• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • NPS सब्‍सक्राइबर्स के लिए बड़ी खबर! अब एन्‍युटी सरेंडर के मामले PFRDA के बजाय निपटाएंगी बीमा कंपनियां

NPS सब्‍सक्राइबर्स के लिए बड़ी खबर! अब एन्‍युटी सरेंडर के मामले PFRDA के बजाय निपटाएंगी बीमा कंपनियां

PFRDA ने एनपीएस सब्‍सक्राइबर्स के लिए नई सुविधा शुरू की है.

PFRDA ने एनपीएस सब्‍सक्राइबर्स के लिए नई सुविधा शुरू की है.

पीएफआरडीए (PFRDA) ने कहा है कि एन्‍युटी सरेंडर रिक्‍वेस्‍ट (Annuity Surrender Request) के निपटारे के लिए अब उसके, सेंट्रल रिकॉर्ड कीपिंग एजेंसी (CRKA) या नेशनल पेंशन सिस्‍टम ट्रस्‍ट (NPS Trust) का कोई हस्‍तक्षेप नहीं होगा.

  • Share this:

    नई दिल्‍ली. पेंशन फंड रेग्‍युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (PFRDA) ने नेशनल पेंशन सिस्‍टम सब्‍सक्राइबर्स (NPS Subscribers) के लिए नई सुविधा का ऐलान किया है. इसके तहत एनपीएस सब्‍सक्राइबर को 100 फीसदी रकम निकालने के लिए एन्‍युटी सरेंडर (Annuity Surrender) करना अब पहले से ज्‍यादा आसान होगा. यही नहीं, अब सरेंडर की पूरी प्रक्रिया पहले के मुकाबले काफी कम समय में निपट जाएगी. दरअसल, पीएफआरडीए ने कहा है कि अब एलआईसी (LIC), एचडीएफसी लाइफ (HDFC Life), आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ (ICICI Prudential Life) और एसबीआई लाइफ (SBI Life) जैसी एन्‍युटी सर्विस प्रोवाइडर्स (ASPs) ही एन्‍युटी सरेंडर रिक्‍वेस्‍ट का निपटारा कर सकेंगी.

    बिना नियामकीय हस्‍तक्षेप के सरेंडर कर सकेंगे
    पीएफआरडीए ने कहा है कि एन्‍युटी सरेंडर रिक्‍वेस्‍ट के निपटारे के लिए अब उसके, सेंट्रल रिकॉर्ड कीपिंग एजेंसी (CRKA) या नेशनल पेंशन सिस्‍टम ट्रस्‍ट (NPS Trust) का कोई हस्‍तक्षेप नहीं होगा. एन्‍युटी सर्विस प्रोवाइडर्स स्‍पेसिफिक एन्‍युटी स्‍कीम फीचर्स, कंट्रैक्‍चुअल टर्म्‍स, सरेंडर क्‍लॉज और बीमा नियामक व विकास प्राधिकरण (IRDAI) दिशानिर्देशों के आधार पर पीएफआरडीए के तहत सूचीबद्ध सरेंडर रिक्‍वेस्‍ट का निपटारा करेंगी. एनपीएस के मुताबिक, सब्‍सक्राइबर्स पीएफआरडीए के नियमों के तहत कभी भी एग्जिट कर सकते हैं यानी पूरी रकम निकाल सकते हैं. बता दें कि मौजूदा नियमों के तहत एनपीएस सब्‍सक्राइबर्स को पेंशन फंड की 40 फीसदी रकम से एन्‍युटी प्‍लान खरीदना अनिवार्य होता है.

    ये भी पढ़ें- 7th Pay Commission: सरकारी कर्मचारियों को दोहरा फायदा, केंद्र ने DA के बाद हाउस रेंट अलाउंस भी बढ़ाया

    क्‍या होगी एन्‍युटी सर्विस प्रोवाइडर्स की भूमिका
    एएसपी की भूमिका एनपीएस से बाहर निकलने के समय ग्राहकों को तत्‍काल विभिन्‍न प्रकार की एन्‍युटी उपलब्‍ध करना, पीएफआरडीए की ओर से आवश्यक न्यूनतम एन्‍युटी वेरिएंट विकल्प प्रदान करना और जरूरत के मुताबिक किसी भी नए वैरिएंट की पेशकश करना है. अब तक एन्‍युटी सरेंडर की रिक्‍वेस्‍ट पीएफआरडीए के पास आती थीं. पीएफआरडीए ने 22 जुलाई 2021 को जारी सर्कुलर में कहा है कि अब एएसपी बिना किसी को रैफर किए सीधे एन्‍युटी रिक्‍वेस्‍ट को हैंडल कर सकती हैं. नियामक के मुताबिक, कोई भी सर्वाजनिक क्षेत्र का सब्‍सक्राइबर पेंशन के काफी समय से जारी रहने पर सरेंडर कर सकता है. वहीं, गंभीर बीमारी समेत किसी भी व्‍यक्तिगत कारण से भी एन्‍युटी सरेंडर की जा सकती है.

    ये भी पढ़ें- LPG ग्राहक अब खुद डिस्‍ट्रीब्‍यूटर चुनकर भरवा सकेंगे रसोई गैस सिलेंडर, रेटिंग खराब हुई तो वितरक को होगा नुकसान

    कौन बिना एन्‍युटी खरीदे निकाल सकेंगे पूरी रकम
    पेंशन फंड रेग्‍युलेटर ने हाल में एनपीएस सब्सक्राइबर्स को अपना पूरा पैसा निकालने की इजाजत दे दी है. पीएफआरडी के मुताबिक, जिस सब्सक्राइबर्स का कुल पेंशन कॉर्पस 5 लाख रुपये या इससे कम है, वो बिना एन्युटी खरीदे अपना पूरा पैसा निकाल सकेंगे. इससे पहले पेंशन फंड (Pension Fund) में दो लाख रुपये से अधिक होने पर सब्‍सक्राइबर्स रिटायर होने या 60 वर्ष की आयु पूरी होने पर अधिकतम 60 फीसद रकम एकमुश्त निकाल सकते थे. नियामक के मुताबिक, पेंशन फंड से समय-पूर्व एकमुश्त निकासी की सीमा एक लाख से बढ़ाकर ढाई लाख रुपये कर दी गई है. वहीं, एनपीएस में शामिल होने की अधिकतम आयुसीमा 70 वर्ष और निकलने की 75 वर्ष कर दी गई है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन