बेकाबू कोरोना के बीच आइसोलेशन कोच के लिए रेलवे तैयार, राज्‍यों से नहीं लेगा कोई चार्ज

रेलवे के आइसोलेशन कोच

रेलवे के आइसोलेशन कोच

Covid Isolation Coaches: बढ़ते कोविड मरीजों के बेड्स की समस्या से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने रेलवे कोच का इस्तेमाल करने का फैसला लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2021, 10:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर से पूरे देश में हाहाकार है. हर दिन तेजी से संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं. बढ़ते कोविड मरीजों के बेड्स की समस्या से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने रेलवे कोच का इस्तेमाल करने का फैसला लिया है.

इस बीच, उत्तर रेलवे के जीएम आशुतोष गंगल ने कहा, ''मेरी जानकारी के अनुसार, आइसोलेशन कोच के लिए राज्यों से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा. स्वास्थ्य मंत्रालय के गाइडलाइंस में ऐसी किसी बात का उल्लेख नहीं है.'' उन्होंने कहा, ''हमने ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदे हैं, हम प्रत्येक कोच में 2 सिलेंडर प्रदान कर सकते हैं. इसके बाद राज्य सरकारों द्वारा रिफिलिंग और अन्य चीजों का ध्यान रखा जाएगा.''



3 लाख आइसोलेशन बेड का इंतजाम करेगा रेलवे
वहीं, रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि दिल्ली के शकूरबस्ती स्टेशन पर 50 कोविड-19 आइसोलेशन कोच तैयार हैं जिनमें 800 बेड्स की सुविधा है. इसी तरह आनंद विहार स्टेशन पर 25 कोच कोरोना मरीजों के लिए उपलब्ध होंगे. राज्यों की मांग पर रेलवे देशभर में 3 लाख से अधिक आइसोलेशन बेड्स की व्यवस्था कर सकती है.

ये भी पढ़ें- Gold Price Today: कोरोना काल में भी लोगों ने खूब खरीदा सोना, बीते वित्त वर्ष में गोल्ड इंपोर्ट 22.58 फीसदी बढ़ा

कोरोना संकट के बीच ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन चलाएगा रेलवे



कोरोना संकट के बीच रेलवे अब ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन चलाने जा रहा है. इन ट्रेनों के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाए जा रहे हैं. रेलवे ने बताया कि टेक्निकल ट्रायल्स के बाद खाली टैंकरों को महाराष्ट्र के रेलवे स्टेशनों से विजाग, जमशेदपुर, राउरकेला, बोकारो भेजा जाएगा. इन जगहों पर टैंकरों में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) की लोडिंग की जाएगी. फिर ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन से उनके गंतव्य स्थान तक पहुंचाया जाएगा. गौरतलब है कि रेलवे ने ये फैसला महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश सरकार की रिक्वेस्ट के बाद लिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज