Home /News /business /

राहत! नहीं कटेगी बिजली, कोयला मंत्री बोले- 24 दिनों की मांग के बराबर है कोयले का भंडार

राहत! नहीं कटेगी बिजली, कोयला मंत्री बोले- 24 दिनों की मांग के बराबर है कोयले का भंडार

ऐसी खबरें आई थीं कि कोयले की कमी की वजह से देश में बिजली संकट पैदा हो सकता है.

ऐसी खबरें आई थीं कि कोयले की कमी की वजह से देश में बिजली संकट पैदा हो सकता है.

केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी (Pralhad Joshi) ने कहा कि बिजली सप्लाई बाधित होने का बिल्कुल भी खतरा नहीं है.

    नई दिल्ली. दिल्ली सहित देश के कई राज्यों द्वारा ब्लैकआउट पर चिंता जताने के बीच केंद्र सरकार ने सफाई दी है. कोयला मंत्रालय (Coal Ministry) ने रविवार को साफ किया कि बिजली उत्पादक प्लांट की जरूरत को पूरा करने के लिए देश में कोयले का पर्याप्त भंडार है. मंत्रालय ने कोयले की कमी की वजह से बिजली आपूर्ति में बाधा की आशंकाओं को पूरी तरह निराधार बताया.

    इससे पहले ऐसी खबरें आई थीं कि कोयले की कमी की वजह से देश में बिजली संकट पैदा हो सकता है. इसके बाद मंत्रालय का यह बयान आया है. मंत्रालय ने बयान में कहा, ”कोयला मंत्रालय आश्वस्त करता है कि बिजली प्लांट की जरूरत को पूरा करने के लिए देश में कोयले का पर्याप्त भंडार है. इसकी वजह से बिजली संकट की आशंका पूरी तरह गलत है.”

    ये भी पढ़ें- कोयले की किल्लत पर ऊर्जा मंत्री बोले- जबरदस्ती फैलायी जा रही है दहशत, ये कंपनियों का गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार

    कोल इंडिया के पास 4.3 करोड़ टन का स्टॉक
    कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने ट्वीट किया, ”देश में कोयले के उत्पादन और आपूर्ति की स्थिति की समीक्षा की. मैं सभी को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि बिजली सप्लाई में बाधा की कोई आशंका नहीं है. कोल इंडिया के मुख्यालय पर 4.3 करोड़ टन कोयले का भंडार है जो 24 दिन की कोयले की मांग के बराबर है.”


    कोयला मंत्रालय ने कहा कि बिजली प्लांट के पास करीब 72 लाख टन का कोयला भंडार है जो चार दिन के लिए पर्याप्त है. कोल इंडिया के पास 400 लाख टन का भंडार है जिसकी सप्लाई बिजली प्लांट को की जा रही है.

    सितंबर तक 24 फीसदी बढ़ा है कोयला आधारित बिजली प्रोडक्शन
    उल्लेखनीय है कि देश में कोयला आधारित बिजली उत्पादन इस साल सितंबर तक 24 फीसदी बढ़ा है. बिजली प्लांट को सप्लाई बेहतर रहने की वजह से उत्पादन में बढ़ोतरी हुई है. बिजली प्लांट को प्रतिदिन औसतन 18.5 लाख टन कोयले की जरूरत होती है. दैनिक कोयला सप्लाई करीब 17.5 लाख टन की है.

    Tags: Coal Crisis, Coal india, Electricity

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर