Home /News /business /

Economy के लिए अच्‍छे संकेत! वित्त वर्ष 2022 में आर्थिक वृद्धि दर 10 फीसदी या ज्‍यादा रहेगी: नीति आयोग

Economy के लिए अच्‍छे संकेत! वित्त वर्ष 2022 में आर्थिक वृद्धि दर 10 फीसदी या ज्‍यादा रहेगी: नीति आयोग

NITI Aayog के उपाध्‍यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि देश की वृद्धि दर वित्त वर्ष 2022-23 में 8 फीसदी से अधिक रहेगी.

NITI Aayog के उपाध्‍यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि देश की वृद्धि दर वित्त वर्ष 2022-23 में 8 फीसदी से अधिक रहेगी.

देश के सामने दो साल कोविड-19 महामारी के कारण आर्थिक वृद्धि (Economic Growth) के मोर्चे पर समस्या आई है. अंतरराष्‍ट्रीय मुद्राकोष (IMF) ने साल 2021 में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) में 9.5 फीसदी वृद्धि का अनुमान जताया है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. नीति आयोग (NITI Aayog) के उपाध्यक्ष राजीव कुमार (Rajiv Kumar) ने कहा कि देश की आर्थिक वृद्धि दर (Growth Rate) वित्त वर्ष 2021-22 में 10 फीसदी या इससे भी ज्‍यादा रहेगी. यही नहीं, उन्‍होंने वित्त वर्ष 2022-23 में इसके 8 फीसदी से ऊपर रहने का अनुमान जताया है. कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Government) के 7 साल के कार्यकाल में कंपनियों के फलने-फूलने के लिए मजबूत आर्थिक नींव रखी गई है. इससे कारोबारी गतिविधियों में तेजी आई है. इसका सीधा और बड़ा फायदा देश की अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) को मिलेगा.

    ‘अगले वित्‍त वर्ष में 8 फीसदी से ज्‍यादा रहेगी ग्रोथ’
    देश के सामने दो साल कोविड-19 महामारी के कारण आर्थिक वृद्धि (Economic Growth) के मोर्चे पर समस्या आई है. अंतरराष्‍ट्रीय मुद्राकोष (IMF) ने साल 2021 में 9.5 फीसदी वृद्धि का अनुमान जताया है. कुमार ने कहा कि अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष के मुताबिक भारत अगले पांच साल में तेज आर्थिक वृद्धि हासिल करने वाली बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश होगा. भारत की वृद्धि दर वित्त वर्ष 2020-21 में 10 फीसदी रहेगी. वहीं, कोविड-19 महामारी से निकलने के बाद भारत की वृद्धि दर वित्त वर्ष 2022-23 में 8 फीसदी से अधिक रहेगी.

    ये भी पढ़ें- DA में फिर हुई बढ़ोतरी! कुछ सरकारी कर्मियों के महंगाई भत्ते में की गई है 12 फीसदी तक वृद्धि

    आरबीआई ने घटाया आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान
    भारतीय रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिए देश की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को 10.5 फीसदी से घटाकर 9.5 फीसदी कर दिया है. वहीं, अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष ने 2021 में वृद्धि दर 9.5 फीसदी और अगले साल 8.5 फीसदी रहने का अनुमान जताया है. कुमार ने कहा कि अब हालात बदल रहे हैं और लोग भारत में निवेश के लिए तैयार हैं. नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने कहा कि भारत की मध्यम अवधि में संभावित सतत वृद्धि दर 8 फीसदी तक होगी. आईएमएफ ने अक्‍टूबर 2021 में महामारी का हवाला देते हुए भारत की मध्यम अवधि में सतत वृद्धि संभावना अनुमान को घटाकर 6 फीसदी कर दिया था.

    Tags: Business news in hindi, Economic growth, GDP growth, IMF, Indian economy, Niti Aayog, RBI

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर