NPS: 1 अप्रैल से बढ़ेगी पेंशन फंड मैनेजर्स की फीस, पेंशन के साथ बीमा में भी एफडीआई

जनवरी 2021 तक नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) के 98 लाख ग्राहक थे.

दस हजार कराेड़ तक के लिए अधिकतम कैप काे 0.9 प्रतिशत निर्धारित किया गया है. AUM के साथ 10,001 कराेड़ से 50,000 कराेड़ तक के PFM काे 0.06 प्रतिशत तक फीस लेने की अनुमति हाेगी.

  • Share this:

    नई दिल्ली. हाेम पेंशन फंड रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (PFRDA) ने पेंशन फंड मैनेजर्स (PFMs) काे 1 अप्रैल 2021 से ज्यादा फीस लेने की अनुमति दे दी है. नियामक ने वर्ष 2020 में जारी किए गए एक रिक्वेस्ट फॉर प्रपाेजल्स (RFP) में हाई फीस स्ट्रक्चर का प्रस्ताव दिया था, जाे PFM के लिए लाइसेंस के नए दाैर के बाद प्रभावी हाेना था. एक अधिकारी ने बताया कि नए प्रस्ताव में पेंशन क्षेत्र में अधिक फीस के साथ-साथ बीमा क्षेत्र में एफडीआई 49 प्रतिशत से बढ़ाकर 74 प्रतिशत करना भी निर्धारित है. ऐसा इसलिए क्याेंकि एफडीआई बीमा में पीएफआरडी अधिनियम द्वारा एफडीआई से जुड़ा हुआ है. हालांकि, PFRDA नियमाें के तहत प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष स्वामित्व दाेनाें काे एफडीआई कैप की गणना करते समय विचार किया जाना चाहिए.


    फीस में बढ़ाेत्तरी से अधिकांश PFMs प्रॉफिट में आ जाएंगे. यह बीमा में नई एफडीआई कैप के साथ विदेशी खिलाड़ियाें से ब्याज आमंत्रित कर सकता है जाे पेंशन में एफडीआई से जुड़ा हुआ है. 23 दिसंबर काे जारी आएफपी के अनुसार PFMs शुल्क कैपेसिटी काे पीएफएम द्वारा प्रबंधित परिसंपतियाें से जुड़े ग्रेडेड आधार पर कैपिटल एसेट के उच्च स्तर के लिए कम किया जाएगा. 


    ये भी पढ़ें- इंश्‍योरेंस सेक्‍टर में बढ़ेगा विदेशी निवेश, संसद से पारित हुआ 74 फीसदी एफडीआई का विधेयक


    10 हजार कराेड़ तक के लिए अधिकतम कैप 0.9% 


    दस हजार कराेड़ तक के लिए अधिकतम कैप काे 0.9 प्रतिशत निर्धारित किया गया है. AUM के साथ 10,001 कराेड़ से 50,000 कराेड़ तक के PFM काे 0.06 प्रतिशत तक फीस लेने की अनुमति हाेगी. AUM के साथ 50,001 कराेड़ से लेकर 1,50,000 कराेड़ 0.05 फीसदी शुल्क लेने की अनुमति हाेगी. वहीं आखिरी में 1,50,000 कराेड़ से अधिक AUM वाले PFM काे अधिकतम 0.03 प्रतिशत शुल्क लेने की अनुमति हाेगी.


    NPS के 98 लाख ग्राहक


    जनवरी 2021 तक नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) के 98 लाख ग्राहक थे( अटल पेंशन याेजना और एनपीएस लाइट काे छाेड़कर जाे अन्य नियमाें के तहत काम करते है). इसकी AUM की गणना 5.56 लाख कराेड़ थी. हालांकि बल्क ऐसेट्स काे तीन सेक्टर PFMs-एसबीआई म्यूचुअल फंड प्राइवेट लिमिटेड, यूटीआई रिटायरमेंट सॉल्यूशन लिमिटेड और एलआईसी पेंशन फंड लिमिटेड द्वारा मैनेज किया जाता है. 


    ये भी पढ़ें - Fitch ने बढ़ाया भारत की जीडीपी ग्रोथ का अनुमान, कहा-वित्‍त वर्ष 2021-22 में होगी 12.8 फीसदी की जबरदस्‍त वृद्धि


    5 पेंशन फंड मैनेजर्स काे लाइसेंस मिला 


    एक वरिष्ठ अधिकारी ने जिन्हें इस डवलपमेंट की जानकारी है इस बात की पुष्टि की है कि नई निविदा में 5 पेंशन फंड मैनेजर्स काे लाइसेंस मिला है जिसमें एसबीआई पेंशन फंड प्राइवेट लिमिटेड, एलआईसी पेंशन फंड लिमिटेड, यूटीआई रिटायरमेंट सॉल्यूशन लिमिटेड और एचडीएफसी पेंशन फंड कंपनी के साथ आईसीआईसीआई प्राेडेंशियल पेंशन फंड मैनेजमेंट कंपनी काे नई फीस कैप के तहत मंजूरी दी गई है.


    सिर्फ एक्सिस एसेट मैनेजमेंट रही सफल


    काेटक महिंद्रा पेंशन फंड लिमिटेड के मामले में, उच्च शुल्क लेने की मंजूरी में देरी के चलते जबकि आदित्य बिड़ला सन लाइफ पेंशन मैनेजमेंट लिमिटेड द्वारा 50,000 कराेड़ की शर्त पूरी नहीं करने पर उच्च शुल्क के लिए अनुमाेदन किया गया है. जबकि तीन नए खिलाड़ियाें एक्सिस एसेट मैनेजमेंट कंपनी, डीएसपी इनवेस्टमेंट मैनेजर्स और टाटा एसेट मैनेजमेंट कंपनी ने नए दाैर में पीएफएम लाइसेंस के लिए आवेदन किया था. हालांकि सिर्फ एक्सिस एसेट मैनेजमेंट कंपनी ही इसमें सफल रही.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.