Job Market का सुधर रहा है हाल! इन सेक्टर्स में काम करने वाले लोगों की बढ़ रही है डिमांड

Job Market का सुधर रहा है हाल! इन सेक्टर्स में काम करने वाले लोगों की बढ़ रही है डिमांड
Job Market का सुधर रहा हाल! इन सेक्टर्स में काम करने वाले लोगों की बढ़ रही मांग

लॉकडाउन खत्म होने के बाद अब जॉब मार्केट (Job Market Conditions getting better) में हालत सुधर रहे हैं. देश में अप्रैल के निचले स्तर से जॉब की स्थिति में कुछ सुधार दिखा है. भारत में सॉफ्टवेयर इंजीनियर (Software Engineer) , बिजनेस डेवलपमेंट (Business Development) और सेल्स मैनेजर (Sales Manager) जैसे जॉब की काफी डिमांड है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 18, 2020, 3:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लॉकडाउन खत्म होने के बाद अब जॉब मार्केट (Job Market Conditions getting better) में हालत सुधर रहे हैं. देश में अप्रैल के निचले स्तर से जॉब की स्थिति में कुछ सुधार दिखा है. भारत में सॉफ्टवेयर इंजीनियर (Software Engineer), बिजनेस डेवलपमेंट (Business Development) और सेल्स मैनेजर (Sales Manager) जैसे जॉब की काफी डिमांड है. एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है. ET में छपी इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अप्रैल में इस तरह के जॉब के निचले स्तर की तुलना में मार्केट में काफी सुधार देखा जा रहा है.

इस रिपोर्ट में बताया गया है कि रीक्रिएशन और ट्रेवल सेक्टर जैसे कारोबार पर कोविड-19 का सबसे अधिक असर पड़ा है और इन कारोबार में जॉब कर रहे पेशेवर के लिए दूसरे सेक्टर में जॉब ढूंढने की संभावना 7 गुना बढ़ गई है.

बड़ी खबर-सभी स्टेशनों पर लगेगा 'नो बिल नो पे', रेल यात्रियों को होगा सीधा फायदा 



जॉब मार्केट की मौजूदा स्थिति के हिसाब से तैयार की गई इस रिपोर्ट में बताया गया है कि रिटेल सेक्टर में काम कर रहे पेशेवर की दूसरे सेक्टर में जॉब ढूंढने की संभावना दोगुनी बढ़ गई है. आंकड़े बताते हैं कि कंज्यूमर गुड्स, एंटरटेनमेंट, रियल एस्टेट और सॉफ्टवेयर सर्विस जैसे कारोबार में लगे पेशेवर की जॉब बदलने की संभावना नहीं के बराबर है. अच्छी बात यह है कि पुरुष और महिला कैंडिडेट की हायरिंग का अब गैप कम हुआ है. कोरोना संकट के इस दौर में जॉब से रिलेटेड स्टडी लिंक्डइन ने की है.
इस स्टडी में यह भी पता लगा है कि जॉब के लिए मार्केट में कड़ी प्रतियोगिता चल रही है. जनवरी की तुलना में जून में लिंक्डइन की साइट पर हर जॉब के लिए आवेदन की संख्या 90 की तुलना में 180 हो गई है.

SBI की सुविधा! जरूरत पड़ने पर बैंक खाते के बैलेंस से ज्यादा निकाल सकेंगे पैसे

इस साल अप्रैल और जून के बीच नई जॉब में 35 परसेंटेज पॉइंट की वृद्धि हुई है. यह आंकड़े ऐसे समय में आए हैं जब भारत में साल दर साल आधार पर अप्रैल में नई नियुक्तियां 50 फीसदी तक घट गई थी. इसका मतलब यह है कि अब जॉब मार्केट में धीरे-धीरे सुधार आ रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज