मोदी सरकार का नया प्लान: PF का पैसा हुआ और सुरक्षित, एक SMS से मिलेगी पूरी जानकारी

नौकरीपेशा लोगों के प्रोविडेंट फंड को सुरक्षित रखने के लिए केंद्र सरकार एक नया नियम लाने की तैयारी कर रही है. अगर कोई कंपनी अपने कर्मचारियों के अकाउंट में पीएफ का पैसा देरी से डालती है तो सरकार उस कंपनी के ऊपर सख्त कदम उठा सकती है.

News18Hindi
Updated: September 13, 2019, 4:54 PM IST
मोदी सरकार का नया प्लान: PF का पैसा हुआ और सुरक्षित, एक SMS से मिलेगी पूरी जानकारी
PF खाताधारकों के लिए बड़ी खबर!
News18Hindi
Updated: September 13, 2019, 4:54 PM IST
नई दिल्ली. नौकरीपेशा लोगों के प्रोविडेंट फंड (Provident Fund) को सुरक्षित रखने के लिए केंद्र सरकार एक नया नियम लाने की तैयारी कर रही है. अगर कोई कंपनी अपने कर्मचारियों के अकाउंट में PF  का पैसा देरी से डालती है तो सरकार उस कंपनी के खिलाफ सख्त कदम उठा सकती है. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने एक नई सेंट्रलाइज्ड व्यवस्था तैयार की है, जिसके बाद हर माह खाते में रकम जमा न होने पर कंपनी और कर्मचारी दोनों को SMS भेजकर अलर्ट किया जाएगा.

ये भी पढ़ें: खुशखबरी! एक बार फिर लोन सस्ता कर सकता है RBI, ये है वजह

हो सकती है कंपनियों की जांच: अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान को मिली जानकारी के मुताबिक अगर कंपनी ने तीसरे महीने भी PF में रकम नहीं जमा किया तो इसके ​लिए उनके खिलाफ लिखित में इसकी शिकायत की जाएगी. कंपनी को बकाया पीएफ रकम के साथ उसका ब्याज भी कर्मचारी के खाते में जमा करनी होगी. कंपनियों ने दो रिमाइंडरों के बाद कर्मचारी के खाते में पैसा भेजना शुरू नहीं किया तो फिर मामला जांच के दायरे में आ जाएगा.

निरीक्षकों को विशेष निर्देश: साथ ही सरकार ने यह भी साफ कर दिया है कि सिर्फ ऐसे मामलों की ही जांच की जायेगी, जिसमें लगातार तीन महीने व उससे अधिक तक पीएफ खाते में रकम नहीं जमा की गई है. साथ ही निरीक्षकों को इस बात के लिए भी विशेष सावधानी बरतने के लिए कहा गया है कि वे बिना किसी पुख्ता आधार और प्रमाण के छापेमारी न करें. उन्हें छोपमारी से पहले वरिष्ठ अधिकारियों से मंजूरी लेना अनिवार्य होगा.

ये भी पढ़ें:  Aadhaar में नाम, पता और जन्म तिथि बदलने के लिए चाहिये ये डाक्यूमेंट्स, UIDAI ने जारी की लिस्ट

कारोबार में सुगमता का भी ध्यान: सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, कारोबार में सुगमता को ध्यान में रखते हुए निरीक्षकों के लिए यह नियम बनाया गया है. पहले भी कंपनियों ने इस तरह के नियम को लेकर मांग की थी. दरअसल, बार—बार छापेमाारी के चलते उन्हें कारोबार मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. कई बार तो जांच के बाद उनके खिलाफ कोई गड़बड़ी तक नहीं मिलती, फिर भी उन्हें परेशान होना पड़ता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 3:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...