Home /News /business /

2020 से आया IPOs का रेला, मगर 90 के दशक में आए IPOs के मुकाबले कुछ नहीं!

2020 से आया IPOs का रेला, मगर 90 के दशक में आए IPOs के मुकाबले कुछ नहीं!

भारतीय शेयर बाजार में पिछले 2 साल से बेशक आईपीओ (IPOs) की बहार है, लेकिन 1990 के दशक में आईपीओ के रेले से यह अभी भी बहुत पीछे है.

भारतीय शेयर बाजार में पिछले 2 साल से बेशक आईपीओ (IPOs) की बहार है, लेकिन 1990 के दशक में आईपीओ के रेले से यह अभी भी बहुत पीछे है.

Prime Database पर उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक 2020 से अब तक 120 कंपनियां अपना IPO लेकर आई हैं. मतलब पिछले 2 साल से बेशक आईपीओ (IPOs) की बहार है, लेकिन 1990 के दशक में आईपीओ के रेले से यह अभी भी बहुत पीछे है. 90 के दशक में हर दिन लगभग तीन आईपीओ (IPO) आते थे. उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, 90 के दशक में करीब 4,712 कंपनियों ने आईपीओ के जरिए 42,500 करोड़ रुपये जुटाए, जो आईपीओ की संख्या की दृष्टि से पिछले 2 साल के आंकड़ों से बहुत ज्यादा है, लेकिन रुपयों की दृष्टि से काफी कम.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. भारतीय शेयर बाजार में पिछले 2 साल से बेशक आईपीओ (IPOs) की बहार है, लेकिन 1990 के दशक में आईपीओ के रेले से यह अभी भी बहुत पीछे है. Prime Database पर उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक 2020 से अब तक 120 कंपनियां अपना IPO लेकर आई हैं. अगर हम इसकी एवरेज निकालें तो हर सप्ताह औसतन एक आईपीओ आया है. लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कि 1990 के दशक में हर दिन लगभग तीन आईपीओ (IPO) आते थे.

    डिजिटल ब्रोकिंग प्लेटफॉर्म ज़ेरोधा (Zerodha) की स्थापना करने वाले निखिल कामत (Nikhil Kamath) ने 8 दिसंबर को ट्वीट किया कि बाजार में हाल में दिख रहा आईपीओ (IPOs) का रेला 1990 के दशक के रेले से अभी काफी पीछे है. निखिल कामत ने ट्विटर पर पिछले 2 दशक में आए आईपीओ से संबंधित आंकड़ों की टेबल शेयर की.

    ये भी पढ़ें – Share Market में दो दिनों से क्यों है जबरदस्त तेजी? जानिए इसके पीछे के 5 कारण

    हर दिन 3 आईपीओ आते थे बाजार में
    90 के दशक में प्रतिदिन औसतन 3 आईपीओ आते दिखे थे, जबकि पिछले 2 साल में हर हफ्ते औसतन एक आईपीओ आ रहा है. उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, 90 के दशक में करीब 4,712 कंपनियों ने आईपीओ के जरिए 42,500 करोड़ रुपये जुटाए, जो आईपीओ की संख्या की दृष्टि से पिछले 2 साल के आंकड़ों से बहुत ज्यादा है. हालांकि आईपीओ के जरिए जुटाए गए पैसे के नजरिए से यह बहुत कम है. कम इसलिए लगता है क्योंकि तब रुपये की स्थिति आज से मुकाबले बेहतर थी.

    ये भी पढ़ें – Terra Cryptocurrency में 10,000 रुपये एक साल में बन गए 12 लाख

    1995 में 1,420 कंपनियों के IPO आए
    सिर्फ 1995 में ही 1,402 कंपनियां IPO लेकर आईं, जबकि इसके एक साल पहले 1994 में 1,336 कंपनियों ने आईपीओ लॉन्च किए थे. 1994 और 1995 के दौरान आए इन आईपीओ के जरिए 21,651 करोड़ रुपये ही जुटाए गए थे, जो कि हाल के 2 वर्षों के दौरान जुटाए गए पैसे की तुलना में बहुत कम है.
    सिर्फ 2020 में ही कंपनियों ने आईपीओ के जरिए 74,707 करोड़ रुपये जुटाए हैं. वहीं 2021 में 30 नवंबर तक आईपीओ के जरिए 1.06 लाख करोड़ रुपये जुटाए गए हैं. इसके अलावा इसी महीने 10 और आईपीओ लॉन्च होने वाले हैं, जिनमें CE Info Systems, Metro Brands, MedPlus, Data Patterns, HD Adhesives और कई दूसरे बड़े नाम शामिल हैं.

    Tags: IPO, Share market, Stock market

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर