अपना शहर चुनें

States

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा-2025 तक हर साल 1.34 लाख करोड़ रुपये हो जाएगी टोल टैक्‍स से कमाई

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, देश के विकास के लिए ज्‍यादा विदेशी निवेश की जरूरत होगी.
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, देश के विकास के लिए ज्‍यादा विदेशी निवेश की जरूरत होगी.

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने कहा कि हैं. मौजूदा समय में एनएचएआई की आर्थिक स्थिति वास्तव में बेहतर स्थिति में है. साथ ही कहा कि नीति बनाने के लिए कई प्रकार की पहल को विकसित करने की जरूरत है, जिसके जरिये हम देश में अधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) हासिल कर सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2021, 12:26 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) की आर्थिक हालात पहले से काफी बेहतर है. देश का टोल राजस्व (Toll Tax Income) अभी 34,000 करोड़ रुपये सालाना है. उन्‍होंने भरोसा जताया कि टोल से कमाई 2025 तक 1.34 लाख करोड़ रुपये सालाना को छू जाएगी. केंद्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, 'अब मेरे लिए बड़ी चुनौती यह है कि हम इस परियोजना का मौद्रीकरण (Monetization) कैसे करने जा रहे हैं. हम कैसे धन जुटाने जा रहे हैं. यह महत्वपूर्ण है कि हम इसके लिए विभिन्न प्रकार के समाधान अपना रहे हैं.'

'लीडरशिप समिट 2021' और 14वें इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया अवार्ड्स (ICAI Awards) में गडकरी ने कहा कि चार्टर्ड अकाउंटेंट हमारी अर्थव्यवस्था (Indian Economy) के इंजन हैं. मौजूदा समय में एनएचएआई की आर्थिक स्थिति वास्तव में बेहतर स्थिति में है. हमारी मौजूदा टोल टैक्‍स से आय 34,000 करोड़ रुपये प्रति वर्ष है और 2025 तक हमारे पास 1.34 लाख करोड़ रुपये सालाना की आय होगी. उन्‍होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है. अब देश को वित्तपोषण में विभिन्न प्रकार के नए प्रयोग करने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें- इंडियन रेलवे खास अंदाज में दे रहा सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि, अब इस ऐतिहासिक ट्रेन का नाम होगा 'नेताजी एक्‍सप्रेस'




देश के विकास के लिए ज्‍यादा विदेशी निवेश की है जरूरत
केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि हमारी कुल प्रणाली डिजिटल है. मुझे यकीन है कि हमें देश के विकास के लिए विदेशी निवेश की जरूरत है. उन्होंने कहा कि नीति बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की पहल को विकसित करने की आवश्यकता है, जिसके जरिये हम देश में अधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) हासिल कर सकते हैं. गडकरी ने यह भी कहा कि सामाजिक आर्थिक परिवर्तन (Socio-Economic Changes) और गरीबी उन्मूलन बड़ी चुनौतियां हैं, लेकिन न्‍यू फंडिंग मॉडल, नई तकनीक और अनुसंधान कौशल के साथ ज्ञान को धन में बदलना संभव है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज