अपना शहर चुनें

States

मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने कहा, धीरे-धीरे उबर रही है देश की अर्थव्यवस्था, कुछ क्षेत्रों में निवेश की बताई तत्‍काल जरूरत

नीति आयोग के पूर्व उपाध्‍यक्ष ने कहा, कुछ सेक्‍टर्स में निवेश की तुरंत जरूरत है.
नीति आयोग के पूर्व उपाध्‍यक्ष ने कहा, कुछ सेक्‍टर्स में निवेश की तुरंत जरूरत है.

नीति आयोग (NITI Aayog) के पूर्व उपाध्‍यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया (Montek Singh Ahluwalia) ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus) के चलते लॉकडाउन (Lockdown) जरूरी हो गया था. इसके चलते हम वित्‍त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में चोटी से फिसल गए. अब भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) वापस चढ़ रही है. साफ है कि अर्थव्‍यवस्‍था में धीरे-धीरे ही सही, लेकिन सुधार हो रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 24, 2021, 11:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. योजना आयोग (NITI Aayog) के पूर्व उपाध्‍यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया (Montek Singh Ahluwalia) ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था ने धीरे-धीरे उबरना शुरू कर दिया है. भारत की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में कोरोना संकट की शुरुआत होने के पहले से ही नरमी (Slowdown) आने लगी थी. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते लॉकडाउन लगने के बाद वित्त वर्ष 2020-21 की अप्रैल-जून तिमाही में घरेलू अर्थव्यवस्था में 23.9 फीसदी की भारी-भरकम गिरावट दर्ज की गई थी.

अहलूवालिया ने कहा, जरूरी हो गया था लॉकडाउन
चालू वित्‍त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर 2020 के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था ने तेज वापसी (Economic Recovery) की और गिरावट की दर घटकर 7.5 फीसदी रह गई. अहलूवालिया ने कहा कि महामारी के चलते लॉकडाउन (Lockdown) जरूरी हो गया था. इसके चलते हम वित्‍त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में चोटी से फिसल गए. अब अर्थव्यवस्था वापस चढ़ रही है. ऐसे में मुझे लगता है कि यह क्रमिक सुधार है. ये साफ है कि अर्थव्‍यवस्‍था में धीरे-धीरे ही सही, लेकिन सुधार हो रहा है. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) की ओर से जारी राष्ट्रीय आय (National Income) के पहले अग्रिम अनुमानों के मुताबिक, देश के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान रिकॉर्ड 7.7 फीसदी की गिरावट का अनुमान है.

ये भी पढ़ें- Budget 2021: रियल स्टेट सेक्‍टर को मिलेगी बड़ी राहत! कैपिटल गेंस टैक्‍स में मिल सकती है छूट, जानें आपको क्‍या होगा फायदा
'इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर सेक्‍टर में तुरंत निवेश बढ़ाने की है जरूरत'


अहलूवालिया ने कहा कि विनिर्माण क्षेत्र (Manufacturing Sector) पटरी पर लौट रहा है. अब ये धीरे-धीरे वित्‍त वर्ष 2019-20 की स्थिति में वापस लौट गया है. हालांकि, होटल, रेस्‍टोरेंट, टूर एंड ट्रैवल और मॉल में खुदरा खरीदारी (Retail Shopping) जैसे क्षेत्र बुरी तरह से प्रभावित हैं. इन्हें सामान्य स्थिति में लौटने में अभी भी कुछ समय लगेगा. उन्होंने कहा कि देश में बुनियादी ढांचा क्षेत्र (Infrastructure Sector) अभी भी पीछे है और अगली कुछ तिमाहियों में इस क्षेत्र में निवेश बढ़ाने की तत्काल जरूरत है. अहलूवालिया ने लघु उद्योगों (Small Industries) को कर्ज सहायता देने के लिए केंद्र सरकार (Central Government) और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की सराहना की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज