होम /न्यूज /व्यवसाय /CA से शिखर तक पहुंचीं चित्रा रामकृष्ण फिर हुई बाबा की एंट्री और खत्म हो गया करियर

CA से शिखर तक पहुंचीं चित्रा रामकृष्ण फिर हुई बाबा की एंट्री और खत्म हो गया करियर

चित्रा रामकृष्‍णा के खिलाफ सेबी ने भी बड़ी कार्रवाई की थी.

चित्रा रामकृष्‍णा के खिलाफ सेबी ने भी बड़ी कार्रवाई की थी.

रामकृष्ण का नाम तब सुर्खियों में आया था, जब 11 फरवरी, 2022 को देश के मार्केट रेगुलेटर सेबी (SEBI) ने कहा कि उन्होंने हि ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज यानी एनएसई (NSE) में अनियमितताओं को लेकर स्टॉक एक्सचेंज की पूर्व एमडी और सीईओ चित्रा रामकृष्ण (Chitra Ramkrishna) की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की छापेमारी के बाद अब सीबीआई (CBI) ने चित्रा पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. सीबीआई ने शुक्रवार को चित्रा से पूछताछ की. जांच एजेंसी ने रामकृष्ण और एक अन्य पूर्व सीईओ रवि नारायण और सीओओ आनंद सुब्रमण्यन के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर भी जारी किया है, ताकि उन्हें देश छोड़ने से रोका जा सके.

बाबा के प्रभाव में आकर फैसला लेने का है मामला
रामकृष्ण का नाम तब सुर्खियों में आया था, जब 11 फरवरी, 2022 को देश के मार्केट रेगुलेटर सेबी (SEBI) ने कहा कि उन्होंने हिमालय में विचरण करने वाले एक योगी के प्रभाव में आकर आनंद सुब्रमण्यन को एक्सचेंज में सीओओ और एमडी का सलाहकार नियुक्त किया. सेबी ने रामकृष्ण और अन्य पर सुब्रमण्यन की मुख्य रणनीतिक सलाहकार के तौर पर नियुक्ति और फिर ग्रुप ऑपरेटिंग ऑफिसर और एमडी के सलाहकार के तौर पर उनकी पुन: नियुक्ति में नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाया था. सेबी ने रामकृष्णन पर 3 करोड़ रुपये, एनएसई और उसके पूर्व एमडी और सीओओ रवि नारायण और सुब्रमण्यन पर 2-2 करोड़ रुपये तथा मुख्य नियामक एवं शिकायत अधिकारी वी आर नरसिम्हन पर 6 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था.

ये भी पढ़ें- NSE Scam: पूर्व SEBI प्रमुख ने कहा- जांच में सामने आए लोगों को एनएसई से बाहर निकाल देना चाहिएप्रबंधन की शक्तियों पर फिर से हो विचार

पेशे से एक सीए हैं चित्रा रामकृष्ण
चित्रा पेशे से एक चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA) हैं. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत साल 1985 में आईडीबीआई बैंक से की थी. उन्होंने कुछ समय के लिए सेबी में भी काम किया था. साल 1991 में एनएसई की स्थापना से ही वह मुख्य भूमिका में थीं.

ये भी पढ़ें- NSE Scam: खुल गया हिमालय वाले बाबा का ‘भेद’, साथ में बीच पर घूमने जाती थीं पूर्व MD-CEO

साल 2013 में बनी थीं एनएसई चीफ
एनएसई के पहले सीईओ आरएच पाटिल की अगुआई में चित्रा उन 5 लोगों में शामिल थीं जिन्हें ‘हर्षद मेहता घोटाला’ के बाद एक पारदर्शी स्टॉक एक्सचेंज बनाने के लिए चुना गया था. साल 2013 में रवि नारायण का कार्यकाल समाप्त होने के बाद चित्रा को 5 साल के लिए एनएसई का चीफ बनाया गया था.

15 लाख से 1.38 करोड़ रुपये कर दी आनंद सुब्रमण्यम की सैलरी
आरोप है कि चित्रा ने पद संभालते ही एनएसई में सीओओ पद बनाया और हिमालय वाले बाबा के प्रभाव में आनंद सुब्रमण्यम की नियुक्ति की गई. चित्रा ने आनंद सुब्रमण्यम की सैलरी 15 लाख रुपये से बढ़ाकर 1.38 करोड़ रुपये सालाना कर दी. इससे पहले आनंद की सैलरी 15 लाख रुपये थी.

Tags: CBI, CBI Probe, NSE

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें