लाइव टीवी
Elec-widget

वित्त मंत्री का दावा, दुनिया के 20 सबसे बड़े देशों में टॉप पर है भारत की जीडीपी ग्रोथ

News18Hindi
Updated: November 20, 2019, 4:40 PM IST
वित्त मंत्री का दावा, दुनिया के 20 सबसे बड़े देशों में टॉप पर है भारत की जीडीपी ग्रोथ
देश में निवेश को बढ़ाने के लिए सरकार ने कारपोरेट टैक्स कम किया

दो सांसदों द्वारा संसद में पूछे गए सवाल के जवाब में निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने कहा देश में निवेश को बढ़ाने के लिए सरकार ने कारपोरेट टैक्स (Corporate Tax) को 30 प्रतिशत से घटाकर 22 प्रतिशत कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2019, 4:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विपक्ष के आरोपों के उलट केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दावा किया है कि 2014-19 में औसत जीडीपी वृद्धि (GDP Growth) दर 7.5 प्रतिशत थी, जो कि जी-20 देशों में सर्वाधिक है. अक्टूबर 2019 के वर्ल्ड इकोनोमिक आउटलुक (WEO) 2019 में वैश्विक उत्पादन और व्यापार में अच्छी खासी मंदी का अनुमान लगाया गया है, फिर भी हाल में जीडीपी वृद्धि में कुछ कमी के बावजूद डब्ल्यूईओ द्वारा लगाए गए अनुमान के अनुसार 2019-20 में जी-20 देशों में भारत अभी भी सर्वाधिक तेज दर से बढ़ता हुआ देश है. सीतारमण ने यह बात राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय के आंकड़ों के हवाले संसद में लिखित रूप में कही है.

वो सांसद के. नवासखनी एवं बालूभाऊ उर्फ सुरेश नारायण धानोरकर द्वारा पूछे गए एक सवाल का जवाब दे रही थीं. दोनों सांसदों ने पूछा था कि जीडीपी अप्रैल-जून की तिमाही अब तक के न्यूनतम स्तर पर 5 फीसदी तक पहुंच गई है. इस गिरावट के क्या कारण हैं. निवेश में वृद्धि सुनिश्चित करने के लिए क्या कदम उठाए गए हैं.

ये भी पढ़ें: इतिहास का सबसे अमीर आदमी है ये शख्स! बेजोस, गेट्स इनसे आज भी हैं कई गुना पीछे

5 ट्रिलियन अमरीकी डॉलर अर्थव्यवस्था बनाने की हो रही है तैयारी

इसके जवाब में सीतारमण ने कहा कि देश की जीडीपी वृद्धि को बढ़ाने के उद्देश्य से सरकार अर्थव्यवस्था में संतुलित स्तर की निश्चित निवेश दर के लिए अनेक उपाय कर रही है. पिछले 5 वर्षों में देश में निवेश का माहौल बनाने के लिए सरकार ने प्रमुख कई सुधार किए हैं. जिससे देश 5 ट्रिलियन अमरीकी डॉलर अर्थव्यवस्था बन सके.

विश्वस्तरीय प्रोडक्ट एवं सेवाओं के लिए देश की स्वदेशी क्षमता को बढ़ाने के लिए मेक-इन इंडिया कार्यक्रम एक मुख्य पहल है. इन सबके साथ-साथ सरकार ने देश में सकारात्मक निवेश के माहौल को जारी रखने के लिए अर्थव्यवस्था की स्थिरता सुनिश्चित की है. मुद्रास्फीति को कम रखा. राजकोषीय खर्च को अनुशासित किया और चालू खाता घाटे को नियंत्रण में रखा.

ये भी पढ़ें: सोने के गहने खरीदने का है प्लान तो ठहरिए! 1 जनवरी से बदल जाएगा ये बड़ा नियम
Loading...

देश में निवेश को बढ़ाने के लिए सरकार ने कारपोरेट टैक्स को 30 प्रतिशत से घटाकर 22 प्रतिशत कर दिया है. विशेष रूप से नई घरेलू उत्पादन कंपनियों के लिए यह रेट 15 प्रतिशत तक लाया गया है, जो विश्व में न्यूनतम टैक्सों में से है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 11:16 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com