डेंगू-मलेरिया-चिकनगुनिया के लिए भी मिलेगी बीमा पॉलिसी, जानिए क्या होंगी नियम और शर्तें

इरडा ने इसके लिए एक ड्राफ्ट भी कर लिया है.

बीमा नियामक IRDAI अब वेक्टर जनित रोगों (Vector Borne Disease) के लिए भी पॉलिसी उतारने की तैयारी में है. इस बारे में एक प्रस्ताव तैयार करने के बाद हितधारकों से सुझाव भी मांगे गए हैं. इसमें डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों की पॉलिसी मिल सकेगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (IRDAI) अब कुछ अन्य बीमारियों के लिए भी बीमा पॉलिसी (Insurance Policy) के ड्राफ्ट पर काम कर रहा है. इसके बाद जनरल और हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम्स के साथ आप डेंगू, मलेरिया जैसी बीमारियों के लिए एक साल का बीमा करा सकेंगे. इसका सीधा मतलब है कि इरडा की इस कोशिश के बाद हेल्थ और जनरल इंश्योरेंस की सुविधा देने वाली बीमा कंपनियां आपको डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों के लिए बीमा कवर मुहैया करा सकेंगे.

    क्या है इरडा के इस प्रयास का मकसद?
    दरअसल, इरडा चाहती है कि हेल्थ इंश्योरेंस के साथ आम लोग को वेक्टर जनित रोगों के लिए भी एक स्टैंडर्ड प्रोडक्ट बाजार में मौजूद हो. भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण ने खुद इस बारे में जानकारी दी है. वर्तमान में तैयार किए गए प्रस्ताव के तहत, इस प्रोडक्ट को 1 साल की तय अवधि के लिए पेश किया जा सकेगा. इसमें वेटिंग पीरियड 15 दिनों का होगा.

    यह भी पढें: दिवाली पर पटाखे बैन से कारोबारियों को कितने करोड़ का नुकसान हुआ? CAIT ने दी जानकारी

    >> इस इंश्योरेंस पॉलिसी में डेंगू बुखार, मलेरिया, फाइलेरिया (Lymphatic Filariasis), काला-अजर, चिकनगुनिया, जापानी इन्सेफिलाइटिस और ज़ीका वायरस जैसे वेक्टर जनित रोग कवर होंगे. इसके लिए हितधारक आगामी 27 नवंबर तक अपनी राय इरडा को दे सकते हैं.

    >> हॉस्पिटल के खर्च के अतिरिक्त, इस बीमा प्रोडक्ट में AYUSH ट्रीटमेंट का खर्च और हॉस्पिटल से पहले और बाद के खर्च को शामिल किया जाएगा.

    >> साथ ही इसके स्टैंडर्ड प्रोडक्ट को इनडेम्निटी आधार (Indemnity Basis) पर उपलब्ध कराया जाएगा. साथ ही वैक्लिपक कवर बेनिफिट आधार पर मुहैया करया जाएगा. प्रस्तावि​त गाइडलाइंस में भी इस बारे में जानकारी दी गई हे.

    >> ड्राफ्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक, इस प्रोडक्ट का नामेनक्लेचर वेक्ट बॉर्न डिजीज़ हेल्थ पॉलिसी के नाम पर होगा. यह एक 'सिंगल प्रीमियम' प्रोडक्ट होगा यानी केवल एक बार ही प्रीमियम जमा करना होगा.

    यह भी पढ़ें: सर्दियों में सस्ता हुआ मुर्गा लेकिन लगातार महंगी होती जा रही है मुर्गी, जानिए क्यों

    इस प्रीमियम प्रोडक्ट के ​लिए न्यूनतम उम्र 18 साल होगी और अधिकतम उम्र 65 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए. साथ ही, 1 साल से 25 साल तक के आश्रित बच्चे भी कवर होंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.