लाइव टीवी

हवाई जहाज का सफर और खाना पकाना हो सकता है सस्ता, पेट्रोलियम मंत्री ने दिए ये संकेत

भाषा
Updated: December 5, 2019, 7:55 PM IST
हवाई जहाज का सफर और खाना पकाना हो सकता है सस्ता, पेट्रोलियम मंत्री ने दिए ये संकेत
बजट में एटीएफ, प्राकृतिक गैस को जीएसटी में शामिल करने की पहल किये जाने की उम्मीद

पेट्रोलियम मंत्री (Petroleum Minister) धर्मेंद्र प्रधान लंबे समय से एटीएफ (ATF) और प्राकृतिक गैस (Natural Gas) को जीएसटी (GST) के दायरे में लाने की पैरवी कर रहे हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. पेट्रोलियम मंत्री (Petroleum Minister) धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि उन्हें आगामी बजट में विमानन ईंधन (ATF) और प्राकृतिक गैस (Natural Gas) को गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) के दायरे में लाये जाने की दिशा में पहल किये जाने की उम्मीद है.

प्रधान ने यहां फिक्की के एक कार्यक्रम में कहा कि उन्हें वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से उम्मीद है कि वह टैक्स के दोहराव को कम करने और कारोबारी माहौल बेहतर बनाने के लिये एटीएफ और प्राकृतिक गैस को जीएसटी के दायरे में लाने के बारे में आगामी बजट में कोई पहल किये जाने का संकेत देंगी.

नैचुरल गैस की मांग 10 साल में तीन गुना बढ़ी
प्रधान लंबे समय से एटीएफ और प्राकृतिक गैस को जीएसटी के दायरे में लाने की पैरवी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि देश में प्राकृतिक गैस की मांग अगले 10 साल में तीन गुना से अधिक बढ़ाकर देश की कुल ईंधन मांग के 15 प्रतिशत पर पहुंच सकती है और इसकी पूर्ति के लिये गैस की बुनियादी संरचना पर 60 अरब डॉलर खर्च किये जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें: 31 दिसंबर तक जरूर कर लें ये काम, वरना बैंक खाता हो जाएगा फ्रीज, नहीं निकाल पाएंगे पैसे

उन्होंने कहा, 'अभी गैस की खपत 16.60 करोड़ घनमीटर प्रतिदिन है. कुल ईंधन मांग में इसकी हिस्सेदारी 15 प्रतिशत करने का लक्ष्य पाने के लिये खपत को बढ़ाकर प्रतिदिन 60 करोड़ घनमीटर करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि खपत के मौजूदा स्तर में घरेलू उत्पादन की 8 से 9 करोड़ घनमीटर की हिस्सेदारी है और शेष की पूर्ति आयात के जरिये की जाती है.

LNG आयात टर्मिनल बनाने पर जोरप्रधान ने कहा कि एलएनजी (LNG) आयात टर्मिनल बनाने, पाइपलाइन बिछाने और शहरी गैस वितरण नेटवर्क का विस्तार करने में निवेश किया जा रहा है, ताकि देश में कम प्रदूषण करने वाले ईंधनों की खपत बढ़ायी जा सके. उन्होंने कहा कि प्राकृतिक गैस के दो फायदे हैं. यह तरल ईंधनों की तुलना में सस्ता है और प्रदूषण भी कम करता है. इसकी खपत बढ़ने से भारत को कम कार्बन उत्सर्जन वाले भविष्य की ओर बढ़ने में मदद मिल सकती है.

ये भी पढ़ें: आप भी हैं SBI के ग्राहक तो हो जाएं खुश, इस ऐलान के बाद जमकर होगा आपका फायदा!

प्रधान ने कहा कि भारत के पास अभी सालाना 388 लाख टन एलएनजी आयात करने की टर्मिनल क्षमता है. इसे बढ़ाकर अगले तीन-चार साल में 525 लाख टन किया जा रहा है. इसके साथ ही गैस पाइपलाइन का नेटवर्क में अतिरिक्त 14,700 किलोमीटर का विस्तार किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि वाहनों को सीएनजी (CNG) और घरों तक पाइप से रसोई गैस की आपूर्ति करने के लिये शहरी गैस नेटवर्क को 1.2 लाख करोड़ रुपये के निवेश से 70 प्रतिशत बढ़ाया जा रहा है. कृषि और शहरों के अवशेषों से गैस बनाने के लिये 5 हजार कंप्रेस्ड बायो गैस संयंत्र बनाने की भी योजना है. इनकी क्षमता 2023 तक बढ़कर 150 लाख टन हो जाएगी.

ये भी पढ़ें: बैंक खाते में आपके पैसों को सेफ करने के लिए RBI ला रहा है नए नियम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 5, 2019, 7:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर