Home /News /business /

Amazon के मुद्दे पर कैट ने प्रधानमंत्री मोदी से की हस्तक्षेप की मांग, जानें क्या है मामला?

Amazon के मुद्दे पर कैट ने प्रधानमंत्री मोदी से की हस्तक्षेप की मांग, जानें क्या है मामला?

कैट ने कहा कि पिछले 5 वर्षों से बार-बार कहने पर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है, लिहाज़ा अब इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी का सीधे हस्तक्षेप करना ज़रूरी हो गया है.

कैट ने कहा कि पिछले 5 वर्षों से बार-बार कहने पर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है, लिहाज़ा अब इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी का सीधे हस्तक्षेप करना ज़रूरी हो गया है.

कैट ने कहा कि पिछले 5 वर्षों से बार-बार कहने पर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है, लिहाज़ा अब इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी का सीधे हस्तक्षेप करना ज़रूरी हो गया है.

    नई दिल्ली. देश के ई कामर्स (e-commerce) व्यापार में विदेशी ई कामर्स कम्पनियों द्वारा की जा रही धांधली और मनमानी के विरोध में कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्ज़ (CAIT) ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) को एक पत्र भेजकर इस मामलेन में उनके सीधे हस्तक्षेप का आग्रह किया है. कैट ने पीएम मोदी को भेजे पत्र में अफसोस जाहिर करते हुए कहा की भारत में अमेजन की धांधली को लेकर अमरीकी सीनेट के लगभग 15 सदस्य तो सक्रिय हो गए किंतु भारत से ही जुड़े संगीन मामले पर सभी मंत्रालयों एवं सरकारी विभागों की चुप्पी है जो कि प्रशासनिक व्यवस्था पर एक बड़ा सवाल खड़ा करती है.

    कैट ने कहा कि पिछले 5 वर्षों से बार-बार कहने पर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है, लिहाज़ा अब इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी का सीधे हस्तक्षेप करना ज़रूरी हो गया है.

    जानें कैट ने क्या कहा?
    प्रधानमंत्री मोदी को भेजे पत्र में कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा ‘विदेशी धन से पोषित दुनिया की प्रमुख ई कॉमर्स कंपनियों ने वर्ष 2016 से देश के क़ानून एवं नियमों का खुले रूप से घोर उल्लंघन करते हुए ई कॉमर्स व्यापार पर एक तरह से अपना कब्ज़ा ही नहीं जमा लिया है बल्कि उसको बंधक भी बना लिया है. यह बेहद खेद है की न तो किसी मंत्रालय ने अथवा सरकारी प्रशासनिक विभाग ने इसका कोई स्वत संज्ञान लिया तथा इसको रोकने के लिए कोई प्रभावी कदम नहीं उठाया. फेमा क़ानून के उल्लंघन की जांच प्रवर्तन निदेशालय गत दो वर्षों से अधिक समय से कर रहा है किन्तु उसकी भी जांच का कोई पता नहीं है. हमारा यह निश्चित मत है की यह अमरीकी कंपनियों द्वारा सीधे तौर पर एक आर्थिक आतंकवाद है.’

    ये भी पढ़ें- Facebook, Google और ऐपल जैसी कंपनियों से करें कमाई, 29 अक्टूबर तक है मौका, जानिए कैसे लगाएं पैसे?

    पीएम मोदी से की अपील
    भरतिया एवं खंडेलवाल ने कहा की गत सप्ताह एक वैश्विक समाचार एजेंसी ने अमरीकी कम्पनी अमेज़न पर सबूतों के साथ बेहद गंभीर आरोप लगाते हुए कहा की अमेज़न भारत के उद्योगों के उत्पाद की नक़ल कर उन्हें अपनी व्यवस्था के जरिये बनवाती है. बेहद कम दामों पर उनको बेच कर ई कॉमर्स व्यापार पर अपना प्रभुत्व स्थापित कर रही है जिससे भारत के लघु उद्योग बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं.

    ये भी पढ़ें- 17 रुपये 40 पैसा वाला यह स्टाॅक 2,583 रुपये का हुआ, निवेशकों के 1 लाख आज ₹1.48 करोड़ बन गए, आपके पास है?

    कैट ने आगे कहा कि अमेजन अपने पोर्टल पर सर्च व्यवस्था में हेरा फेरी कर अपने उत्पादों को शीर्ष पायदान पर रख अन्य विक्रेता व्यापारियों के व्यापार को रोकती है. यह सीधे तौर पर प्रधानमंत्री श्री मोदी के आत्मनिर्भर भारत अभियान के सर्वथा विरुद्ध है. कैट ने इस विषय पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुद्दे का संज्ञान लेकर कर सम्बंधित मंत्रालयों एवं सरकारी एजेंसियों को इस विषय पर तुरंत कार्यवाही करने की अपील की है.

    Tags: Amazon, Business news in hindi, CAIT, PM Modi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर