लाइव टीवी

गडकरी ने कहा- भारत को 5 हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य कठिन, मगर...

भाषा
Updated: January 19, 2020, 9:42 AM IST
गडकरी ने कहा- भारत को 5 हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य कठिन, मगर...
घरेलू उत्पादन बढ़ाना होगा

नितिन गडकरी ने कहा कि देश को वर्ष 2024-25 तक 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य हालांकि कठिन है, लेकिन घरेलू उत्पादन बढ़ाने और आयात पर निर्भरता घटाने जैसे कदमों से इसे हासिल किया जा सकता है.

  • Share this:
इंदौर. केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री (Union Road Transport and Highways Minister) नितिन गडकरी ने कहा कि देश को वर्ष 2024-25 तक 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य हालांकि कठिन है, लेकिन घरेलू उत्पादन बढ़ाने और आयात पर निर्भरता घटाने जैसे कदमों से इसे हासिल किया जा सकता है.

गडकरी ने यहां इंदौर मैनेजमेंट असोसिएशन के अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सम्मेलन में कहा, किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मजबूत राजनीतिक इच्छाशक्ति बेहद महत्वपूर्ण है. ऐसी ही इच्छाशक्ति जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य तय किया है. यह लक्ष्य कठिन जरूर है. लेकिन असंभव नहीं है.

घरेलू उत्पादन बढ़ाना होगा
उन्होंने कहा, हमारे देश में संसाधनों की प्रचुरता तो है ही उत्पादन क्षमता भी बेहतर है. इसके बावजूद हम हर साल दवाओं, चिकित्सा उपकरणों, कोयला, तांबा, कागज आदि वस्तुओं के आयात पर करोड़ों रुपये खर्च कर रहे हैं. अगर हमें 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनना है, तो हमें चीजों का आयात करने के बजाय इनका घरेलू उत्पादन बढ़ाना होगा.

ये भी पढ़ें: चार्जिंग स्टेशन खोलकर कमाई करने का मौका, 6500 रुपये में सरकार दे रही है ट्रेनिंग

आर्थिक सुस्ती की ओर इशारा करते हुए गडकरी ने कहा, हम दुनिया की सबसे तेज गति से बढ़ रही अर्थव्यवस्था हैं, लेकिन कारोबार का एक चक्र होता है. कभी वैश्विक अर्थव्यवस्था के कारकों के चलते, तो कभी मांग और पूर्ति के अंतर या अन्य कारणों से अलग-अलग चुनौतियां आती हैं. लेकिन मैं युवा पीढ़ी के उन नेतृत्वकर्ताओं में हिंदुस्तान का भविष्य देखता हूं, जो मुश्किलों और चुनौतियों को अवसरों में बदल सकते हैं.

MSMEs से 5 करोड़ नए रोजगार हो सकते हैं पैदाकेंद्रीय मंत्री ने जोर देकर यह भी कहा कि देश में पूंजी, संसाधनों और तकनीक की कोई कमी नहीं है, लेकिन विभिन्न क्षेत्रों में सही नजरिये और नेतृत्व की कमी जरूर है. उन्होंने देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने को लेकर मोदी सरकार के महत्वाकांक्षी लक्ष्य की चर्चा करते हुए कहा कि विकास में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों (MSMEs) की भागीदारी में इजाफे पर ध्यान केंद्रित करते हुए निर्यात को बढ़ावा दिया जाएगा और इस क्षेत्र में 5 करोड़ नए रोजगार पैदा करने में मदद मिलेगी. गडकरी ने कहा, 'सरकार अपने हर विभाग से पूछ रही है कि वह देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य को हासिल करने में क्या योगदान दे सकता है?

ये भी पढ़ें:
19 लाख किसानों ने उठाया 3000 रुपये/-महीने की स्कीम का फायदा, ऐसे करें अप्लाई
अगर करते हैं नौकरी या फिर बिजनेस! तो जानिए टैक्‍स बचाने के सबसे आसान तरीके, सालभर रहेंगे टेंशन फ्री

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 19, 2020, 9:42 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर