1 साल में 60% तक रिटर्न देगी ये स्कीम, आप भी लगा सकते हैं यहां पैसा- जानें कैसे?

करें फाइनेंशियल प्लानिंग

करें फाइनेंशियल प्लानिंग

आज हम आपको सरकार की एक ऐसी स्कीम के बारे में बता रहे हैं जिसने पिछले एक साल में 60 फीसदी तक रिटर्न दिया है. तो चलिए जानते हैं इसके बारे में...

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना काल (Covid-19 Pandemic) में लोगों का रुख एक बार फिर फाइनेंशियल प्लानिंग की तरफ ज्यादा हो गया है. फाइनेंशियल प्लानिंग जीवन के जरूरी कामों में से एक है. व्यक्ति की Investment रणनीति ऐसी होनी चाहिए कि किसी भी छोटे बड़े काम के लिए दोस्तों-रिश्तेदारों से उधार या बैंक से लोन न लेना पड़े. आज हम आपको सरकार की एक ऐसी स्कीम के बारे में बता रहे हैं जिसने पिछले एक साल में 60 फीसदी तक रिटर्न दिया है. तो चलिए जानते हैं इसके बारे में...

ये है नेशनल पेंशन स्कीम (NPS)

नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) खास तौर पर रिटायरमेंट के लिए डिजाइन किया गया लंबी अवधि का इन्वेस्टमेंट प्रोडक्ट है. इसकी देखरेख पेंशन फंड नियामक पीएफआरडीए करता है. नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) की स्कीम ई (Scheme E) ने इक्विटी बाजार को काफी फायदा पहुंचाया है. पिछले एक साल में सरकार की पेंशन योजना ने 60 प्रतिशत तक का रिटर्न दिया है.

ये भी पढ़ें: EPFO: नौकरी छोड़ने के बाद PF अकाउंट पर कब तक मिलता है ब्याज, यहां करें चेक
LIC पेंशन फंड ने दिया 60% रिटर्न

एनपीएस के टियर-1 खाते में एलआईसी पेंशन फंड (LIC Pension Fund) ने सबसे ज्यादा 59.56 फीसदी रिटर्न दिया है. इसके बाद आईसीआईसीआई प्रू पेंशन फंड (ICICI Pru Pension Fund) ने 59.47 फीसदी और यूटीआई रिटायरमेंट सॉल्यूशंस (UTI Retirement Solutions) ने 58.91 फीसदी रिटर्न दिया है.

समझिए टियर-1 और टियर-2 में अंतर



एनपीएस टियर-1 अकाउंट को एक्टिव रखने के लिए सालाना न्यूनतम योगदान 6,000 रुपए से घटाकर सिर्फ 1,000 रुपए कर दिया गया है. रिटायर होने पर आप पूरी पूंजी का 60 फीसदी हिस्सा एकमुश्त टैक्स फ्री ले सकते हैं. बाकी 40 प्रतिशत फंड से आजीवन पेंशन ले सकते हैं.

ये भी पढ़ें: इस तरह खुलवाएं PM Jan-Dhan Account, सरकार करेगी 1.3 लाख रुपये की मदद

एनपीएस टियर-2 में कई तरह की सहूलियत है. चूंकि, यह इन्वेस्टमेंट अकाउंट है, आप अपनी जरूरत के हिसाब से पैसे निकाल सकते हैं. हालांकि, सरकारी कर्मचारियों को छोड़ दें तो टियर-2 अकाउंट्स पर इनकम टैक्स एक्ट (Income Tax Act) के सेक्शन 80C के तहत कोई टैक्स लाभ नहीं मिलता है.

एनपीएस के टियर I खाते में आपकी उम्र के 60 वर्ष तक लॉक-इन है, जब तक कि आप इसे बढ़ा नहीं देते, लेकिन टियर II खाते के लिए कोई लॉक-इन अवधि नहीं है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज