Home /News /business /

कल और परसों बैंकों में राष्ट्रव्यापी हड़ताल है या नहीं? इस खबर में मिलेगा इस सवाल का जवाब

कल और परसों बैंकों में राष्ट्रव्यापी हड़ताल है या नहीं? इस खबर में मिलेगा इस सवाल का जवाब

ट्रेड यूनियनों ने सरकार की नीतियों के खिलाफ 23-24 फरवरी की अपनी निर्धारित राष्ट्रव्यापी हड़ताल को स्थगित कर दिया है.

ट्रेड यूनियनों ने सरकार की नीतियों के खिलाफ 23-24 फरवरी की अपनी निर्धारित राष्ट्रव्यापी हड़ताल को स्थगित कर दिया है.

Bank Strike Tomorrow : ट्रेड यूनियनों द्वारा पहले 23-24 फरवरी को बुलाई गई प्रस्तावित बैंक हड़ताल (Bank Strike) को 28-29 मार्च 2022 तक के लिए टाल दिया गया है. इसे कोविड की तीसरी लहर (Third Wave of Covid-19) और विधानसभा चुनावों (Assembly Polls) के मद्देनजर स्थगित किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. ट्रेड यूनियनों द्वारा पहले 23-24 फरवरी को बुलाई गई प्रस्तावित बैंक हड़ताल (Bank Strike) को 28-29 मार्च 2022 तक के लिए टाल दिया गया है. एक संयुक्त बयान में, ट्रेड यूनियनों ने कहा था कि सरकार की नीतियों के खिलाफ 23-24 फरवरी की अपनी निर्धारित राष्ट्रव्यापी हड़ताल को स्थगित कर दिया है. इसे कोविड की तीसरी लहर (Third Wave of Covid-19) और विधानसभा चुनावों (Assembly Polls) के मद्देनजर एक माह के लिए स्थगित किया गया है.

इंडिया डॉट कॉम की एक खबर के अनुसार अब कल (23 फरवरी 2021) को हड़ताल नहीं होगी. एक जॉइन्ट स्टेटमेंट के अनुसार, केंद्रीय ट्रेड यूनियनों (CTUs) और क्षेत्रीय संघों/संघों के संयुक्त मंच की एक ऑनलाइन बैठक में इस दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल को 28-29 मार्च तक टालने का निर्णय लिया गया.

ये भी पढ़ें – Upcoming IPO: अगले महीने लॉन्च होंगे 8 आईपीओ, बंपर कमाई का है मौका

तैयारियों में जिलास्तर तक के सम्मेलन हुए

द नेशनल कन्वेंशन ऑफ वर्कर्स (The National Convention of Workers) ने 11 नवंबर 2021 को संसद के बजट सत्र के दौरान 23-24 फरवरी को देशव्यापी बैंक हड़ताल आयोजित करने का फैसला किया था. संयुक्त बयान के अनुसार, कई राज्यों और सेक्टरों में हड़ताल की तैयारी शुरू हो गई थी, कुछ राज्यों में संयुक्त राज्यस्तरीय सम्मेलन और यहां तक कि जिलास्तरीय सम्मेलन भी हो चुके थे.

ये भी पढ़ें – Russia-Ukraine: भारत के फार्मा सेक्टर की बिगड़ेगी ‘सेहत’, भभकेंगी तेल कंपनियां

सीटीयू के संयुक्त मंच ने कामगार लोगों और उनकी यूनियनों से कहा था, चाहे वे किसी भी संबद्धता के हों, हड़ताल को सफल बनाने और “राष्ट्र को विनाशकारी, राष्ट्रविरोधी नीति शासन से बचाने के लिए” आगे आएं. ट्रेड यूनियनों के संयुक्त मंच ने बैंक हड़ताल का आह्वान किया था, जिसमें INTUC, AITUC HMS, CITU, AIUTUC, TUCC, SEWA, AICCTU, LPF, UTUC, और स्वतंत्र क्षेत्रीय संघ/संघ शामिल हैं.

Tags: Bank Privatisation, Bank Strike

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर