• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • 3 साल में भारतीयों ने UPI से किए 1882 करोड़ लेनदेन, 3 साल में Visa-Mastercard को छोड़ देगा पीछे

3 साल में भारतीयों ने UPI से किए 1882 करोड़ लेनदेन, 3 साल में Visa-Mastercard को छोड़ देगा पीछे

राजनीति का डिजिटलीकरण.

राजनीति का डिजिटलीकरण.

नीति आयोग (Niti Aayog) के सीईओ अमिताभ कांत (CEO Amitabh Kant) ने कहा कि यूपीआई के जरिये लेनदेन (UPI Transactions) से पीएम नरेंद्र मोदी के 'डिजिटल इंडिया' (Digital India) अभियान को बड़ा फायदा मिला है. उन्‍होंने बताया कि वित्‍त वर्ष 2018 से 2020 के बीच यूपीआई ट्रांजैक्‍शन की संख्‍या (Volume) 13 गुना और मूल्‍य (Value) 20 गुना बढ़ गया है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. नीति आयोग (Niti Aayog) के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत (CEO Amitabh Kant) ने बताया कि पिछले दो साल के भीतर यूपीआई ट्रांजेक्‍शन (UPI Transactions) में जबरदस्‍त बढ़ोतरी दर्ज की गई है. इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के डिजिटल इंडिया अभियान (Digital India Mission) को काफी मजबूती मिली है. इस समय फोनपे (PhonePe), गूगल पे (Google Pay), भीम (BHIM) समेत कई मोबाइल प्‍लेटफॉर्म यूजर्स को तत्‍काल पैसे भेजने या भुगतान करने की सुविधा दे रहे हैं.

    यूपीआई ट्रांजेक्‍शन ने अमेक्‍स के रिकॉर्ड को छोड़ दिया पीछे
    अमिताभ कांत ने बताया कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के आंकड़ों के मुताबिक, वित्‍त वर्ष 2018 से 2020 के बीच यूपीआई ट्रांजेक्‍शन की संख्‍या (Volume) में 13 गुना तक वृद्धि हुई है. वहीं, मूल्‍य (Value) के आधार पर यूपीआई ट्रांजेक्‍शन में 20 गुना तक बढ़ोतरी दर्ज की गई है. यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) से इन तीन साल में 18 अरब से ज्‍यादा लेनदेन हुए हैं. इसने अमेक्‍स (Amex) के 8 अरब लेनदेन के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया है.

    ये भी पढ़ें- मारुति सुजुकी के चेयरमैन ने कहा, मोदी सरकार की नीतियों से मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर में बढ़ी प्रतिस्‍पर्धा

    वित्‍त वर्ष 2020 में हुए 1252 करोड़ यूपीआई ट्रांजेक्‍शन
    नीति आयोग के सीईओ ने कहा कि Amex, Visa और Mastercard दशकों से सेवाएं दे रहे हैं, लेकिन महज 5 साल पुराने यूपीआई ने अमेक्‍स को पीछे छोड़ दिया है. उन्‍होंने भरोसा जताया कि अगले तीन साल में यूपीआई Visa और Mastercard को भी पीछे छोड़ देगा. यूपीआई से वित्‍त वर्ष 2018 में 91.52 करोड़ लेनदेन हुए थे, जो 2019 में बढ़कर 539.2 करोड़ हो गए. वित्‍त वर्ष 2020 में इसमें जबरदस्‍त वृद्धि हुई और यूपीआई ट्रांजेक्‍शन की संख्‍या 1,252 करोड़ हो गई.

    ये भी पढ़ें- डिजिटल हेल्‍थ मिशन में डाटा प्राइवेसी पर केंद्र ने मांगे सुझाव, 3 सितंबर तक दे सकते हैं राय

    वित्‍त वर्ष 2020 में हुआ 21.32 लाख करोड़ रुपये का लेनदेन
    अमिताभ कांत ने बताया कि मूल्‍य के आधार पर वित्‍त वर्ष 2018 में यूपीआई से 1.09 लाख करोड़ रुपये के लेनदेन हुए, जो वित्‍त वर्ष 2019 में बढ़कर 8.77 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गए. इसके बाद वित्‍त वर्ष 2020 में यूपीआई के जरिये 21.32 लाख करोड़ रुपये के लेनदेन हुए हैं. यूपीआई की मदद से अलग-अलग बैंक अकाउंट को एक मोबाइल एप्‍लीकेशन की मदद से ऑपरेट किया जा सकता है. इसकी मदद से यूजर किसी भी समय और कहीं भी अपने मोबाइल फोन के जरिये पैसे भेज सकता है. साथ ही शॉपिंग के दौरान यूपीआई की मदद से तत्‍काल भुगतान कर सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज