होम /न्यूज /व्यवसाय /Zerodha के नितिन कामत ने बताए हेल्दी लाइफस्टाइल के 3 मंत्र! क्या अपना पाएंगे आप?

Zerodha के नितिन कामत ने बताए हेल्दी लाइफस्टाइल के 3 मंत्र! क्या अपना पाएंगे आप?

ज़ीरोधा के सीईओ ने कहा कि वह योग निद्रा का अभ्यास करते हैं.

ज़ीरोधा के सीईओ ने कहा कि वह योग निद्रा का अभ्यास करते हैं.

नितिन कामत हमेशा अपने कर्मचारियों को हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए प्रेरित करते रहते हैं. इस बार उन्होंने हेल्दी लाइफस्टाइल ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

रात को सोने से 2 घंटे पहले आपको डिवाइस इस्तेमाल नहीं करने चाहिए.
ज़ीरोधा के सीईओ नितिन कामत योग निद्रा का अभ्यास करते हैं.
12 घंटों तक कुछ नहीं खाना भी उनकी रूटीन का हिस्सा है.

नई दिल्ली. बॉस हो तो नितिन कामत जैसा! वह इसलिए, क्योंकि नितिन कामत हमेशा अपने कर्मचारियों को हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए प्रेरित करते रहते हैं. वे खुद भी काफी हेल्दी लाइफ जीते हैं और चाहते हैं कि उनकी कंपनी ज़ीरोधा में काम करने वाले लोग भी हेल्दी रहें.

हाल ही में एक ट्विटर यूजर ने नितिन कामत को टैग करते हुए पूछा कि क्या वे ऐसी पॉजिटिव 3 चीजें बता सकते हैं जो उन्होंने अपनी रूटीन में बदली हों, ताकि बाकी लोग भी वैसा ही करके लाभ ले सकें. नितिन कामत ने भी इस यूजर के ट्वीट का उत्तर दिया. उन्होंने जो कहा, वह जानने और अपनाने लायक है.

ये भी पढ़ें – बॉडी को डिटॉक्स के लिए डाइट में सब्जियों के साथ शामिल करें ये फूड्स

सबसे पहले नितिन कामत ने कहा कि रात को सोने से 2 घंटे पहले आपको डिवाइस इस्तेमाल नहीं करने चाहिए. यहां डिवाइस से उनका मतलब मोबाइल फोन, टैबलेट, टेलीविजन इत्यादी से है. इसके बाद, ज़ीरोधा के सीईओ ने कहा कि वह योग निद्रा का अभ्यास करते हैं या फिर सोने से पहले वे 10 मिनट के लिए मेडिटेशन करते हैं.

नितिन कामत ने अपने लिए हर दिन की एक्विटीविटीज़ का टार्गेट तय किया हुआ है और वे पूरा दिन एक्टिव रहने के लिए प्रोटीन लेते हैं. 12 घंटों तक कुछ नहीं खाना भी उनकी रूटीन का हिस्सा है.

पहले भी कर्मचारियों को किया मोटिवेट
ज़ीरोधा के को-फाउंडर नितिन कामत इससे पहले अपने कर्मचारियों को फिट रहने के लिए प्रेरित करते रहे हैं. अभी अगस्त में ही उन्होंने अपने इम्प्लाइज़ को एक फिटनेस चैलेंज दिया था. इस चैलेंज में एक्टिविटी टार्गेट पूरा करने वालों के लिए 10 लाख रुपये तक जीतने की घोषणा की गई थी.

ये भी पढ़ें – क्या डायबिटीज में सच में चावल नहीं खाने चाहिए? जानिए क्या कहते हैं डॉक्टर

कामत ने कहा था कि प्रतिदिन 350 कैलरीज़ को बर्न करना चैलेंज है. लेकिन यह गोल अलग-अलग भी हो सकता है. कंपनी के फिटनेस ट्रैकर पर डेली टार्गेट सेट करने का भी एक ऑप्शन दिया गया था. उन्होंने कहा था कि जो भी कर्मचारी एक साल तक अपने सेट गोल का 90 फीसदी टास्क पूरा करता है तो उसे एक महीने की सैलरी बोनस में मिलेगी.

उससे पहले अप्रैल में उन्होंने अपने कर्मचारियों के लिए वजन घटाने पर इन्सेंटिव की घोषणा की थी. हालांकि सोशल मीडिया पर कुछ लोगों को ये अनाउंसमेंट रास नहीं आई और उन्होंने नितिन कामत को बॉडी-शेमिंग के तहत भेदभाव करने का जिम्मेदार ठहराया था. हालांकि बाद में कामत ने अपनी बात को और स्पष्ट करते हुए था कि वह केवल लोगों को अपने लाइफस्टाइल में बदलाव लाने के लिए मोटिवेट करने के मकसद से था.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें