NHAI ने 72 हजार करोड़ रुपये के नेशनल हाईवे प्रोजेक्ट्स के लिए बोलियां मांगीं, 2600 किमी हाईवे के लिए बांटे जाएंगे ठेके

प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो

केंद्रीय परिवहन मंत्रालय (Transport Ministry) के एक अधिकारी ने बताया कि 77 से अधिक प्रोजेक्ट्स के लिए बोलियां निविदा के विभिन्न चरणों में हैं. कुछ बोलियां पहले ही खोली जा चुकी हैं. भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (National Highways Authority of India) जल्द ही शेष बोलियां खोलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2021, 4:14 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. केंद्रीय परिवहन मंत्रालय (Transport Ministry) ने इस चालू वित्‍त वर्ष की चौथी तिमाही के अंत तक (Q4FY21) लगभग 2,600 किलोमीटर में फैले नेशनल हाईवेज (National Highways) के लिए करीब 72 हजार करोड़ रुपये की बोलियां आमंत्रित की हैं. चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में मंत्रालय हाईवे प्रोजेक्ट्स पर जोर देगी, जो कोविड -19 महामारी से ज्यादा प्रभावित हुए हैं.

पहले ही खोली जा चुकी हैं कुछ बोलियां

मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि 77 से अधिक प्रोजेक्ट्स के लिए बोलियां निविदा के विभिन्न चरणों में हैं. कुछ बोलियां पहले ही खोली जा चुकी हैं. भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (National Highways Authority of India) जल्द ही शेष बोलियां खोलेगा. अधिकारी ने कहा, "इन प्रोजेक्ट्स की कुल पूंजी लागत 71,891 करोड़ रुपये है और उन्हें मौजूदा तिमाही में चालू किया जाएगा. इसके लिए अधिक प्रोजेक्ट्स को भी लिया जा सकता है.''

ये भी पढ़ें- गुजरात के इन खूबसूरत लोकेशन पर घूमने का शानदार मौका, 5 हजार से भी कम आएगा खर्च, जानें पैकेज की डिटेल्स...
अधिकांश प्रोजेक्ट्स को हाइब्रिड एनुअटी मॉडल (Hybrid Annuity Model) पर लिया जाएगा, जबकि अन्य को इंजीनियरिंग खरीद और निर्माण (Engineering Procurement and Construction) अनुबंध के आधार पर लिया जाएगा. निर्माण और हस्तांतरण पर दो परियोजनाएं ली जाएंगी, बीओटी (टोल)- पीपीपी मॉडल जो अब एक दशक के करीब बंद पड़ा है.

ये भी पढ़ें- Indian Railway: रेल यात्रियों के लिए रेलवे ने शुरू की नई सुविधा, लंबे सफर में नहीं होगी परेशानी

यस सिक्योरिटीज के आंकड़ों के मुताबिक, टेंडरिंग पाइपलाइन में 55 फीसदी हाईवेज प्रोजेक्ट्स को वर्तमान में एचएएम आधार पर और 35 फीसदी ईपीसी मोड पर चालू किया जाएगा. बता दें कि एचएएम और ईपीसी कंस्ट्रक्शन मॉडल हैं जिसमें यातायात जोखिम और पूंजीगत लागत सरकार द्वारा वहन की जाती है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज