Home /News /business /

थोड़ी देर में वित्तमंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस, बजट से कुछ दिन पहले क्यों रखी गई ये PC, जानिए

थोड़ी देर में वित्तमंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस, बजट से कुछ दिन पहले क्यों रखी गई ये PC, जानिए

आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गये जजमेंट को लेकर आयोजित की जा रही है, जिसमें सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने देवास मल्टीमीडिया (Devas Multimedia) के मामले में एनसीएलटी (NCLAT) के फैसले को बरकरार रखा है.

आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गये जजमेंट को लेकर आयोजित की जा रही है, जिसमें सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने देवास मल्टीमीडिया (Devas Multimedia) के मामले में एनसीएलटी (NCLAT) के फैसले को बरकरार रखा है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) शाम 4.30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करने जा रही हैं. लोगों को लग रहा है क्या बजट से पहले वित्त मंत्री किसी बड़े राहत पैकेज का ऐलान करने वाली हैं या फिर सरकार की तरफ से कुछ नीतिगत घोषणा हो सकती है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) शाम 4.30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करने जा रही हैं. आम तौर पर बजट के पहले वित्त मंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित नहीं की जाती है. इसलिए आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बारे में देश और बाजार की उत्सुकता बढ़ गई है. लोगों को लग रहा है क्या बजट से पहले वित्त मंत्री किसी बड़े राहत पैकेज का ऐलान करने वाली हैं या फिर सरकार की तरफ से कुछ नीतिगत घोषणा हो सकती है.

मनीकंट्रोल ने सीएनबीसी-आवाज़ के हवाले से खबर लिखी है. सीएनबीसी-आवाज़ के एक्सक्लूसिव सूत्रों से जानकारी मिली है कि आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस को Budget 2022 से संबंधित किसी घोषणा से लेकर देखने की जरूरत नहीं है. सीएनबीसी-आवाज़ के लक्ष्मण रॉय ने सूत्रों के हवाले से कहा कि आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गये जजमेंट को लेकर आयोजित की जा रही है, जिसमें सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने देवास मल्टीमीडिया (Devas Multimedia) के मामले में एनसीएलटी (NCLAT) के फैसले को बरकरार रखा है.

देवास मल्टीमीडिया पर ब्रीफिंग संभव
बता दें कि अपने फैसले के तहत NCLAT ने Devas मल्टीमीडिया बंद करने को कहा है, जिसको सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी और अब देश की सर्वोच्च अदालत ने भी एनसीएलटी के फैसले पर मुहर लगा दी है. माना जा रहा है कि SC के फैसले से भारत का पक्ष मजबूत होगा और इतना ही नहीं इंटरनेशनल आर्बिट्रेशन में भी भारत का पक्ष मजबूत होगा. सरकार द्वारा ये केस अपने पक्ष में आने पर वित्त मंत्री द्वारा आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करके देवास मल्टीमीडिया पर चर्चा की जा सकती है और प्रेस को ब्रीफ किया जा सकता है.

UPA सरकार के टाइम से चल रहा है केस
लक्ष्मण ने आगे कहा कि कल यानी सोमवार को सुप्रीम कोर्ट का फैसला एनसीएलटी के पक्ष में आया, जिससे भारत की इंटरनेशनल आर्बिट्रेशन में चल रहे कई मामलों में स्थिति मजबूत होने की संभावना जताई जा रही है. ये मामला यूपीए सरकार के समय से चल रहा है और एनडीए सरकार बनने के बाद मामले में सख्ती दिखाई गई और सरकार ने अपनी रणनीति में बदलाव किया, जिसके चलते सुप्रीम कोर्ट से ये फैसला एनसीएलटी के पक्ष में आया. इसलिए माना जा रहा है सरकार की रणनीति और पक्ष पर चर्चा करन के लिए वित्त मंत्री द्वारा ये प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई गई है.

क्या है Devas मल्टीमीडिया मामला
देवास मल्टीमीडिया के बारे में अधिक जानकारी देते हुए सीएनबीसी-आवाज़ के संपादक शैलेंद्र भटनागर ने कहा कि ये मामला सन 2005 का है भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (Indian Space Research Organisation (ISRO) और देवास मल्टीमीडिया के बीच एक डील हुई थी, जिसमें इसरो द्वारा देवास मल्टीमीडिया के लिए 2 सैटेलाइट लॉन्च किये जाने थे. ये सैटेलाइट टेलीकॉम सेक्टर के लिए लॉन्च किये जाने थे, जो काफी कम फ्रिक्वेंसी पर लॉन्च होने थे, जिससे कंपनी को बहुत कम टॉवर लगाने की जरूरत पड़ती.

डील पर हुआ था बवाल
बता दें कि उन दिनों इसरो सीधे प्रधानमंत्री कार्यालय के अधीन होने के नाते इस डील पर साल 2005 से लेकर 2010 तक काफी सवाल खड़े किये गये और काफी बवाल हुआ. अंत में ये डील रद्द कर दी गई थी, जिसके बाद देवास मल्टीमीडिया ने इसके बदले बहुत भारी मुआवजे की मांग की थी और एनसीलएलटी द्वारा उनके विरोध में फैसला किये जाने के बाद कंपनी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था लेकिन वहां भी देवास मल्टीमीडिया को निराशा हाथ लगी है.

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर