नीति आयोग के CEO अमिताभ कांत ने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था करेगी बाउंस बैक

नीति आयोग के CEO अमिताभ कांत ने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था करेगी बाउंस बैक
(फाइल फोटो)

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि कोविड-19 महामारी न केवल भारत के लिए बल्कि अमेरिका और यूरोपीय देशों सहित पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी चुनौती है.

  • Share this:
नई दिल्ली. नीति आयोग (Niti Aayog) के सीईओ अमिताभ कांत ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 महामारी से चौपट हुई अर्थव्यवस्था में फिर से तेजी दिखाई देने लगी है और यह बाउंस बैंक करेगी. कोरोना महामारी ने आर्थिक गतिविधियां को गंभीर रूप से प्रभावित किया है क्योंकि देश को कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन से गुजरना पड़ा था. अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार ने आर्थिक पैकेज सहित कई उपायों की घोषणा की थी. कांत ने आगे कहा कि कोविड-19 महामारी न केवल भारत के लिए बल्कि अमेरिका और यूरोपीय देशों सहित पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी चुनौती है.

उन्होंने कहा, मुझे पूरा विश्वास है कि भारत बाउंस बैक करेगा. हम पहले से ही अर्थव्यवस्था में तेजी देख रहे हैं. हम देख रहे हैं कि FMCG जैसे प्रमुख सेक्टर पहले ही कम बैक कर चुके हैं. 'FICCI FRAMES 2020' ने उन्होंने कहा, मुझे उम्मीद है कि हम बाउंस बैक करेंगे और बाउंस बैक बहुत तेजी के साथ करेंगे. कांत ने कहा, आर्थिक गतिविधियों में सुस्ती के कारण सरकार के राजस्व संग्रह में गिरावट आई है. हालांकि धीरे-धीरे अनलॉक होने के साथ आर्थिक गतिविधियां फिर से शुरू हो रही हैं. जून में जीएसटी (GST) रेवेन्यू कलेक्शन बढ़कर 90,917 करोड़ रुपए हो गया. मई में जीएसटी कलेक्शन 62,009 करोड़ रुपए और अप्रैल में जीएसटी कलेक्शन 32,294 करोड़ रुपए रहा था.

यह भी पढ़ें- Railway की नई फैसिलिटी! जल्द यात्रियों को स्टेशन पर मिलेगी ये सुविधा, बिजली बचाने के लिए शुरू हुई सर्विस



कांत ने आगे कहा कि महामारी केवल भारत के लिए ही नहीं बल्कि पूरे विश्व के लिए एक बड़ी चुनौती है, जिसमें अमेरिका और यूरोपीय देश भी शामिल हैं. उन्होंने कहा, हर संकट एक अवसर भी होता है. इसलिए. इस संकट में भी बहुत बड़ी हार और जीत होने वाली है. भारत यह तय कर सकता है कि वह हारना चाहता है या वह जीतना चाहता है.
कांत ने जोर देकर कहा कि भारत को 12-13 विकास क्षेत्रों को चुनना चाहिए जो कि कल के लिए विजेता के रूप में उभरने वाले हैं और डाटा, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, जीनोमिक्स, मोबिलिटी और क्रिएटिव इंडस्ट्री जैसे क्षेत्रों को सूचीबद्ध किया है.

ये भी पढ़ें:- PPF का नियम बदला मिली बड़ी छूट! अकाउंट जारी रखने के लिए करना होगा ये काम

यह विश्व स्तरीय उत्पादों को बनाने, भारतीय बाजार पर कैप्चर करने और फिर वैश्विक बाजार में प्रवेश करने के लिए घरेलू बाजार की ताकत का उपयोग करने के लिए भारतीय कंपनियों की क्षमताओं के बारे में है. बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से आत्मनिर्भर भारत अभियान की घोषणा की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading