लाइव टीवी

अगले 5 साल में सरकार को होगी 1 लाख करोड़ की कमाई, बनाया ये खास प्लान

भाषा
Updated: October 14, 2019, 4:02 PM IST
अगले 5 साल में सरकार को होगी 1 लाख करोड़ की कमाई, बनाया ये खास प्लान
अगले पांच साल में टोल और अन्य स्रोतों से होगी 1 लाख करोड़ की आमदनीः

नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) अगले पांच साल में 1 लाख करोड़ की आमदनी करेगा. यह आमदनी टोल (Toll) और सड़क किनारे के इन्फ्रास्ट्रक्चर (Wayside Amenities) से होगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) अगले पांच साल में 1 लाख करोड़ की आमदनी करेगा. यह आमदनी टोल (Toll) और सड़क किनारे के इन्फ्रास्ट्रक्चर (Wayside Amenities) से होगी. सोमवार को सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री (Union Minister of Road Transport and highways) नितिन गडकरी ने यह बात कही.

5 साल में 75,000 किलोमीटर सड़क टोल के दायरे आएगा
उन्होंने कहा कि भारत सरकार अगले 5 साल में 75,000 किलोमीटर सड़क को टोल के दायरे में लाया जाएगा. वर्तमान में 24.996 किलोमीटर सड़क ही टोल की श्रेणी में आती है. इस वित्त वर्ष में ही इसमें 2000 किलोमीटर की बढ़ोतरी का इरादा है.

दिसंबर तक 30 हजार करोड़ तक पहुंच जाएगी टोल से इनकम

गडकरी ने कहा, इस साल के आखिरी तक टोल से होने वाली आय 30,000 करोड़ तक पहुंच जाएगी. जैसे-जैसे हम और सड़कें और अमेनिटीज बनाते जा रहे हैं, आमदनी बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि अगर इस तरह से सरकार की आमदनी होती है तो बैंक से लोन भी लिया जा सकता है और बड़े प्रॉजेक्ट्स में निवेश बढ़ाया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार किसानों के खाते में भेजने वाली है ₹60 हजार करोड़, नहीं मिले तो ऐसे करें पता

टोल प्लाजा पर सरकार जल्द लागू करने जारी है नया नियम
Loading...

मालवाहनों के लिये बिना रुके टोल भुगतान (Toll Payment) की फास्टैग (FASTag) सुविधा को जीएसटी ई-वे बिल (GST e-way Bill) प्रणाली से जोड़ने के लिए भारतीय राजमार्ग प्रबंधन कंपनी लिमिटेड (IHMCL) और माल एवं सेवा कर नेटवर्क (GSTN) समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किया. यह करार 'एक राष्ट्र एक फास्टैग' पर आयोजित एक सम्मेलन में किया गया. इस सम्मेलन का उद्घाटन केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग नितिन गडकरी ने किया.

होंगे ये फायदे
ई-वे बिल प्रणाली को फास्टैग से जोड़ने पर राजस्व अधिकारियों को वाहन के आवाजाही के बारे में पता करने में आसानी होगी. साथ ही यह सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी कि वाहन वहीं जा रहे हैं, जहां कि जानकारी ट्रांसपोर्टर या कारोबारी ने ई-वे बिल निकालते समय दी थी.

ये भी पढ़ें: बैंकों ने बदला लोन देने का तरीका, सैलरी नहीं अब ये स्कोर देखकर देंगे लोन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 4:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...