• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • सरकारी कर्मचारियों के लिए बेहतर है NPS में निवेश, दे रहा FD से ज्‍यादा मुनाफा

सरकारी कर्मचारियों के लिए बेहतर है NPS में निवेश, दे रहा FD से ज्‍यादा मुनाफा

केंद्र सरकार ने जनवरी 2004 में नेशनल पेंशन सिस्‍टम की शुरुआत सरकारी कर्मचरियों के लिए की थी. पिछले 5 साल में कई पेंशन फंड एफडी से ज्‍यादा रिटर्न दे रहे हैं.

केंद्र सरकार ने जनवरी 2004 में नेशनल पेंशन सिस्‍टम की शुरुआत सरकारी कर्मचरियों के लिए की थी. पिछले 5 साल में कई पेंशन फंड एफडी से ज्‍यादा रिटर्न दे रहे हैं.

नेशनल पेंशन सिस्‍टम (NPS) सरकार की ओर से प्रायोजित (Sponsored) पेंशन स्‍कीम है. जनवरी, 2004 में सरकारी कर्मचारियों (Government Employee) के लिए शुरू की गई स्‍कीम 2009 में देश के सभी नागरिकों के लिए खोल दी गई. आइए जानते हैं कि इस समय किस बैंक की पेंशन स्‍कीम (Pension Scheme) कितना रिटर्न दे रही है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. नेशनल पेंशन सिस्‍टम (NPS) को केंद्र सरकार ने जनवरी 2004 में सिर्फ सरकारी कर्मचारियों (Government Employees) के लिए शुरू किया था. इसके बाद 2009 में एनपीएस में देश के हर नागरिक को निवेश (Investment) की छूट दे दी गई. एनपीएस सरकार की ओर से प्रायोजित पेंशन स्‍कीम (Sponsored Pension Scheme) है. एनपीएस में आप अपनी जोखिम उठाने की क्षमता और भविष्‍य की अपनी जरूरतों के मुताबिक अलग-अलग फंड में निवेश कर सकते हैं. आज हम केंद्र सरकार व राज्‍य सरकार के प्‍लान, टियर-1 (Tier-1) व टीयर-2 (Tier-2) इक्विटी प्‍लान के तहत सबसे अच्‍छा रिटर्न देने वाले पेंशन फंड मैनेजर्स की बात करेंगे.

    एनपीएस के तहत सब्‍सक्राइबर्स इक्विटी (Equity), सरकारी सिक्‍योरिटीज (Government Securities), कॉरपोरेट डेट (Corporate Debt) और अल्‍टरनेटिव इंवेस्‍टमेंट फंड (AIFs) में निवेश कर सकते हैं. एनपीएस सब्‍सक्राइबर को सबसे पहले एक पेंशन फंड मैनेजर का चुनाव करना होता है. इसके बाद वह खुद अपने निवेश विकल्‍प का चयन करता है. एक सब्‍सक्राइबर निवेश के लिए एक्टिव या ऑटो ऑप्‍शन में भी चुनाव कर सकता है. वहीं, एनपीएस सब्‍सक्राइबर को कुछ शर्तों के साथ पेंशन फंड मैनेजर को बदलने की अनुमति भी देता है.

    ये भी पढ़ें- निवेश से पहले जान लें इन बैंकों के FD रेट्स, मिलेगा ज्यादा मुनाफा

    केंद्र सरकार की योजना के तहत देश की सबसे बड़ी पेंशन स्‍कीम एसबीआई पेंशन फंड (SBI Pension Fund) ने पिछले 5 साल में निवेश पर 9.93 फीसदी का शानदार रिटर्न (Return) दिया है, जो किसी भी फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट (Fixed Deposit) से कहीं ज्‍यादा है. वहीं, एसबीआई की दो अन्‍य पेंशन योजनाओं में निवेश पर पिछले 5 साल में 9 फीसदी का शानदार मुनाफा मिला है. बता दें कि एसबीआई पेंशन फंड 10.10 फीसदी निवेश इक्विटीज में करता है.

    यह भी पढ़ें- PM KISAN: प्रधानमंत्री ने 8.5 करोड़ किसानों को जारी की 17,000 करोड़ की छठी किस्त, खाते में आए 2 हजार रुपए

    सरकारी सब्‍सक्राइबर्स को 1 अप्रैल 2019 से पेंशन फंड और इंवेस्‍टमेंट पैटर्न के विकल्‍पों में से अपने लिए बेहतर का चुनाव करने की छूट दे दी गई थी. अगर सब्‍सक्राइबर विकल्‍प नहीं चुनता है तो उसका एनपीएस सहयोग एलआईसी (LIC) पेंशन फंड लिमिटेड, एसबीआई (SBI) पेंशन फंड्स प्राइवेट लिमिटेड और यूटीआई (UTI Retirement Solutions) रिटायरमेंट सॉल्‍यूशंस लिमिटेड में पहले से तय अनुपात में निवेश कर दिया जाता है. यूटीआई रिटायरमेंट सॉल्‍यूशंस ने 5 साल में 9.74 फीसदी तो एलआईसी पेंशन फंड ने 9.57 फीसदी रिटर्न दिया है.

    ये भी पढ़ें- हर महीने 4500 रुपये की बचत से भी बन सकते हैं करोड़पति, बस ऐसे बनाएं रणनीति

    राज्‍य सरकार की योजना के तहत एसबीआई पेंशन फंड की असेट अंडर मैनेजमेंट 80,000 करोड़ रुपये है. इस फंड ने पिछले 5 साल में निवेश पर 10 फीसदी का शानदार मुनाफा दिया है. 31 जुलाई 2020 तक के आंकड़ों के मुताबिक, इस फंड ने 9.6 फीसदी हिस्‍सा इक्विटीज में निवेश किया है. इसमें यूटीआई ने 9.73 तो एलआईसी पेंशन फंड ने 9.52 फीसदी का मुनाफा कमाकर दिया है. पिछले पांच साल के प्रदर्शन के आधार पर अगर टियर-1 इक्विटी एनपीएस फंड मैनेजर की बात की जाए तो एचडीएफसी (HDFC) पेंशन फंड (5 साल में 6.92 फीसदी रिटर्न), कोटक (Kotak) पेंशन फंड (5 साल में 6.21 फीसदी रिटर्न) और यूटीआई रिटायरमेंट सॉल्‍यूशंस (5 साल में 5.85 फीसदी रिटर्न) सबसे शानदार पेंशन फंड हैं.

    यह भी पढ़ें: SBI ने 42 करोड़ ग्राहकों के लिए शुरू की एटीएम से कैश निकालने की नई सर्विस

    टीयर-2 इक्विटी एनपीएस फंड की बात की जाए तो पिछले पांच व तीन साल में एचडीएफसी पेंशन फंड (5 साल में 7.16 फीसदी रिटर्न) और कोटक पेंशन फंड (5 साल में 6.16 फीसदी रिटर्न) ने अपने सब्‍सक्राइबर्स को सबसे ज्‍यादा मुनाफा कमाकर दिया है. इस कैटेगरी में एचडीएफसी के पास सबसे ज्‍यादा 149 करोड़ रुपये मूल्‍य की असेट्स अंडर मैनेजमेंट हैं. बता दें कि एनपीएस में टियर-2 अकाउंट वॉलेंटियरी इंवेस्‍टमेंट अकाउंट है, जो जरूरत के समय सब्‍सक्राइबर को आर्थिक मदद करता है. एनपीएस टियर-2 अकाउंट से सब्‍सक्राइबर कभी भी पैसे निकाल सकते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज