अपना शहर चुनें

States

अब सेना के पायलट कराएंगे सैर, मोदी सरकार ले सकती है ये फैसला

सरकार, सेना के पायलटों को सिविल पायलट बनाने के लिए नियमों में बदलाव कर सकती है. सिविल एविएशन में पायलटों की कमी और विदेशी पायलटों की मोटी तनख्वाह से निजात के लिए ये फैसला लिया जा सकता है.

  • Share this:
फाइटर प्लेन उड़ाने वाले पायलट अब आपको देश-विदेश की सैर कराएंगे. एयरफोर्स, नेवी और सेना के पायलट अब इंडिगो, स्पाइसजेट और एयर इंडिया जैसी एयरलाइंस के विमान उड़ाते नजर आएंगे. सरकार, सेना के पायलटों को सिविल पायलट बनाने के लिए नियमों में बदलाव कर सकती है. सिविल एविएशन में पायलटों की कमी और विदेशी पायलटों को मोटी तनख्वाह से निजात दिलाने के लिए ये फैसला लिया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार की योजना, 1 रुपए खर्च कर पाएं 2 लाख का इंश्योरेंस

एविएशन मंत्रालय ने इससे जुड़े नियमों को अंतिम रूप देने के लिए हाल ही में एयरफोर्स, नेवी और आर्मी के उच्च अधिकारियों के साथ एक बैठक भी की है. 10 से 12 परसेंट की तेजी से बढ़ रहा भारतीय एविएशन सेक्टर इन दिनों पायलटों की भारी कमी से जूझ रहा है.



ये भी पढ़ें: कल तक कर लें PAN कार्ड के लिए अप्लाई! वरना चुकाना होगा हजारों का जुर्माना
सेंटर फॉर एशिया पैसेफिक एविएशन की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2019-20 में भारत में 800 पायलट की जरूरत है. यह कमी पूरी करने के लिए सेना के पायलट बेहतर विकल्प हो सकते हैं. जानकारों की मानें तो सेना में पायलटों की ट्रेनिंग बेहद कड़ी और बेहतर होती है. लेकिन फिर भी पैसेंजर या कार्गों एयरलाइंस उड़ाने के लिए उन्हें साधारण ट्रेनिंग से गुजरना होगा.

ये भी पढ़ें:

बजट में इनकम टैक्स स्लैब पर हो सकता है ये फैसला

हांगकांग, टोक्यो, सिंगापुर के बाद दिल्ली का कनॉट प्लेस ऑफिस के लिए सबसे महंगा

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज