Home /News /business /

ongc becomes indias second most profitable company announces dividend for shareholders jst

ओएनजीसी भारत की दूसरी सर्वाधिक मुनाफे वाली कंपनी बनी, शेयरधारकों के लिए की डिविडेंड की घोषणा

ओएनजीसी को हुआ 40,000 करोड़ का लाभ.

ओएनजीसी को हुआ 40,000 करोड़ का लाभ.

ओएनजीसी ने मुनाफे के मामले में टाटा स्टील को पीछे छोड़ दिया है. कच्चे तेल के उत्पाद और बिक्री के लिए मिले हाई रेट्स का लाभ कंपनी को हुआ है. सर्वाधिक मुनाफे के मामले में रिलायंस इंडस्ट्रीज शीर्ष पर है.

नई दिल्ली. सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) ने बीते वित्त वर्ष (2021-22) में करीब 40,306 करोड़ रुपये का रिकॉर्ड शुद्ध लाभ कमाया है. कच्चे तेल के उत्पादन पर ऊंची कीमत मिलने की वजह से ओएनजीसी रिकॉर्ड मुनाफा कमा पाई है. इस तरह अब रिलायंस इंडस्ट्रीज के बाद ओएनजीसी देश की दूसरी सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाली कंपनी बन गई है.

ओएनजीसी ने एक बयान में कहा कि बीते वित्त वर्ष में उसका शुद्ध लाभ 258 प्रतिशत के उछाल के साथ 40,305.74 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है. इससे पिछले वित्त वर्ष (2020-21) में कंपनी ने 11,246.44 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था. समीक्षाधीन वित्त वर्ष में कंपनी को प्रत्येक बैरल कच्चे तेल के उत्पादन और बिक्री पर 76.62 डॉलर मिले. वहीं, इससे पिछले वित्त वर्ष में कंपनी को प्रत्येक बैरल कच्चे तेल के उत्पादन पर 42.78 डॉलर मिले थे.

ये भी पढ़ें- सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से 7 कंपनियों का मार्केट कैप 1.16 लाख करोड़ रुपये बढ़ा, एचडीएफसी बैंक को सबसे अधिक फायदा

रूस-यूक्रेन युद्ध से हुआ लाभ
76.62 डॉलर ओएनजीसी को कच्चे तेल के उत्पादन पर मिलने वाली अब तक की सबसे अधिक कीमत है. रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद 2021 के आखिर में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में जोरदार उछाल आया और यह करीब 14 साल के उच्चस्तर 139 डॉलर प्रत बैरल पर पहुंच गए. इसी वृद्धि का लाभ ओएनजीसी को भी मिला. बता दें कि 2008 में जब कच्चे तेल के दाम 147 डॉलर प्रति बैरल के रिकॉर्ड स्तर पर थे तब ओएनजीसी को पेट्रोलियम उत्पादों की खुदरा बिक्री करने वाली कंपनियों को सब्सिडी देनी पड़ी थी जिसकी वजह से उसकी आय कम हुई थी. हालांकि, अब ओएनजीसी को अंतर्राष्ट्रीय कीमतों के हिसाब से ही भुगतान हो रहा है.

टाटा स्टील को छोड़ा पीछे
इससे पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बीते वित्त वर्ष में 67,845 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध लाभ कमाया था. वित्त वर्ष के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज की आमदनी 7,92,756 करोड रुपये रही थी. उसके बाद टाटा स्टील का स्थान था जिसने बीते वित्त वर्ष 33,011.18 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया. हालांकि, अब ओएनजीसी ने 40,306 करोड़ के मुनाफे के साथ उसे पीछे छोड़ दिया है. अब टाटा स्टील तीसरे, टीसीएस (38,449 करोड़ रुपये) चौथे और एसबीआई (31,676 करोड़ रुपये) पांचवें स्थान पर है.

ये भी पढ़ें- M&M Q4 Result : मार्च तिमाही में मुनाफा 4.5 गुना से अधिक बढ़कर 1,192 करोड़ रुपये हुआ, आय 28% बढ़ी

शेयरधारकों के लिए डिविडेंड की धोषणा
ओएनजीसी को वित्त वर्ष 2021-22 की चौथी तिमाही 8,859.54 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ मिला है जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में हुए 6,733.97 करोड़ रुपये के शुद्ध लाभ से 31.5 फीसदी अधिक है. कंपनी के बोर्ड ने शेयरधारकों के लिए 5 रुपये की फेस वैल्यु वाले शेयर पर 3.5 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से डिविडेंड की सिफारिश की है. कंपनी के शेयर शुक्रवार को एनएसई पर 5.33 फीसदी की गिरावट के साथ 143.80 रुपये पर बंद हुए.

Tags: ONGC

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर