नया Noida बसाने से पहले होगा इंडस्ट्री और कर्मचारियों का सर्वे, एक साल में तैयार होगा मास्टर प्लान

गौतम बुद्ध नगर की गौर सिटी में कोरोना तेजी से फैल रहा है.
(सांकेतिक फोटो)

गौतम बुद्ध नगर की गौर सिटी में कोरोना तेजी से फैल रहा है. (सांकेतिक फोटो)

नया नोएडा (Noida) बसाने का मास्टर प्लान (Master Plan) कैसा हो और किस तरह की तैयारी की जाए इस पर काम चल रहा है. लेकिन उससे पहले नए शहर के लिए इंडस्ट्री (Industry) और कर्मचारियों की संख्या का सर्वे (Survey) किया जाएगा.

  • Share this:

नोएडा. नया नोएडा (Noida) बसाने की कवायद शुरु हो चुकी है. नया शहर बसाने के लिए 80 गांवों का चयन भी हो चुका है. अब मास्टर प्लान (Master Plan) कैसा हो और किस तरह की तैयारी की जाए इस पर काम चल रहा है. लेकिन उससे पहले नए शहर के लिए इंडस्ट्री (Industry) और कर्मचारियों की संख्या का सर्वे (Survey) किया जाएगा. मौजूदा वक्त में ट्रैफिक (Traffic) कितना है और वाहनों की संख्या को लेकर भी सर्वे कराया जाएगा. जानकारों की मानें तो मास्टर प्लान बनने में कम से कम एक साल का वक्त लगेगा. 2031 को ध्यान में रखते हुए मास्टर प्लान तैयार किया जाएगा.

गौरतलब रहे अब 80 गांवों में किसी भी तरह के काम के लिए पहले नोएडा अथॉरिटी से एनओसी लेनी होगी. लेकिन एनओसी के लिए किसी को बार-बार अथॉरिटी के चक्कर न लगाने पड़ें इसके लिए जल्द ही एक साइट ऑफिस खोला जाएगा. वहां कर्मचारियों की नियुक्ति की जाएगी.

नए नोएडा से गुजरेगा इंडस्ट्रियल रेलवे कॉरिडोर

नोएडा अथॉरिटी की सीईओ रितु माहेश्वरी के मुताबिक नए नोएडा में दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रियल रेलवे कॉरिडोर का निवेश जोन विकसित किया जाएगा. यह कॉरिडोर सात स्टेट दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दक्षिणी हरियाणा, पूर्वी राजस्थान, पूर्वी गुजरात, पश्चिमी महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के इन्दौर से होकर गुजरेगा.
ग्रेटर नोएडा जाना हुआ और आसान, इस पुल से जोड़ी गई है नोएडा की सड़क

नए नोएडा के एसईजेड में होगा यह सब कुछ

नोएडा अथॉरिटी के ओएसडी डॉ. संतोष उपाध्याय के मुताबिक नए नोएडा में एसईजेड भी विकसित किया जाएगा. एसईजेड के अंतर्गत इंडस्ट्रियल यूनिट, इंडस्ट्रियल एस्टेट्स, एग्रो एंड फूड प्रोसेसिंग जोन, आईटी, आईटीएस और बायोटेक जोन, स्किल डेवलपमेंट सेंटर, नॉलेज हब, लॉजिस्टिक हब और इंटिग्रेटेड टाउनशिप को इस योजना में मौका दिया जाएगा. उनका कहना है कि नोएडा के अनुभव और सीईओ रितु माहेश्वरी की प्लानिंग को देखते हुए नोएडा अथॉरिटी को इस बड़े और महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट के लिए चुना गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज