फ्लैट बेचने के लिए बिल्डर नहीं दे पाएंगे आकर्षक छूट, बंद होगी ये स्कीम

नेशनल हाउसिंग बैंक (NHB) ने हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों को ऐसी लोन स्कीम से बचने का सुझाव दिया है जिसमें लोन के ब्याज का भुगतान खरीदार की जगह रियल्टी कंपनियां करती हैं.

News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 2:04 PM IST
फ्लैट बेचने के लिए बिल्डर नहीं दे पाएंगे आकर्षक छूट, बंद होगी ये स्कीम
फ्लैट बेचने के लिए बिल्डर नहीं दे पाएंगे छूट, जानें क्यो?
News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 2:04 PM IST
बिल्डर घर खरीदारों को आकर्षित करने के लिए कई तरह की स्कीम पेश करते हैं. लेकिन अब वो ऐसी स्कीम पेश नहीं कर पाएंगे. क्योंकि नेशनल हाउसिंग बैंक (NHB) ने हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों को ऐसी लोन स्कीम से बचने का सुझाव दिया है जिसमें लोन के ब्याज का भुगतान खरीदार की जगह रियल्टी कंपनियां करती हैं. नेशनल हाउसिंग बैंक के इस निर्देश से 5:95 और 10:90 जैसी इंटरेस्ट सबवेंशन स्कीम में अब घर खरीदना मुश्किल होगा.

बंद होगी इंटरेस्ट सबवेंशन स्कीम
इंटरेस्ट सबवेंशन स्कीम के तहत घर खरीदारों को फ्लैट के वास्तविक मूल्य का 5 या 10 फीसदी पैसा शुरुआत में जमा करना होता है. इसके बाद बाकी बचा पैसे को वो लोन के लिए भुगतान कर सकते हैं. हालांकि कई मामलों में लोन अप्रूव होने के बाद भी ग्राहकों को तय समय पर घर नहीं मिलता है.

ये भी पढ़ें: देशभर में बिल्डरों पर सुप्रीम कोर्ट का शिकंजा, दिया ये आदेश

कम होगी धोखाधड़ी
NHB ने कहा है कि सबवेंशन स्कीम बंद होने से घर खरीदारों के साथ होने वाली धोखाधड़ी में कमी आएगी. एनबीएस के इस कदम से बिल्डरों को अपने नए प्रोजेक्ट के लिए पैसा जुटाना काफी मुश्किल भरा काम हो जाएगा. इससे पहले से बेहाल रियल एस्टेट सेक्टर को और झटका लगने की उम्मीद है.

कंस्ट्रक्शन के हिसाब से मिलेगा पैसा
Loading...

नए दिशा-निर्देशों के मुताबिक अब बिल्डर कंस्ट्रक्शन के हिसाब से पैसा ले सकेंगे. एकमुश्त रकम मिलने की सुविधा पर पूरी तरह से रोक लगेगी. अगर निर्माण कार्य बिल्डर द्वारा रोक दिया जाता है, तो फिर हाउसिंग फाइनेंस कंपनी बिल्डर को पैसा देना बंद कर सकती हैं.

ये भी पढ़ें: इनकम टैक्स रिटर्न भरने के बाद जरूरी है वेरिफाई करना! जानिए इसका पूरा प्रोसेस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 23, 2019, 2:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...