Home /News /business /

पाकिस्तान की हालत और होगी खराब, IMF से राहत पैकेज पर बातचीत पटरी से उतरी

पाकिस्तान की हालत और होगी खराब, IMF से राहत पैकेज पर बातचीत पटरी से उतरी

नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान और अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) के बीच राहत पैकेज को लेकर बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकल पाया है.

नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान और अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) के बीच राहत पैकेज को लेकर बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकल पाया है.

नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान और अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) के बीच राहत पैकेज को लेकर बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकल पाया है.

    नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान और अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) के बीच राहत पैकेज को लेकर बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकल पाया है. पाकिस्तानी मीडिया की खबरों के अनुसार, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान लोगों पर टैक्स का बोझ डालने को तैयार नहीं हो रहे हैं. इससे दोनों पक्षों के बीच जारी बातचीत ठहराव के कगार पर पहुंच गई है. आईएमएफ टीम के प्रमुख अर्नेस्टो रीगो अभी पाकिस्तान में ही हैं. (ये भी पढ़ें: पाकिस्तान को लगा बड़ा झटका! एक दिन में डूब गए इतने हजार करोड़ रुपये)

    6.50 अरब डॉलर राहत पैकेज मिलने की उम्मीद
    पाकिस्तान को आईएमएफ से तीन साल के लिए करीब 6.50 अरब डॉलर का राहत पैकेज मिलने की उम्मीद है. स्थानीय अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय के प्रवक्ता खकान हसन नजीब के हवाले से कहा, हमने यहां आए आईएमएफ टीम के साथ बातचीत में अच्छी प्रगति की है. बातचीत सप्ताहांत पर भी जारी रहेगी.

    तीन मुद्दों पर नहीं बनी बात
    वित्त मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार, आईएमएफ के साथ अभी तक हुई मुख्यत: तीन मुद्दों के कारण बातचीत का निष्कर्ष नहीं निकल सका है. वित्त मंत्रालय के शीर्ष अधिकारियों को गुरुवार तक यह उम्मीद थी कि बातचीत संपन्न हो जाएगी. आईएमएफ टीम ने 11 मई को वापस लौटने की योजना बनाई थी. हालांकि, आईएमएफ द्वारा कार्यक्रम में कुछ नई शर्तें जोड़ने से बातचीत पटरी से उतर गई.

    ये भी पढ़ें: IMF के इस कदम से आसमान छूएगी पाकिस्तान में महंगाई, टूटेगी पाकिस्तानियों की कमर

    इन शर्तों को माना
    इमरान खान इस साल जुलाई से लोगों पर अतिरिक्त कर बोझ डालने की शर्त पर सहमत नहीं हुए. यदि यह शर्त मानी जाती तो दोनों पक्ष एक समझौते पर पहुंच सकते थे. पाकिस्तान अभी तक लचीली विदेशी मुद्रा विनिमय व्यवस्था, सरकारी सब्सिडी को बंद करने, केंद्रीय बैंक से कर्ज पर रोक और निजीकरण के कार्यक्रम को दोबारा शुरू करने की शर्तों को मान चुका है.

    खबर के अनुसार, आईएमएफ की अधिकांश शर्तें पाकिस्तान ने मान ली है. पाकिस्तान पिछले 8 महीने से आईएमएफ से राहत पैकेज लेने की कोशिश में जुटा हुआ है. यह पिछले 5 महीने में आईएमएफ के दल की पाकिस्तान की दूसरी यात्रा है. हालांकि इस दूसरी यात्रा में भी तय समय तक निष्कर्ष पर पहुंचा नहीं जा सका है.

    ये भी पढ़ें: पाकिस्तान में महंगाई की मार, दूध के बाद अब पेट्रोल का भाव 108 रुपये/लीटर तक 

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Business news in hindi, Imran khan, Inflation, Pakistan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर