• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • One Nation One Ration Card: बिहार के सर्वाधिक 15,729 प्रवासी मजदूरों ने दूसरे राज्यों में लिया राशन

One Nation One Ration Card: बिहार के सर्वाधिक 15,729 प्रवासी मजदूरों ने दूसरे राज्यों में लिया राशन

बीजेपी सांसद सुशील मोदी ने 'वन नेशन, वन राशन कार्ड' योजना को लेकर सवाल पूछा था.

बीजेपी सांसद सुशील मोदी ने 'वन नेशन, वन राशन कार्ड' योजना को लेकर सवाल पूछा था.

वन नेशन वन राशन कार्ड यानी ओएनओआरसी (One Nation One Ration Card) देश भर में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत 81 करोड़ लाभुकों को कहीं से भी राशन मुहैया कराने वाली योजना है.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना की दूसरी लहर के दौरान पूरे देश में सर्वाधिक बिहार के 15,729 प्रवासी मजदूरों ने अपने गृह राज्य के बाहर ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ (One Nation One Ration Card) योजना के तहत अपने कोटे का राशन लिया. राज्यसभा में शुक्रवार को केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति (Sadhvi Niranjan Jyoti) ने सांसद सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) के एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र में रहने वाले 3,073, दिल्ली में 2,773, हरियाणा में 1,838, दादर व नगर हवेली और दमन व दीव में 1,577 तथा गुजरात में 1,428 प्रवासी बिहारी मजदूरों ने राशन का उठाव किया. इस साल अप्रैल से जुलाई के बीच जब कोरोना की दूसरी लहर पीक पर थी, तब जुलाई महीने में दूसरे राज्यों में राशन का उठाव करने वाले बिहारी मजदूरों की संख्या अप्रैल की 3,249 की तुलना में करीब दोगुनी यानी 6,419 रही.

ये भी पढ़ें: Post Office की ये स्कीम बनाएगी मालामाल! 5 साल के इस प्लान में सालाना होगा 1 लाख से ज्यादा का प्रॉफिट

2019 में शुरू हुई थी ONORC योजना
नरेंद्र मोदी सरकार ने ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ योजना देश के सभी नागरिकों के लिए किसी भी राज्य की सरकारी राशन दुकान से राशन उपलब्ध करवाने के लिए अगस्त 2019 में शुरू किया था. वैसे सभी नागरिक जो काम करने के लिए किसी दूसरे राज्य पलायन कर जाते हैं वे इस योजना के जरिए देश की किसी भी सरकारी दुकान से राशन ले सकते हैं. हालांकि पश्चिम बंगाल, छतीसगढ़ और असम की सरकारों ने अभी अपने यहां ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ योजना को लागू नहीं किया है.

फर्जी राशन कार्ड के इस्तेमाल को रोकना
इस योजना का मकसद, देश में फर्जी राशन कार्ड के इस्तेमाल को रोकना है. साथ ही इसका मकसद यह भी है कि कोई व्यक्ति एक स्थान से दूसरे स्थान पलायन करता है तो उसे राशन लेने में कोई परेशानी न हो और प्रवासी श्रमिक-मजदूरों को खाद्य सुरक्षा मिले. इसके तहत कम कीमतों पर खाद्य पदार्थ जैसे गेहूँ और चावल मुहैया कराया जाता है.

दो तरह के राशन कार्ड जारी करती हैं सरकारें
गौरतलब है कि सभी राज्य सरकारें दो तरह के राशन कार्ड जारी करती हैं. पहला APL राशन कार्ड और दूसरा BPL राशन कार्ड. लोगों को उनकी आय के आधार पर ही APL और BPL राशन कार्ड जारी किए जाते हैं. APL कैटेगरी में उन लोगों को रखा जाता है जो गरीबी रेखा से ऊपर जीवन यापन कर रहे हैं. गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों को BPL राशन कार्ड जारी किया जाता है.

ये भी पढ़ें: Bank Holidays: अगस्त में 15 दिन बंद रहेंगे बैंक, जानिए किस किस दिन है अवकाश? देखें ये लिस्ट

कहीं से भी राशन मुहैया कराने वाली योजना
राशन कार्ड हिन्दी और अंग्रेजी के अलावा स्थानीय भाषा में भी जारी किया जा सकता है. यह देश भर में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत 81 करोड़ लाभुकों को कहीं से भी राशन मुहैया कराने वाली योजना है. तत्कालीन केंद्रीय उपभोक्ता मामले,खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने मार्च 2021 तक देश भर में इसे लागू करने का लक्ष्य रखा था.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज