Home /News /business /

NPS नियमों में बदलाव: एंट्री की उम्र बढ़ाई गई, एग्जिट नियम भी हुए आसान, जानिए डिटेल

NPS नियमों में बदलाव: एंट्री की उम्र बढ़ाई गई, एग्जिट नियम भी हुए आसान, जानिए डिटेल

65-70 साल की उम्र में एनपीएस खाता खुलवाने पर उसे 75 सालों तक चलाया जा सकता है.

65-70 साल की उम्र में एनपीएस खाता खुलवाने पर उसे 75 सालों तक चलाया जा सकता है.

अब नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) में 70 साल की उम्र तक एनरोल किया जा सकता है. एनपीएस में एनरोल की आयु को 18-65 से संशोधित कर 18-70 किया गया है.

    नई दिल्ली. पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी यानी पीएफआरडीए (PFRDA) ने नेशनल पेंशन स्कीम यानी एनपीएस (NPS) से 65 साल की आयु के बाद जुड़ने वाले अंशधारकों के लिए इसे और आकर्षक बनाया है. इसके तहत ऐसे लोगों को अपने 50 फीसदी तक फंड को इक्विटी या शेयरों के लिए आवंटित करने की अनुमति दी गई है. साथ ही वरिष्ठ नागरिकों के लिए बाहर निकलने के नियमों को आसान किया गया है.

    एनपीएस से जुड़ने की आयु को 65 से बढ़ाकर 70 साल किए जाने के बाद पीएफआरडीए ने प्रवेश और बाहर निकलने के नियमों को संशोधित किया है. एनपीएस में प्रवेश की आयु को 18-65 से संशोधित कर 18-70 किया गया है. संशोधित गाइडलाइंस पर पीएफआरडीए के सर्कुलर के अनुसार, 65-70 आयु वर्ग में कोई भी भारतीय नागरिक या विदेशों में बसा भारतीय नागरिक (OCI) एनपीएस से जुड़ सकता है. वह इस योजना के साथ 75 साल की उम्र तक जुड़ा रह सकता है.

    ये भी पढ़ें- इंटरनेशनल पैसेंजर फ्लाइट्स पर बैन एक महीने और बढ़ा, DGCA ने जारी किया नोटिफिकेशन

    ऑटो च्वाइस के तहत अधिकतम 15 फीसदी तक निवेश
    सर्कुलर में कहा गया है कि जिन अंशधारकों ने अपने एनपीएस खाते को बंद कर दिया है, वे भी आयु में बढ़ोतरी के नियमों के अनुरूप नया खाता खोल सकते हैं. पीएफआरडीए ने कहा है कि यदि कोई अंशधारक 65 साल की उम्र के बाद एनपीएस से जुड़ता और डिफॉल्ट ऑटो च्वाइस के तहत निवेश का फैसला करता है, तो उसे शेयरों में सिर्फ 15 फीसदी तक का ही निवेश करने की अनुमति होगी.

    एकमुश्त 60 फीसदी राशि को निकाला जा सकता है
    एनपीएस से 65 साल की उम्र के बाद जुड़ने वाले अंशधारकों के लिए सर्कुलर में कहा गया है कि उन्हें सामान्य तौर पर तीन साल के बाद बाहर निकलने की अनुमति होगी. पीएफआरडीए ने कहा कि अंशधारक को ‘एन्यूइटी’ की खरीद के लिए कम से कम 40 फीसदी फंड का इस्तेमाल करना होगा. शेष राशि को एकमुश्त निकाला जा सकता है.

    ये भी पढ़ें- Air India ने अमेरिकी कोर्ट से Cairn की याचिका खारिज करने को कहा, जानिए क्या है मामला

    पूरा निकाला जा सकता है 5 लाख से कम का कॉर्पस
    यदि अंशधारक का फंड पांच लाख रुपये या इससे कम है तो वह पूरी जोड़ी गई पेंशन को एकमुश्त निकाल सकता है. पीएफआरडीए ने कहा कि तीन साल से पहले एनपीएस से बाहर निकलने को ‘प्रीमैच्योर एक्जिट’ माना जाएगा. इसमें अंशधारक को ‘एन्यूइटी’ के लिए कम से कम 80 फीसदी फंड का इस्तेमाल करना होगा. यदि अंशधारक समय से पहले एनपीएस से निकलना चाहता है और उसका फंड 2.5 लाख रुपये से कम है, तो वह जोड़ी गई पूरी राशि को एक बार में निकाल सकता है.

    Tags: NPS, Pension fund, Pensioners

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर