होम /न्यूज /व्यवसाय /अब सभी रेलवे स्टेशन पर लीजिए कुल्हड़ वाली चाय का मजा, रेल मंत्री ने प्लास्टिक कप बैन किए

अब सभी रेलवे स्टेशन पर लीजिए कुल्हड़ वाली चाय का मजा, रेल मंत्री ने प्लास्टिक कप बैन किए

International Tea Day: 
 मसाला चाय में डलने वाले सारे मसाले शरीर में किसी भी प्रकार की सूजन को कम करने में कारगर हैं.

International Tea Day: मसाला चाय में डलने वाले सारे मसाले शरीर में किसी भी प्रकार की सूजन को कम करने में कारगर हैं.

रेलवे स्टेशन (Railway station) पर प्लास्टिक कप से बढ़ते कचरे और प्रदूषण को ध्यान में रख कर रेल मंत्री पीयूष गोयल (Railw ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. आप जब भी ट्रेन से अगली यात्रा करेंगे. तो आपको रेलवे स्टेशन पर कुल्हड़ में चाय पीने का मौका मिलेगा. क्योंकि रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रेलवे स्टेशन पर प्लास्टिक कप को बैन करने का ऐलान किया है. जिसके बाद देश के सभी रेलवे स्टेशन पर कुल्हड़ में चाय परोसी जाएगी. आपको बता दें 15 साल पहले भी पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव ने कुल्हड़ में चाय सर्व कराने की शुरुआत की थी. जिसका यात्रियों ने काफी आनंद उठाया था. लेकिन कुछ समय बाद ही रेलवे स्टेशनों से कुल्हड़ अचानक गायब हो गए और उनकी जगह प्लास्टिक और पेपर के कपों ने ले ली. ऐसे में रेलवे स्टेशन पर बढ़ते कचरे और प्रदूषण को ध्यान में रख कर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने एक बार फिर ईको फ्रेंडली कुल्हडों में चाय बेचने की शुरुआत कराई है. 

    कुल्हड़ से मिलेगा लाखों लोगों को रोजगार- रेल मंत्री पीयूष गोयल ने राजस्थान के अलवर जिले में ढीगवाड़ा रेलवे स्टेशन पर आयोजित एक इवेंट में कहा कि, अभी देश के लगभग 400 रेलवे स्टेशनों पर कुल्हड़ में चाय दी जा रही है. भविष्य में हमारी योजना है कि देश के सभी रेलवे स्टेशनों पर केवल कुल्हड़ में ही चाय बिके. यह पहल प्लास्टिक फ्री भारत की दिशा में रेलवे का योगदान होगी. कुल्हड़ पर्यावरण को बचाते हैं और लाखों लोग इससे रोजगार हासिल कर सकते हैं.

    यह भी पढ़ें: अब आप नहीं खरीद पाओगे अपना फेवरेट स्कूटर, कंपनी ने लिया बड़ा फैसला
    राजस्थान में रेलवे के विकास का दिया ब्यौरा- गोयल ने कहा कि राजस्थान में 2009 से 2014 के बीच पांच वर्ष में रेलवे के 65 अंडरपास बने थे. जबकि 2014 से 2020 के बीच छह गुना अधिक 378 अंडरपास बनाए गए. उन्होंने कहा कि इसी तरह 2009 से 2014 के बीच रोड ओवरब्रिज पांच साल में मात्र चार बने थे. वहीं 2014 से 2020 के बीच 30 रोड ओवरब्रिज बने. उन्होंने कहा कि राजस्थान में 10,000 करोड़ रुपये के निवेश से सात नई लाइनों पर काम चल रहा है. इस अवसर पर रेल मंत्री ने 34 किलोमीटर के नए विद्युतीकृत ढिगावड़ा-बांदीकुई रेल खंड पर पहली ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.

    Tags: Eco Friendly, Indian railway, Kulhad on railway stations, Piyush goyal, Railway

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें