Home /News /business /

किसी भी निवेश या बचत के लिए क्यों जरूरी है नॉमिनी, जानें नियम और अधिकार

किसी भी निवेश या बचत के लिए क्यों जरूरी है नॉमिनी, जानें नियम और अधिकार

आप नॉमिनी बदल भी सकते हैं. नॉमिनी नाबालिग है तो उसके लिए अभिभावक की नियुक्त करना जरूरी होता है. (Image- Pixabay)

आप नॉमिनी बदल भी सकते हैं. नॉमिनी नाबालिग है तो उसके लिए अभिभावक की नियुक्त करना जरूरी होता है. (Image- Pixabay)

नॉमिनी सिर्फ पैसे या संपत्ति का देखभाल करने वाला होता. वह आपके पैसों का हकदार नहीं होता. नॉमिनी को आपके बाद आपके कानूनी वारिस को पैसे सौंपना जरूरी होता है.

    बैंक में बचत खाता खोलते समय, कोई बीमा पॉलिसी लेते समय, शेयर बाजार में निवेश करते समय, म्यूचुअल फंड (mutual funds) में इन्वेस्ट करते समय या फिर प्रोविडेंट फंड में नॉमिनी (Nominee) नियुक्त करना होता है.

    नॉमिनी नियुक्त ना करने की दशा में निवेशक की किसी दुर्घटना में मृत्यु होने पर उसकी सारी मेहनत बेकार हो जाती है. इसलिए निवेश या बचत संबंधि किसी भी योजना में शामिल होने पर नॉमिनी की घोषणा करनी होती है.

    नॉमिनी सिर्फ पैसे या संपत्ति का देखभाल करने वाला होता. वह आपके पैसों का हकदार नहीं होता. नॉमिनी को आपके बाद आपके कानूनी वारिस को पैसे सौंपना जरूरी होता है. नॉमिनी और कानूनी वारिस एक भी हो सकते हैं.

    आप आपका जीवन साथी, अपके बच्चे, माता-पिता, परिवार का कोई और सदस्य हो सकता है. आपने मित्र को भी नॉमिनी बना सकते हैं.

    जरूरी है नॉमिनी
    नॉमिनी ना होने की स्थिति में निवेशक या संपत्ति के मालिक की मृत्यु होने पर उसके परिजनों को पैसा मिलना मुश्किल होता है. नॉमिनी ना होने पर पैसा या संपत्ति हासिल करने के लिए लंबी कानूनी प्रक्रिया से गुजरना होता है. लेकिन नॉमिनी के रहने से बिना किसी परेशानी के निवेशक की मृत्यु के बाद उसकी संपत्ति या बचत उसके परिजनों को मिल सकती है.

    नॉमिनी की जरूरत
    तमाम वित्तीय मामलों में नॉमिनी की जरूरत होती है. इंश्योरेंस पॉलिसी में, बैंक अकाउंट खोलते समय और निवेश के समय नॉमिनी का नाम दर्ज करना आवश्यक होता है.

    गलती के डर से रुकें नहीं, अगर डर गए तो फैसला नहीं कर पाएंगे- राकेश झुनझुनवाला

    इंश्योरेंस लेते समय आप एक से ज्यादा नॉमिनी रख सकते हैं. आप अपने माता या पिता, जीवन साथी या बच्चों को नॉमिनी बना सकते हैं. वैसे कानूनी वारिस को ही नॉमिनी बनाना सही होता है.

    बैंक में खाता खोलते समय आप रिश्तेदार या दोस्त को भी नॉमिनी बना सकते हैं. यहां जरूरी नहीं कि नॉमिनी कोई कानूनी वारिस ही हो. ज्वाइंट अकाउंट में खाते की रकम सबसे पहले दूसरे होल्डर को और उसके बाद नॉमिनी को मिलती है.

    निवेश करते समय समय नॉमिनी बनाना जरूरी है. यहां आप सिर्फ एक व्यक्ति को ही नॉमिनी बना सकते हैं. म्यूचुअल फंड में एक से ज्यादा नॉमिनी बना सकते हैं.

    आप नॉमिनी बदल भी सकते हैं. नॉमिनी नाबालिग है तो उसके लिए अभिभावक की नियुक्त करना जरूरी होता है.

    Tags: Mutual funds, Personal finance

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर