Home /News /business /

NSE Scam : कौन हैं चित्रा रामकृष्‍ण के मिस्‍टीरियस योगी, हम देते हैं क्‍लू

NSE Scam : कौन हैं चित्रा रामकृष्‍ण के मिस्‍टीरियस योगी, हम देते हैं क्‍लू

चित्रा रामकृष्‍ण ने 2014 से 2016 तक कई सीक्रेट हिमालय वाले योगी के साथ शेयर किए थे.

चित्रा रामकृष्‍ण ने 2014 से 2016 तक कई सीक्रेट हिमालय वाले योगी के साथ शेयर किए थे.

कथित योगी के निर्देशों से तत्‍कालीन सीओओ और चित्रा के सलाहकार आनंद सुब्रमण्‍यम को सीधा फायदा होता था, लेकिन उन्‍हें NSE के कामकाज की ज्‍यादा डिटेल में जानकारी नहीं थी. इससे सवाल उठता है कि यह बाबा वित्‍त मंत्रालय का ही कोई ब्‍यूरोक्रेट था.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. देश के सबसे बड़े स्‍टॉक एक्‍सचेंज (Stock Exchange) एनएसई (NSE) की पूर्व एमडी और सीईओ (MD & CEO) चित्रा रामकृष्‍ण के फर्जीवाड़े का जबसे खुलासा हुआ है, सभी की निगाह मामले में शामिल मिस्‍टीरियस योगी पर टिकी है.

बाजार नियामक सेबी (SEBI) भी अभी तक इस ‘सिद्धपुरुष’ का कोई पता नहीं लगा सकी है, जिसे चित्रा गोपनीय जानकारियां भेजतीं थी. सेबी के हाथ एक ईमेल आईडी rigyajursama@outlook.com लगी थी, जिस पर चित्रा की ओर से सीक्रेट भेजे जाते थे. अभी तक हुई जांच के आधार पर कई लोगों की तरफ मिस्‍टीरियस योगी होने का इशारा मिलता है.

ये भी पढ़ें – बेतहाशा बढ़ रही बेटिकट यात्रियों की संख्‍या, जानें रेलवे ने वसूला कितना जुर्माना

आनंद सुब्रमण्‍यम पर सबसे ज्‍यादा निगाह
चित्रा रामकृष्‍ण के सलाहकार और NSE के पूर्व सीओओ आनंद सुब्रमण्‍यम बिना योग्‍यता कई अधिकार रखते थे. आनंद को भारी-भरकम सैलरी के साथ कई सुविधाएं मुहैया कराने के लिए सीधे हिमालय वाले बाबा की तरफ से निर्देश दिए जाते थे. कई ईमेल में तो आनंद को भी सीसी रखा जाता था. दोनों को ज्‍योतिष विज्ञान में खास रुचि भी थी. लिहाजा इसकी संभावना बढ़ जाती है कि आनंद ही बाबा के रूप में चित्रा को निर्देश देते थे.

क्‍या मंत्रालय का कोई अधिकारी था
सूत्रों का कहना है कि इस कथित योगी का न तो हिमालय से कोई संबंध है और न ही यह कोई बाबा है. ऐसी संभावना है कि ये वित्‍त मंत्रालय का कोई ब्‍यूरोक्रेट था, जिसका चित्रा रामकृष्‍ण का करियर चमकाने में बड़ा हाथ है. सेबी ने भी योगी के ईमेल पर हुई बातचीत से पता लगाया है कि इस व्‍यक्ति को NSE पर कामकाज के तरीके और अधिकारियों की हेरारकी को लेकर पूरी जानकारी थी. आनंद बाहर का आदमी था और उसे NSE की इतनी डिटेल नहीं पता थी. ऐसे में ये संभावना ज्‍यादा दिखती है कि कथित बाबा मंत्रालय से जुड़ा कोई आदमी था.

ये भी पढ़ें – Petrol Diesel Prices Today: लखनऊ-नोएडा सहित कई शहरों में बदले पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें आपके शहर में आज का रेट

सीबीआई ही खोल सकती है पोल
मामले से जुड़े उच्‍च पदस्‍थ सूत्रों का कहना है कि अगर इसकी छानबीन की जिम्‍मेदारी सीबीआई को सौंपी जाती है, तो ही कुछ खुलने की संभावना है. वरना अभी तक सेबी ने NSE को ही आरोपी बनाकर उस पर जुर्माना लगा दिया है. इस कदम से कथित योगी के नाम का खुलासा होना और उस तक जांच की आंच पहुंचना बहुत मुश्किल लग रहा है.

Tags: NSE, Scam

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर