओं की सहूलियत के लिए यह व्यवस्था भी की गई है

टोल प्लाजा में जाने से पहले फास्टैग उपयोगकर्ता मोबाइल एप My FASTag App में बैलेंस स्थिति की जानकारी ले सकते है. वाहनों में लगे फास्टैग में कितनी राशि उपलब्ध है इसकी जानकारी कलर कोड से आसानी से पता लगाया जा सकता है. एक्टिव (सक्रिय) फास्टैग के लिए हरा रंग कलर कोड का मतलब है पर्याप्त राशि उपलब्ध है. नारंगी रंग के कलर कोड का मतलब है कि वॉलेट में अपर्याप्त राशि है. जबकि लाल रंग के कलर कोड का मतलब है कि फास्टैग को ब्लैकलिस्ट किया गया है. फास्टैग वॉलेट में कम राशि होने पर इंस्टेंट रिचार्ज सुविधा के जरिये उपयोगकर्ता आसानी से रिचार्ज कर सकते है या फिर टोल प्लाजा में पॉइंट ऑफ सेल में भी रिचार्ज कराया जा सकता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज