एनपीएस अकांउट में पैसे ट्रांसफर करने का आसान तरीका, जानिए नई सुविधा की डिटेल

D-Remit मोड में एनपीएस कॉन्ट्रीब्यूशन का ऑनलाइन पेमेंट नि:शुल्क है.

नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) अकाउंट में अब आईएमपीएस (IMPS) के जरिए भी कॉन्ट्रीब्यूशन जमा किया जा सकेगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. अब आप नेशनल पेंशन सिस्टम(NPS) अकाउंट में आईएमपीएस (IMPS) के जरिए भी कॉन्ट्रीब्यूशन कर सकते हैं. यह सुविधा 1 मार्च 2021 से अमल में आ चुकी है.
    पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (PFRDA) ने NPS खाताधारकों के लिए पिछले साल भुगतान करने के लिए डायरेक्ट रेमिटेंस (D-Remit) सुविधा शुरू की थी. इसमें खाताधारक एनपीएस अकाउंट में एनईएफटी (NEFT) और आरटीजीएस (RTGS) के जरिए अपना योगदान जमा कर सकते थे. अब इसमें इमीडिएट पेमेंट सिस्टम यानी IMPS को भी जोड़ दिया है. D-Remit मोड में एनपीएस कॉन्ट्रीब्यूशन का ऑनलाइन पेमेंट नि:शुल्क है.
    यह भी पढें : बैंक फ्रॉड के लिए बैंक दोषी नहीं, इसलिए नुकसान की जिम्मेदारी भी नहीं: कोर्ट

    सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट का भी है विकल्प
    सब्सक्राइबर ऑटो डेबिट के जरिए सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट भी सेट कर सकता है. यानी जैसे होम लोन की EMI, म्यूचुअल फंड की SIP तय तारीख पर अपने आप कट जाती है, वैसे ही D-Remit के तहत NPS खाते में पैसा पहुंचने की सेटिंग की जा सकती है. ऑटोमेट कॉन्ट्रीब्यूशन दैनिक, मासिक, तिमाही आदि के आधार पर सेट किया जा सकता है. सब्सक्राइबर अपनी सुविधानुसार एनपीएस कॉन्ट्रीब्यूशंस को ऑटोमेट कर सकता है. D-Remit मोड एनपीएस के सभी सब्सक्राइबर्स के लिए है. इसके तहत टीयर 1 और टीयर 2 दोनों एनपीएस खातों के लिए प्रति ट्रांजेक्शन मिनिमम वैल्यू 500 रुपए है.
    यह भी पढ़ें :  मार्च में 5 कामों को करने से मिलेंगे यह फायदे, जाने सब कुछ

    ​D-Remit के लिए वर्चुअल आईडी ऐसे बनाएं
    D-Remit सुविधा का फायदा लेने के लिए वर्चुअल आईडी बनानी होती है, जो परमानेंट रेमिटेंस अकाउंट नंबर (PRAN) से लिंक्ड होती है. इसके लिए https://enps.nsdl.com/eNPS/NationalPensionSystem.html पर जाएं. नेशनल पेंशन सिस्टम विकल्प पर क्लिक करें. अब सामने आई पॉप अप विंडो में D-Remit VID जनरेशन सिलेक्ट करें. इसके बाद एक पॉप अप मैसेज आएगा जिसमें D-Remit अकाउंट पर सूचना होगी. कंटीन्यू पर क्लिक करके आगे बढ़ें. अब नई खुली स्क्रीन मं सब्सक्राइबर को परमानेंट रिटायरमेंट अकाउंट नंबर (PRAN), जन्मतिथि, ओटीपी रिसीव करने का माध्यम और कैप्चा डालकर वर्चुअल अकाउंट रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी करनी होगी. अब वेरिफाई PRAN पर क्लिक करें. इसके बाद सब्सक्राइबर के मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी पर ओटीपी आएगा. ओटीपी डालने के बाद सब्सक्राइबर को वर्चुअल अकाउंट रजिस्ट्रेशन के टाइप को चुनना होगा. विकल्प में टीयर 1/टीयर 2/दोनों रहेंगे. फिर जनरेट वर्चुअल अकाउंट पर क्लिक करना होगा. इसमें सब्सक्राइबर को एक एक्नॉलेजमेंट मिलेगा. इसमें ओके पर क्लिक करने पर सब्सक्राइबर वर्चुअल अकाउंट रजिस्ट्रेशन डिटेल्स को देख सकेगा. अकाउंट का कन्फर्मेशन एनपीएस ट्रस्ट द्वारा अकाउंट क्रिएट करने के एक दिन बाद तक हो जाता है. अकाउंट एक्टिवेशन रिक्वेस्ट कन्फर्म करने वाला ईमेल भी सब्सक्राइबर के पास आएगा. अकाउंट एक्टिव होने पर एक और कन्फर्मेशन ईमेल आएगा.
    यह भी पढ़ें : बैंक अकाउंट की रिस्क के हिसाब से तय होता है केवाईसी वैरिफिकेशन, ऑनलाइन का भी है ऑप्शन

    D-Remit की सुविधा का ऐसे लें फायदा
    D-Remit सुविधा का फायदा लेने के लिए अकाउंट का प्रकार पूछे जाने पर करंट अकाउंट सिलेक्ट करना होगा.वर्चुअल आईडी बनने के बाद सब्सक्राइबर को अपने नेट बैंकिंग अकाउंट में लॉग इन कर लाभार्थी के तौर पर वर्चुअल आईडी IFSC UTIB0CCH274 के साथ जोड़नी होती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.