लाइव टीवी

शेयर बाजार में पैसा लगाने वाले रहे सावधान, NSE ने किया आगाह

पीटीआई
Updated: December 11, 2019, 11:22 AM IST
शेयर बाजार में पैसा लगाने वाले रहे सावधान, NSE ने किया आगाह
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने इन्वेस्टर्स को सावधानी बरतने की सलाह दी

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange NSE) ने निवेशकों (Investors) को स्टॉक ब्रोकर्स (Stock Brokers) के साथ पॉवर ऑफ अटॉर्नी (PoA) निष्पादित (Execute) करते समय सावधानी बरतने की सलाह दी है.

  • Share this:
नई दिल्ली. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) ने निवेशकों (Investors) को स्टॉक ब्रोकर्स (Stock Brokers) के साथ पॉवर ऑफ अटॉर्नी (PoA) निष्पादित (Execute) करते समय सावधानी बरतने की सलाह दी है. NSE ने उन सभी अधिकारों के बारे में भी निर्दिष्ट किया जो दलाल अपनी ओर से लागू कर सकते हैं. कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग फ्रॉड (Karvy Stock Broking Fraud) मामले के बाद नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने निवेशकों को इस बारे में आगाह किया है. एनएसई के अनुसार, निवेशकों को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि ट्रेड के 24 घंटे के भीतर कांट्रैक्ट नोट प्राप्त हो.

हजारों ग्राहकों के साथ हुआ फ्रॉड
बता दें कि हाल ही में कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग फ्रॉड का मामला आया था, जिसमें कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग लिमिटेड द्वारा अपने ग्राहकों द्वारा दिए गए पॉवर ऑफ अटॉर्नी का दुरुपयोग करके 95,000 से अधिक ग्राहकों के 2,300 करोड़ रुपये की प्रतिभूतियों को अनधिकृत रूप से अपने खुद के खाते में स्थानांतरित कर लिया था. सेबी ने 22 नवंबर को, कार्वी पर स्टॉक ब्रोकिंग गतिविधियों के संबंध में नए ग्राहकों को लेने से रोक दिया था.

ये भी पढ़ें: पुराने कपड़े बेचकर कर घर बैठे सकते हैं हजारों में कमाई, शरू करें ये बिज़नेस

फिलहाल प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज एनएसई ने निवेशकों को पॉवर ऑफ अटॉर्नी निष्पादित करते समय सावधान रहने को कहा है. निवेशक उन सभी अधिकारों को निर्दिष्ट करें जो स्टॉक ब्रोकर अमल में ला सकते हैं और उस समय का उल्लेख करें जब तक यह पावर आफ अटार्नी (पीओए) मान्य है. बाजार नियामक सेबी या एक्सचेंजों के अनुसार पीओए अनिवार्य नहीं है.

NSE ने दी सलाह
एनएसई के अनुसार, निवेशकों को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि ट्रेड के 24 घंटे के भीतर कांट्रैक्ट नोट प्राप्त हो और ब्रोकर से कम से कम एक तिमाही में खाते का विवरण प्राप्त किया जाए. इसके अलावा, निवेशकों को अपने खातों में नियमित रूप से लॉग—इन करने के लिए कहा गया है ताकि वे डिपॉजिटरी से प्राप्त बैलेंस और डीमैट स्टेटमेंट को सत्यापित कर सकें. कारोबार सदस्य द्वारा रिपोर्ट किए गए फंड्स और शेष प्रतिभूतियों के बारे में मासिक आधार पर एक्सचेंज द्वारा भेजे गए संदेश की जांच कर सकें.ये भी पढ़ें: 4 लाख रुपये में शुरू करें ये बिज़नेस, हर महीने होगी 50 हजार तक की कमाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 8:51 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर